आयुष मंत्रालय की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट IMPCL ने किया रिकॉर्ड कारोबार, जानें कितना हुआ मुनाफा

आयुष मंत्रालय

आयुष मंत्रालय

इंडियन मेडिसिन फ़ार्मास्यूटिकल कॉरपोरेशन लिमिटेड (IMPCL) ने 2020-21 में रिकॉर्ड 164 करोड़ रुपये का कारोबार किया है. आयुष मंत्रालय ने कहा कि कंपनी ने लगभग 12 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली: आयुष मंत्रालय के तहत आने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट इंडियन मेडिसिन फ़ार्मास्यूटिकल कॉरपोरेशन लिमिटेड (IMPCL) ने 2020-21 में रिकॉर्ड 164 करोड़ रुपये का कारोबार किया है. आयुष मंत्रालय ने कहा कि कंपनी ने लगभग 12 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया, जो अब तक रिकॉर्ड है. इससे पहले कंपनी ने 2019-20 में 97 करोड़ रुपये का कारोबार किया था. बयान के मुताबिक, इस इजाफे से कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बीच लोगों में आयुष उत्पादों और सेवाओं की बढ़ती स्वीकार्यता के बारे में पता चलता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हाल में कुछ टिप्पणियों के साथ आईएमपीसीएल के 18 आयुर्वेदिक उत्पादों की सिफारिश डब्ल्यूएचओ जीएमपी/ सीओपीपी प्रमाणन के लिए की थी. ये प्रमाणन आईएमपीसीएल के उत्पादों की गुणवत्ता की पुष्टि करके हैं. इससे कंपनी को निर्यात शुरू करने में भी मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ें: SBI सिर्फ 156 रुपये कराएगा आपके कोरोना का इलाज, मिलेगी 2 लाख की मदद, जानें क्या है प्लान

पिछले 2 महीने में बेचीं 2 लाख किट
आईएमपीसीएल सबसे भरोसेमंद आयुष दवाओं का विनिर्माता है. बयान के मुताबिक कोविड-19 महामारी के दौरान कंपनी ने बेहद कम समय में देश की जरूरतों को पूरा किया और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली दवाओं को बाजार में पेश किया. ऐसी ही एक किट की कीमत 350 रुपये है, जो अमेजन पर उपलब्ध है. पिछले दो महीनों में करीब दो लाख किट बेची जा चुकी है.

24 घंटे में आए 1.84 लाख मामले

आपको बता दें भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना के 1.84 लाख से अधिक नए मामले सामने आए हैं. जबकि 1000 से अधिक लोगों की मौत हुई है. ऐसे में आयुष मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि लोग जितना अधिक हो सके घर में काढ़ा बनाकर पिएं और हल्‍दी का प्रयोग करें। साथ लोगों को च्‍यवनप्राश खाने की भी सलाह दी गई है.



यह भी पढ़ें: लॉकडाउन को लेकर वित्तमंत्री ने दी ये बड़ी जानकारी, आप भी जान लें क्या फिर से देश हो रहा है लॉक?

आयुष मंत्रालय ने दी ये सलाह

आयुष मंत्रालय का ये भी कहना है कि पिछले वर्ष जब कोरोना महामारी चरम पर थी, तब भारतीयों ने बड़ी संख्‍या में इन पारंपरिक चीजों का सेवन किया था और महामारी के प्रति अपनी इम्‍यूनिटी को बूस्‍ट किया था. ऐसे में अब भी लोगों को वही उपाय अपनाकर इस महामारी को हराने के लिए प्रयास करने होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज