कोरोना का असर! अब पुलाव, बिरयानी और राजमा चावल भी बेचेगा भारत का यह बड़ा मल्टीप्लेक्स ब्रांड

फूड डिलिवरी के लिए की जोमाटो और स्विगी के साथ पार्टनरशिप

फूड डिलिवरी के लिए की जोमाटो और स्विगी के साथ पार्टनरशिप

आईनॉक्स आने वाले दिनों में पुलाव, बिरयानी, दाल मखनी, राजमा-चावल, चना-चावल, पास्ता, गार्लिक ब्रैड जैसे नए भोजन विकल्पों को पेश करेगी. कंपनी का कहना है कि वो ऐसे कस्टमर्स पर फोकस करेगी जो फिल्म भले ही ना देखें लेकिन उनके फूड प्रोडक्ट्स का लुत्फ उठाएंं.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना (covid-19) के असर से कोई नहीं बच पाया है. ऐसे में भारत के सबसे बड़े मल्टीप्लेक्स चेन में से एक ने कोरोना महामारी के कारण अब फूड एंड बेवरेज में भी उतरने का मन बना लिया है. आने वाले समय में आप मूवी की टिकट यहां से लें ना लें, यहां बना राजमा-चावल, पुलाव बिरयानी जैसी कई चीजें मंगवा सकेंगे. बात हो रही है आईनॉक्स मल्टीप्लेक्स (Inox Leisure) की, जिसने इसके लिए फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म जोमाटो (Zomata) और स्विगी (Swiggy) के साथ पार्टनरशिप भी की है. इसके बाद वो अपने फूड और बेवरेज प्रोडक्ट्स की डिलिवरी कस्टमर्स के घरों तक करेगा. आईनॉक्स को यह फैसला इसलिए भी लेना पड़ा क्योंकि कोरोना की दूसरी लहर के चलते एक बार फिर सिनेमा ऑपरेटर्स बुरी तरह से प्रभावित हैं. 



आईनॉक्स लेजियर लिमिटेड के सीईओ आलोक टंडन ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से बातचीत करते हुए कहा कि हम फूड और बेवरेज सेगमेंट पर फोकस कर रहे है और एक रोडमैप भी तैयार किया है जिसमें अपने फूड आइटम्स को ऑनलाइन फऊड ऑर्डरिंग प्लेटफॉर्म, स्विगी, जोमाटो, डाइनआउट के साथ अन्य प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर होम डिलिवर करवाएंगे. 



1915 से गिरकर 148 करोड़ रुपये हो गया रेवेन्यू



कंपनी को उम्मीद है कि उसके राजस्व में खाद्य और पेय पदार्थों का योगदान पिछले वित्तीय वर्ष से 19 प्रतिशत से बढ़कर भविष्य में 35 प्रतिशत हो जाएगा . कंपनी ने 31 मार्च 2021 को समाप्त वित्तीय वर्ष में 148 करोड़ रुपये की आय हुई थी जबकि पिछले साल 2019-20 में 1915 करोड़ रूपये का राजस्व था.  


ये भी पढ़ें - कोरोना संकट के बीच तेजी से बढ़ा निर्यात, फिर भी अप्रैल में व्‍यापार घाटा 120 फीसदी ज्‍यादा









फूड और बेवरेज से इतने राजस्व की उम्मीद



हम अपने नए इनोवेशन के शुरूआत के साथ जिसमें स्विगी जोमाटो जैसे प्लेटफॉर्म के साथ पार्टनरशिप के साथ फूड और बेवरेज में फोकस कर रेवेन्यू 30 से 35 फीसदी बढ़ाने का प्लान है. इसके लिए कंपनी नए फूड रेंज ऑफर करेगी. हालांकि टंडन ने इसके लिए तय समय अवधि के बारे में खुलासा नहीं किया कि नए प्रयोग से कब तक इस राजस्व में बढ़ोत्तरी की उम्मीद कर रहे है. पिछले दो वित्तीय वर्षों में कुल राजस्व में फूड और बेवरेज से कुल राजस्व 26 फीसदी था. इस साल लॉकडाउन के चलते इसमें गिरावट आई और यह 19 फीसद रहा. 



फिल्म ना देखे लेकिन फूड प्रोडक्ट्स खरीदे



टंडन ने कहा कि स्विगी और जोमाटो जैसे फूड एग्रीगेटर प्लेटफॉर्म के साथ जुड़ने के पीछे हमारा मकसद नॉन सिनेमा कस्टमर्स तक कनेक्ट करना और पहुंचना है. आइडिया यही है कि ऐसा कस्टमर्स बेस भी बनाया जाए जो हमारे फूड प्रोडक्ट्स खरीदे भले ही वो मूवी ना देखे. यह एक बड़ा कदम होगा सिनेमा के अलावा फूड पर फोकस करने का. पिछले बार के पेंडेमिक से हमे यह तो पता है कि कंज्यूमर अपने ब्रैंड पर भरोसा करता है खासतौर पर फूड एंड बेवरेज जैसी सर्विसेस को लेकर. हम भी इस कनेक्शन और भरोसा का लाभ उठाना चाह रहे है. 



ये भी पढ़ें - Samsung के इस महंगे फोन में आई कैमरा टूटने की समस्या! कोर्ट पहुंचे कस्टमर्स





ऐसा होगा कंपनी का नया मैन्यू



कंपनी काम कर रही है अपने मैन्यू पर साथ ही हम नए खाने-पीने की चीजें भी जल्द शुरू करने जा रहे है जिसमें पुलाव, बिरयानी, दाल मखनी, राजमा-चावल, चना-चावल, पास्ता, गार्लिक ब्रैड जैसे नए भोजन विकल्पों को पेश करेगी.  हम रेडी टू ईट उत्पादों की शुरूआत को नए सिरे से करने और अपनी सीमा का लगातार विस्तार करने के अवसर के रूप में देखेंगे. टंडन ने कहा कि कंपनी उन शहरों से ऑर्डर लेगी जहां वर्तमान में हमारे मल्टीप्लेक्स है. वही वर्ष 2021-22 में सिनेमा संचालन शुरू होने के बाद बहुत अच्छी गुणवत्ता वाले फूड प्रोडक्ट्स के साथ आएगे. वर्तमान में आईनॉक्स लीजर 69 शहरों में 153 मल्टीप्लेक्स में 648 स्क्रीन संचालित कर रहा है. 


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज