चीन से यूरिया का आयात होगा खत्‍म! 5 नए यूरिया प्‍लांट होंगे शुरू, पहले संयंत्र में अक्‍टूबर 2020 से शुरू होगा उत्‍पादन

भारत 2021 खत्‍म होने से पहले यूरिया को लेकर चीन पर निर्भरता खत्‍म करने की दिशा में काम कर रहा है.
भारत 2021 खत्‍म होने से पहले यूरिया को लेकर चीन पर निर्भरता खत्‍म करने की दिशा में काम कर रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) लगातार आत्‍मनिर्भर भारत (Atmanirbhar Bharat) अभियान को बढ़ावा दे रहे हैं. इस दिशा में भारत यूरिया (Urea) आयात के मामले में चीन पर निर्भरता खत्‍म करने के लिए 2021 तक 4 नए संयंत्र (Plants) शुरू करने की योजना पर काम कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 13, 2020, 10:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. चीन (China) से लगातार जारी तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आत्‍मनिर्भर भारत अभियान शुरू किया. वह लगातार इस अभियान को प्रोत्‍साहन भी दे रहे हैं. माना जा रहा है कि भारत यूरिया के मामले में सबसे पहले आत्‍मनिर्भर (Atmanirbhar Bharat) होगा. दरअसल, भारत ने चीन पर यूरिया आयात (Urea Import) की निर्भरता खत्‍म करने के लिए 4 नए संयंत्रों (New Plants) को 2021 तक शुरू करने को हरी झंडी दिखा दी है. वहीं, पांचवां यूरिया संयंत्र 2023 तक शुरू होने की उम्‍मीद जताई जा रही है.

हर संयंत्र की सालाना उत्‍पादन क्षमता होगी 12.7 टन
भारत ने 2019-20 में चीन से 85 करोड़ डॉलर से ज्‍यादा की 29 लाख टन यूरिया खाद का आयात किया. ये यूरिया चीन की सरकारी कंपनी वुहान इंजीनियरिंग (Wuhan Engineering) से खरीदी गई थी. इस दौरान भारत ने कुल 1.1 करोड़ टन यूरिया का आयात किया था. अब भारत चीन पर इसी निर्भरता को सबसे पहले खत्‍म करने के लिए पांच नए यूरिया संयंत्र स्‍थापित करने की दिशा में काम कर रहा है. हर संयंत्र की सालाना उत्‍पादन क्षमता (Production Capacity) 12.7 लाख टन यूरिया की होगी.

ये भी देखें- केंद्र सरकार ने हटाई पाबंदी! अब मास्‍क और पीपीई किट बनाने में इस्‍तेमाल होने वाले खास फैब्रिक का भी होगा निर्यात
एक संयंत्र में इसी साल अक्‍टूबर तक शुरू होगा उत्‍पादन


एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि इन पांचों संयंत्रों के साथ ही मौजूदा 3 संयंत्रों में उत्‍पादन शुरू होते ही भारत यूरिया के मामले में 2023-24 तक पूरी तरह से आत्‍मनिर्भर (Self-reliant) हो जाएगा. अधिकारी ने बताया कि मौजूदा तीनों संयंत्रों में भी गैस की उपलब्‍धता नहीं होने के कारण उत्‍पादन शुरू नहीं हो रहा है. उम्‍मीद की जा रही है कि नए पांच संयंत्रों में से एक में रबी की फसल के तुरंत बाद अक्‍टूबर 2020 तक उत्‍पादन शुरू हो जाएगा. ये संयंत्र तेलंगाना (Telangana) के रामागुंडम में है.

ये भी पढ़ें- खाने-पीने की चीजें हुईं सस्‍ती! खाद्य महंगाई दर 9 महीने के निचले स्‍तर पर, जून में रही 7.87 फीसदी



यूपी समेत इन राज्‍यों में होंगे पांचों नए यूरिया संयंत्र
तेलंगाना का यह प्‍लांट सरकारी रिवाइवल प्रोजेक्‍ट (Revival Project) है. वहीं, बाकी प्‍लांट्स में एक उत्‍तर प्रदेश (UP) के गोरखपुर, एक झारखंड (Jharkhand) के सिंदरी, एक बिहार (Bihar) के बरौनी और एक ओडिशा (Odisha) के तलछर में शुरू किया जाएगा. तेलंगाना के अलावा बाकी चारों संयंत्रों को सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी हिंदुस्‍तान उर्वरक व रसायन स्‍थापित कर रही है. ये कोल इंडिया लिमिटेड (CIL), एनटीपीसी (NTPC), इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) और एफसीआईएल (FCIL) का संयुक्‍त उपक्रम है. इन सभी संयंत्रों के 2021 की रबी फसल (Rabi Crop) के तैयार होने से पहले ही शुरू होने की उम्‍मीद है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज