• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • पैसे जुटाने के लिए दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, हैदराबाद एयरपोर्ट की हिस्सेदारी भी बेचेगी मोदी सरकार, जानें पूरा प्लान

पैसे जुटाने के लिए दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, हैदराबाद एयरपोर्ट की हिस्सेदारी भी बेचेगी मोदी सरकार, जानें पूरा प्लान

Mumbai airport

Mumbai airport

केंद्र सरकार बेंगलुरु, हैदराबाद और दिल्ली में अपनी बची हुई हिस्सेदारी बेचने की तैयारी में है. असेट मॉनिटाइजेशन (asset monetization)के जरिए 2.5 लाख करोड़ रुपए जुटाने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए इस हिस्सेदारी की बिक्री की जाएगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. केंद्र सरकार बेंगलुरु, हैदराबाद और दिल्ली में अपनी बची हुई हिस्सेदारी बेचने की तैयारी में है. असेट मॉनिटाइजेशन (asset monetization)के जरिए 2.5 लाख करोड़ रुपए जुटाने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए इस हिस्सेदारी की बिक्री की जाएगी. सरकार तमाम सरकारी कंपनियों की सपंत्तियों को बेचकर अतिरिक्त पूंजी जुटाना चाहती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसके अलावा सरकार ने 13 और एयर पोर्ट की पहचान की है. जिनका फिस्कल ईयर 2021-22 में निजीकरण (privatisation) किया जाना है.

    कैबिनेट जल्द दे सकती है अप्रूवल
    सूत्रों के हवाले से दी गई जानकारी के मुताबिक, दिल्ली, मुंबई एरपोर्ट कामकाज देखने वाले जॉइंट वेंचर में विनिवेश (divestment) के लिए सिविल एविएशन मिनिस्ट्री (Ministry of Civil Aviation) जरूरी मंजूरी लेगा. इस प्रस्ताव को मंजूरी के लिए अगले कुछ दिनों में कैबिनेट के सामने रखा जाएगा.निजीकरण के लिए चुने गए अगले दौर के लिए 13 एयरपोर्ट में मुनाफे और गैर-मुनाफे वाले दोनों तरह के एयरपोर्ट शामिल किए जाएंगे. मोदी सरकार में निजी करण के पहले दौर में अडानी ग्रुप (Adani Group)को 6 एयरपोर्ट मिले थे. जिसमें लखनऊ. अहमदाबाद, जयपुर, मंगलुरु, तिरुवंतपुरम और गुवाहाटी शामिल हैं.

    ये भी पढ़ें- SBI Important Notice: आज नहीं कर पाएंगे UPI पेमेंट, केवल इन सेवाओं का इस्तेमाल करें ग्राहक

    AAI के पास पूरे देश में 100 से ज्यादा एयरपोर्ट
    सिविल एयविएशन मिनिस्ट्री के तहत आने वाले एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) के पास पूरे देश में 100 से ज्यादा एयरपोर्ट के प्रबंधन की जिम्मेदारी है. मुंबई एयरपोर्ट में अडानी की 74 फीसदी हिस्सेदारी है.जबकि 56 फीसदी हिस्सेदारी AAI की है. इसी तरह दिल्ली के इंटरनेशनल एयरपोर्ट में GMR की 54 फीसदी हिस्सेदारी है. एयरपोर्ट अथॉरिटी की 26 फीसदी हिस्सेदारी है. जबकि Fraport AG और Eraman Malaysia की 10-10 फीसदी हिस्सेदारी है. हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट में AAI के साथ आंध्र प्रदेश सरकार की 26 फीसदी हिस्सेदारी है. इसी तरह बेंगलुरु एयरपोर्ट में AAI के साथ कर्नाटक सरकार की 26 फीसदी हिस्सेदारी है.

    ये भी पढ़ें- सोम, मंगल और बुधवार को मिलेगा कमाई का मौका! आएंगे ये 5 IPO, जानें आपको कहां लगाना चाहिए अपना पैसा?

    100 सरकारी संपत्तियों की मोनिटाइजेशन की तैयारी
    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने साल 2021-22 के बजट भाषण के दौरान कहा था कि देश में नए इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए तमाम सरकारी कंपनियों के गैर कोर का असेट मोनोटाइजेशन काफी अहम भूमिका निभा सकता है. इसी तरह पीएम मोदी ने पिछले महीने कहा था कि सरकार ऑयल एंड गैस पइप लाइन जैसी 100 सरकारी संपत्तियों की मोनिटाइजेशन की तैयारी में हैं. जिससे 2.50 लाख करोड़ रुपये हासिल किए जा सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज