अपना शहर चुनें

States

इस बैंक ने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा! अब कम देनी होगी होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन की EMI

इंडसइंड बैंक
इंडसइंड बैंक

इंडसइंड बैंक (IndusInd Bank) ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (MCLR ) में 0.05 फीसदी की कटौती की है. इस कटौती के साथ ही IndusInd Bank का एक साल के लिए MCLR रेट 8.65 फीसदी से घटाकर 8.60 फीसदी हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 7:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आपका अकाउंट इंडसइंड बैंक(IndusInd Bank)में है तो आपके ल‍िए अच्‍छी खबर है. दरअसल, प्राइवेट सेक्टर के इंडसइंड बैंक ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (MCLR ) में 0.05 फीसदी की कटौती की है. इस कटौती के साथ ही IndusInd Bank का एक साल के लिए MCLR रेट 8.65 फीसदी से घटाकर 8.60 फीसदी हो गई है. बैंक की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार नई दरें 22 फरवरी 2021 यानी आज से प्रभावी हो गई हैं.

लोन लेना पड़ेगा सस्ता
बता दें कि IndusInd Bank की MCLR रेट में इस कटौती के साथ ही बैंक से जुड़े होम लोन, पर्सनल लोन समेत अन्य लोन की EMI कम हो जाएगी. इंडसइंड बैंक के मुताबिक, एक दिन के लिए MCLR को कम कर 8.25%, एक महीने की अवधि के लिए 8.30% तो वहीं, तीन महीने की समय सीमा तक के लिए 8.35 % कर दिया गया है. इतना ही 6 महीने की समय अवधि के लिए MCLR को 8.50% कर दिया है. एक साल की अवधि के लिए एमसीएलआर को 8.60% तो तीन साल के लिए एमसीएलआर को 8.95% कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें- Good News: इन राज्यों ने दी बड़ी राहत! 5रुपए/लीटर से ज्यादा सस्ता हुआ पेट्रोल, जानें आपका शहर है या नहीं?
क्या है MCLR फॉर्मूला?


बैंकों के लिए लेंडिंग इंटरेस्‍ट रेट तय करने के फॉर्मूले का नाम मार्जिनल कॉस्‍ट ऑफ फंड लेंडिंग रेट (एमसीएलआर) है. आरबीआई द्वारा बैंकों के लिए तय फॉर्मूला फंड की मार्जिनल कॉस्‍ट पर आधारित है. इस फॉर्मूले का उद्देश्य कस्‍टमर को कम इंटरेस्‍ट रेट का फायदा देना और बैकों के लिए इंटरेस्‍ट रेट तय करने की प्रक्रिया में पारदर्शिता लाना है.

ये भी पढ़ें-अच्छी खबर: अब डिजिटल पेमेंट में नहीं होगी कोई परेशानी! बैंकों ने मिलकर लिया ये बड़ा फैसला

कैसे तय होता है MCLR?
जब भी बैंक लेंडिंग रेट तय करते हैं, तो वे बदली हुई स्थ‍ितियों में खर्च और मार्जिनल कॉस्ट को भी कैलकुलेट करते हैं. बैंकों के स्तर पर ग्राहकों को डिपॉजिट पर दिए जाने वाली ब्याज दर शामिल होती है. MCLR को तय करने के लिए चार फैक्टर को ध्यान में रखा जाता है. इसमें फंड का अतिरिक्त चार्ज भी शामिल होता है. निगेटिव कैरी ऑन CRR भी शामिल होता है. साथ ही, ऑपरेशन कॉस्ट औक टेन्योर प्रीमियम शामिल होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज