लाइव टीवी

नहीं बदलेगा PNB का नाम, इन दो बैंकों का होगा विलय, आपके पैसे पर होगा ये असर

News18Hindi
Updated: February 11, 2020, 8:17 PM IST
नहीं बदलेगा PNB का नाम, इन दो बैंकों का होगा विलय, आपके पैसे पर होगा ये असर
आप पर होगा ये असर

Bank Merger: PNB की तरफ से यह वक्तव्य ऐसे समय आया है जब यूबीआई के एक अधिकारी ने कहा कि सरकार विलय के बाद बनने वाले नये बैंक का नया नाम और लोगो घोषित कर सकती है. तीनों बैंकों का विलय एक अप्रैल 2020 से अस्तित्व में आ जायेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2020, 8:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब नेशनल बैंक (PNB) नेने मंगलवार को कहा कि दो अन्य बैंकों के विलय के बाद बैंक का नाम बदलने का कोई प्रस्ताव नहीं है. सरकार ने PNB के साथ सार्वजनिक क्षेत्र के दो अन्य बैंकों ओरिएंटल बैंक आफ कॉमर्स (OBC) और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (UBI) के विलय का फैसला किया है. PNB की तरफ से यह वक्तव्य ऐसे समय आया है जब यूबीआई के एक अधिकारी ने कहा कि सरकार विलय के बाद बनने वाले नये बैंक का नया नाम और लोगो घोषित कर सकती है. तीनों बैंकों का विलय एक अप्रैल 2020 से अस्तित्व में आ जायेगा. नया बैंक SBI के बाद देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक होगा जिसका कुल व्यापार और आकार 18 लाख करोड़ रुपये का होगा.

इन बैंकों का होगा विलय
पीएनबी ने एक ट्वीट में कहा, पंजाब नेशनल बैंक यह स्पष्ट करता है कि बैंक का नाम बदलने का कोई प्रस्ताव नहीं है. वित्त मंत्री (Finance Minister) निर्मला सीतारमण ने पिछले साल सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों का एक दूसरे में विलय कर चार बैंक बनाने की घोषणा की थी. ओबीसी और यूबीआई बैंक का पीएनबी में विलय करने का फैसला किया गया. इस विलय के बाद पीएनबी सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा बड़ा बैंक बन जायेगा.

इसके अलावा सिंडीकेट बैंक (Syndicate Bank) का केनरा बैंक (Canara Bank) में, इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) का इंडियन बैंक (Indian Bank)  के साथ और इसी प्रकार आंध्र बैंक (Andhra Bank) और कारपोरेशन बैंक (Corporation Bank) का यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (Union Bank of India) के साथ विलय करने की घोषणा की गई.

ये भी पढ़ें: 14 करोड़ किसानों के लिए बड़ी खबर! 6000 रु वाली पीएम-किसान के साथ अब मिलेंगे लाखों रुपये के तीन फायदे



ओबीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक मुकेश कुमार जैन ने कहा कि ओबीसी, यूबीआई और पीएनबी का प्रस्तावित विलय समानता के आधार पर होगा. उन्होंने कहा, हमने वित्त मंत्री से आग्रह किया है कि तीनों बैंकों के विलय के बाद बनने वाले बैंक का नाम या तो तीनों बैंकों के अलग होना चाहिये अथवा यह नाम तीनों की पुरानी पहचान को बरकरार रखते हुये रखा जाना चाहिये. इससे नये नाम में तीनों की समान भागीदारी का एहसास होगा.

इससे पहले इस तरह का विलय विजय बैंक (Vijaya Bank) और देना बैंक (Dena Bank) का बैंक ऑफ बड़ौदा (BOB) में हो चुका है जहां विलय के बाद सबसे बड़े बैंक ऑफ बड़ौदा के नाम पर ही नये बैंक का नाम रखा गया.

खाताधारकों पर होगा ये असर
पीएनबी में ओबीसी और यूनाइटेड बैंक के विलय के बाद इन बैंकों के ग्राहकों को कुछ कागजी काम करने होंगे. ग्राहकों को नया अकाउंट नंबर और कस्टमर आईडी मिल सकता है. जिन ग्राहकों को नए अकाउंट नंबर या IFSC कोड मिलेंगे, उन्हें नए डिटेल्स इनकम टैक्स डिपार्टमेंट, इंश्योरंस कंपनियों, म्यूचुअल फंड, नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) आदि में अपडेट करवाने होंगे.

ये भी पढ़ें: ATM मशीन में अटक गया है डेबिट कार्ड, वापस पाने का है ये आसान तरीका



SIP या लोन EMI के लिए ग्राहकों को नया इंस्ट्रक्शन फॉर्म भरना पड़ सकता है. नई चेकबुक, डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड इशू हो सकता है. फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) या रेकरिंग डिपॉजिट (आरडी) पर मिलने वाले ब्याज में कोई बदलाव नहीं होगा. जिन ब्याज दरों पर व्हीकल लोन, होम लोन, पर्सनल लोन आदि लिए गए हैं, उनमें कोई बदलाव नहीं होगा. कुछ शाखाएं बंद हो सकती हैं, इसलिए ग्राहकों को नई शाखाओं में जाना पड़ सकता है. मर्जर के बाद एंटिटी को सभी इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सर्विस (ECS) निर्देशों और पोस्ट डेटेड चेक को क्लीयर करना होगा.

ये भी पढ़ें: इन बैंकों में FD कराने पर सबसे फास्ट होगा आपका पैसा डबल, 9% ब्याज पाने का मौका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 6:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर