मोदी सरकार ने बैंक कर्मचारियों को दिया भरोसा, नहीं होगा नौकरियों पर कोई संकट

News18Hindi
Updated: August 31, 2019, 9:22 AM IST
मोदी सरकार ने बैंक कर्मचारियों को दिया भरोसा, नहीं होगा नौकरियों पर कोई संकट
इस विलय के बाद बैंक कर्मचारी टेंशन में हैं कि कही इससे उनकी नौकरियों पर तो खतरा नहीं है? बैंक कर्मचारियों की इसी टेंशन को दूर करते हुए वित्त सचिव राजीव कुमार ने कहा कि इससे इन बैंकों के कर्मचारियों की नौकरी पर कोई संकट पैदा नहीं होगा.

इस विलय के बाद बैंक कर्मचारी टेंशन में हैं कि कही इससे उनकी नौकरियों पर तो खतरा नहीं है? बैंक कर्मचारियों की इसी टेंशन को दूर करते हुए वित्त सचिव राजीव कुमार ने कहा कि इससे इन बैंकों के कर्मचारियों की नौकरी पर कोई संकट पैदा नहीं होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2019, 9:22 AM IST
  • Share this:
केंद्र की मोदी सरकार की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कल बैंकों के महाविलय की घोषणा कर दी है.  इस विलय के बाद अब देश में 12 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक रह गए हैं. आपको बता दे कि 2017 में देश में 27 सरकारी बैंक थे, जिनकी संख्या घटकर अब 12 रह गई है क्योंकि मोदी सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में भी बैंक ऑफ बड़ौदा में विजया बैंक और देना बैंक का विलय किया था.

इस विलय के बाद बैंक कर्मचारी टेंशन में हैं कि कही इससे उनकी नौकरियों पर तो खतरा नहीं है. बैंक कर्मचारियों की इसी टेंशन को दूर करते हुए वित्त सचिव राजीव कुमार ने कहा कि इससे इन बैंकों के कर्मचारियों की नौकरी पर कोई संकट पैदा नहीं होगा. इस विलय से किसी भी बैंक के कर्मचारी की नौकरी नहीं जाएगी. उन्होंने कहा कि बड़े बैंकों को फोकस ग्लोबल बाजार पर रहेगा. मंझले बैंक राष्ट्रीय स्तर पर और छोटे बैंक स्थानीय स्तर पर फोकस करेंगे.

ये भी पढ़ें: 10 सरकारी बैंकों का विलय, यहां आपका अकाउंट है तो ये होगा असर

अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ का कहना है कि सरकार का ये प्रस्ताव बिलकुल खबर है इससे न तो इकॉनमी को फायदा होगा और न ही बैंकों को. वहीं बैंक इंप्लाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीईएफआई) के महासचिव देबाशीष बसु चौधरी का कहना है की यह फैसला बैंकिंग प्रणाली को कमजोर कर सकता है. उन्होंने कहा कि हम सभी बैंक यूनियन साथ में इस फैसले का विरोध करेंगे. इस प्रदर्शन में भारत के सभी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के 9 संघ और उनके प्रतिनिधित्व शामिल होंगे.

SBI दूसरे नंबर पर आ जाएगा
बता दें कि इसके साथ ही इस विलय के बाद देश का सबसे बड़ा सरकार बैंक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया दूसरे पर आ जाएगा. केनरा बैंक में सिंडिकेट बैंक का मर्जर किया जा रहा है. इससे यह देश का चौथा सबसे बड़ा बैंक होगा. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का मर्जर होगा और यह देश का पांचवा सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक होगा.

ये भी पढ़ें: 6 करोड़ PF खाताधारकों के लिए खुशखबरी! मिलेगा ज्यादा ब्याज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 9:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...