Home /News /business /

चीन को पछाड़ निवेशकों के लिए पसंदीदा डेस्टिनेशन बना भारत

चीन को पछाड़ निवेशकों के लिए पसंदीदा डेस्टिनेशन बना भारत

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

साल 2021 में भारतीय टेक स्टार्टअप्स कंपनियों में वेंचर कैपिटल फंडिंग (VC Funding) रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है जिसने देश के डिजिटल इकोनॉमी में तेजी आई है. पिछले साल भारत में 35 से अधिक कंपनियां यूनिकॉर्न बनी और जोमैटो (Zomato) और नायका (Nykaa) जैसे आईपीओ का शानदार प्रदर्शन भारतीय स्टार्टअप के वैश्विक आकर्षण का एक स्पष्ट संकेत है. भारत के फंडिंग में वृद्धि हुई है, वहीं चीन के बारे में यह नहीं कहा जा सकता है. चीनी रेगुलेटर्स ने एंट ग्रुप के 37 बिलियन डॉलर के आईपीओ पर रोक लगा दी. अलग-अलग क्षेत्रों में कार्यरत कंपनियों पर रेगुलेटरी कार्रवाई ने निवेशकों को डराने का संकेत दिया.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. साल 2021 में भारतीय टेक स्टार्टअप्स कंपनियों में वेंचर कैपिटल फंडिंग (VC Funding) रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है जिसने देश के डिजिटल इकोनॉमी में तेजी आई है. पिछले साल भारत में 35 से अधिक कंपनियां यूनिकॉर्न बनी और जोमैटो (Zomato) और नायका (Nykaa) जैसे आईपीओ का शानदार प्रदर्शन भारतीय स्टार्टअप के वैश्विक आकर्षण का एक स्पष्ट संकेत है.

    भारत के फंडिंग में वृद्धि हुई है, वहीं चीन के बारे में यह नहीं कहा जा सकता है. चीनी रेगुलेटर्स ने एंट ग्रुप के 37 बिलियन डॉलर के आईपीओ पर रोक लगा दी. अलग-अलग क्षेत्रों में कार्यरत कंपनियों पर रेगुलेटरी कार्रवाई ने निवेशकों को डराने का संकेत दिया.

    ये भी पढ़ें- SBI ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! अब क्रेडिट कार्ड के जरिये EMI पर करेंगे खरीदारी तो लगेगा चार्ज और टैक्‍स, चेक करें डिटेल्‍स

    अलीबाबा (Alibaba) और टेनसेंट (Tencent) जैसे टेक दिग्गज तेजी से अधिकारियों के रडार पर आ गए हैं और कुछ रिपोर्टों के अनुसार, पिछले कुछ महीनों में चीनी फर्मों के वैल्यूएशन में 1 ट्रिलियन डॉलर से ज्यादा की कमी आई है.  टेनसेंट को मार्केट वैल्यू में 388 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ, जबकि जून में न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में एक ब्लॉकबस्टर आईपीओ के बावजूद चीन की राइड हेलिंग कंपनी दीदी ग्लोबल (Didi Global) की किस्मत भी स्पष्ट नहीं है.

    द फाइनेंशियल टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल अब तक, चीनी टेक फर्मों ने भारत के 5 बिलियन डॉलर की तुलना में 14 बिलियन डॉलर जुटाए हैं. फंड रेजिंग के ग्रोथ ट्रेजेक्टरी स्पष्ट रूप से भारत के पक्ष में हैं. चीन में निवेश किए गए प्रत्येक 1 डॉलर के के लिए भारतीय टेक शेयरों ने इस साल 1.5 डॉलर अब्जॉर्ब्ड  किया है. चीनी टेक स्टार्टअप के फंड रेजिंग में सात वर्षों में पहली बार गिरावट आने की उम्मीद है, जबकि भारत में यह 550 फीसदी तक बढ़ गया है.

    Tags: Business news in hindi, Start Up

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर