लाइव टीवी

पॉलीथिन पर रोक से बढ़ेगी पेपर बैग की डिमांड, ऐसे शुरू करें बिजनेस, होगी लाखों में कमाई

News18Hindi
Updated: September 18, 2019, 1:36 PM IST
पॉलीथिन पर रोक से बढ़ेगी पेपर बैग की डिमांड, ऐसे शुरू करें बिजनेस, होगी लाखों में कमाई
इस महीने 5 दिन पहले आ जाएगी सैलरी

भारत सरकार ने 2 अक्टूबर (October 2) से देशभर में प्लास्टिक (Plastic) करने का प्लान किया है. पॉलीथिन के खत्म होने से प्लास्टिक बैग्स का कारोबार भी खत्म हो जाएगा. जिसके बाद पेपर बैग या पेपर कैरी बैक (Paper carry bags) की डिमांड में तेजी आना तय है. आइए आपको बताते हैं कैसे शुरू करे सकते हैं आप पेपर बैग बनाने का बिज़नेस.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2019, 1:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार 2 अक्टूबर (October 2) से देशभर में प्लास्टिक (Plastic) को बंद करने की तैयारी है. ऐसे में प्लास्टिक बैग (Bags), कप (Cups) और स्ट्रॉ (Straws) पर पाबंदी लगा जाएगी. प्रदूषण के बढ़ते खतरे को देखते हुए पॉलीथिन को बड़ा खतरा है. पॉलीथिन के खत्म होने से प्लास्टिक बैग्स का कारोबार भी खत्म हो जाएगा. इसके डिजाइनर पेपर बैग या पेपर कैरी बैक (Paper carry bags) की डिमांड मार्केट में तेज आएगी. पेपर बैग पर्यावरण के लिए पूरी तरह सुरक्षित हैं. अगर कम पैसों में बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो पेपर बैग मेकिंग बिजनेस आपके लिए रोजगार का बेहतर विकल्‍प है.



आइए आपको बताते हैं कि इस  बिजनेस को आप कैसे शुरू कर सकते हैं और इससे आपको कितनी कमाई होगी.

आजकल पेपर बैग का इस्‍तेमाल लगभग हर जगह हो रहा है, चाहे वो गारमेंट शॉप, बैकरी, शू और चप्‍पल शॉप, ग्रोसरी शॉप, बुक शॉप, स्‍वीट शॉप या फिर कोई और हो. अब कस्टमर्स भी पेपर बैग की ही डिमांड करते हैं. ऐसे समय में यदि आप पेपर बैग बनाने की यूनिट लगाते हैं तो यह फायदे का बिजनेस साबित हो सकता है.



सरकार देगी 1 करोड़ का लोन: अगर आप पेपर बैग बनाने की यूनिट लगाना चाहते हैं तो सरकार आपको एक करोड़ रुपए तक का लोन दे सकती है. यह लोन आपको उद्यमी मित्र नाम की सरकारी योजना के तहत मिलता है. आगे जानिए इस बिजनेस की अन्‍य बारीकियों के बारे में-

कितने में शुरू होगी यूनिट: केंद्र सरकार की उद्यमी मित्र योजना के तहत, अगर आप अपनी यूनिट लगाने के लिए लैंड और बिल्डिंग परचेज करते हैं तो आपको लगभग 32 लाख रुपए इस पर खर्च करने होंगे. हालांकि आप किराये की बिल्डिंग में भी यह यूनिट लगा सकते हैं.
Loading...



ट्रेनिंग के लिए भी सपोर्ट करेगी सरकार: पेपर पैकेजिंग प्रोडक्‍ट्स के लिए इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ पैकेजिंग मुंबई और उनकी ब्रांच की ओर से ट्रेनिंग दी जाती है. इसी तरह की ट्रेनिंग नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ डिजाइन अहमदाबाद और उसकी ब्रांच द्वारा बैग और पाउच के डिजाइन के लिए दी जाती है. इसके अलावा आप उद्यमी मित्र की वेबसाइट www.udyamimitra.in पर हैंड होल्डिंग सर्विसेज, मेंटरिंग आदि के बारे में पूरी जानकारी ले सकते हैं.

मशीनरी का खर्च: आपको प्‍लांट एंड मशीनरी पर 14.65 लाख रुपए का खर्च करना होगा. अन्‍य एसेट के नाम पर 3 लाख, पीएंडपी एक्‍सपेंस पर 2.15 लाख रुपए, कंटीजैंस पर 4.67 लाख रुपए और वर्किंग कैपिटल मार्जिन के तौर 91.64 लाख रुपए यानी कुल 1 करोड़ 48 लाख रुपए की प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट बनानी होगी. वर्किंग कैपिटल में रॉ-मैटिरियल भी शामिल होगा.



इतना होगा प्रॉफिट: प्रोजेक्‍ट प्रोफाइल के मुताबिक, पहले साल में आपको 1 लाख 76 हजार रुपए का कुल प्रॉफिट हो सकता है. दूसरे साल में आपको 6 लाख 7 हजार रुपए का और उसके अगले साल बढ़कर 10 लाख 78 हजार रुपए तक का प्रॉफिट हो सकता है. चौथे साल में यह 12 लाख 17 हजार और पांचवें साल में 13 लाख 56 हजार रुपए का प्रॉफिट हो सकता है.

कितना मिलेगा लोन: उद्यमी मित्र के मुताबिक आपको प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट में से लगभग 1 करोड़ 3 लाख रुपए का लोन मिल सकता है. आपको खुद लगभग 45 लाख रुपए का इंतजाम करना पड़ सकता है.
ये भी पढ़ें:

EXCLUSIVE: अब ट्रेन में सफर नहीं कर पाएंगे क्रिमिनल, रेलवे उठाएगा ये कदम

सरकार को झटका! ऑटो, बिस्कुट पर GST रेट घटाने का प्रस्ताव खारिज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पैसा बनाओ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 6:04 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...