अपना शहर चुनें

States

मैच्योरिटी से पहले फिक्स्ड डिपॉजिट तोड़ने पर कैसे लगती है पेनाल्टी, जानिए डिटेल्स

प्रीमेच्योर बिद्ड्रॉल निवेशकों को जरूरत पड़ने पर मैच्योरिटी से पहले निवेश का पैसा निकालने की सुविधा देता है.
प्रीमेच्योर बिद्ड्रॉल निवेशकों को जरूरत पड़ने पर मैच्योरिटी से पहले निवेश का पैसा निकालने की सुविधा देता है.

इमरजेंसी में पैसों की जरूरत के लिए ग्राहक मैच्योरिटी पहले अपने एफडी (FD) को तोड़ते हैं तो उन्हें जुर्माना के रूप में एक तय अमाउंट बैंक को देना होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2021, 5:49 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्राइवेट सेक्टर के बैंक एक्सिस बैंक (Axis Bank) ने अपने ग्राहकों को बड़ी राहत दी है. हाल ही में बैंक ने 15 दिसंबर 2020 या उसके बाद 2 साल या इससे अधिक टाइम के लिए बुक किए गए नए रिटेल टर्म डिपॉजिट पर समय पहले बंद करने पर जुर्माना नहीं लगाने की घोषणा की है. यह छूट नए FD और RD में मिलेगी.

बैंक ने कहा कि ग्राहक को इस छूट का लाभ उठाने के लिए उन्हें अपनी FD या RD को 15 महीने तक चालू रखना होगा. 15 महीने की अवधि पूरा होने के बाद अगर ग्राहक अपनी FD या RD तोड़ते हैं तो उन्हें किसी भी तरह की प्री-मैच्योर पेनल्टी नहीं देनी होगी. बैंक के एफडी और आरडी के ग्राहक यदि जमा योजना के मूलधन के 25 प्रतिशत तक के बराबर पहली निकासी करते हैं, तो इसके लिए भी उनसे कोई जुर्माना वसूला नहीं जाएगा. इस खबर में हम बात करेंगे कि आमतौर पर समय से मैच्योरिटी डेट से पहले फिक्स्ड डिपॉजिट तोड़ने पर जुर्माना कैसे लगाया जाता है.

ये भी पढ़ें- Bank Interest: केनरा और IDBI बैंक के सेविंग्स अकाउंट पर मिल रहा है सबसे ज्यादा ब्याज, जानें डिटेल्स



क्या है प्रीमैच्योर बिद्ड्रॉल
प्रीमेच्योर बिद्ड्रॉल निवेशकों को जरूरत पड़ने पर मैच्योरिटी से पहले निवेश का पैसा निकालने की सुविधा देता है. इमरजेंसी में पैसों की जरूरत के लिए ग्राहक समय से पहले अपने एफडी को तोड़ते हैं तो उन्हें जुर्माना के रूप में एक तय अमाउंट बैंक को देना होता है. ट्रेडिशनल एफडी में प्रीमैच्योर बिद्ड्रॉल पर ब्याज राशि पर आम तौर पर 1 फीसदी का जुर्माना लागू होता है.

उदाहरण: 5 साल की मेच्योरिटी, लेकिन 1 साल में तोड़ना है FD
निवेश: 1 लाख रुपये
एफडी की अवधि: 5 साल
5 साल पर ब्याज: 7 फीसदी
1 साल पर ब्याज: 6 फीसदी

अगर पेनल्टी 1 फीसदी है और एफडी 1 साल बाद तोड़ते हैं तो प्रभावी ब्याज दर 6-1=5 फीसदी मानी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज