लाइव टीवी

इस साल राजकोषीय घाटा बढ़कर 3.8 फीसदी हो सकता है: रिपोर्ट

भाषा
Updated: January 24, 2020, 10:57 PM IST
इस साल राजकोषीय घाटा बढ़कर 3.8 फीसदी हो सकता है: रिपोर्ट
राजकोषीय घाटा बढ़कर 3.8 फीसदी हो सकता है

बैंक आफ अमेरिका सिक्योरिटी ने शुक्रवार को कहा कि चालू वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटा बढ़कर 3.8 फीसदी हो सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. चालू वित्त वर्ष 2019-20 में देश का राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) बढ़कर सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के 3.8 प्रतिशत पर पहुंच सकता है. बैंक आफ अमेरिका सिक्योरिटीज की शुक्रवार को जारी एक रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया गया है.

बजट में उपभोग बढ़ाने पर बढ़ाने पर जोर देगी सरकार
रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार आगामी बजट में 2020-21 के लिए राजकोषीय घाटे का 3.5 प्रतिशत का लक्ष्य तय कर सकती है. आम बजट एक फरवरी को पेश किया जाना है. रिपोर्ट में कहा गया है कि आम बजट आधार स्तर पर आयकर कटौती, लघु और मझोले उपक्रमों और आवास के लिए ब्याज सहायता के जरिये उपभोग मांग बढ़ाने पर केंद्रित होगा.

क्या होता है राजकोषीय घाटा

आसान भाषा में समझें तो सरकार की कुल कमाई और खर्च के अंतर को राजकोषीय घाटा कहा जाता है. जब सरकार अपनी कुल कमाई से अधिक खर्च करती है तो उसे बाजार से कर्ज लेना पड़ता है. वहीं, सरकार की राजस्व प्राप्ति और राजस्व व्यय के बीच के अंतर को राजस्व घाटा कहते हैं. इससे सरकार के मौजूदा खर्च और आमदनी का पता चलता है.

यह भी पढ़ें: रोजाना की शॉपिंग पर लगने वाले इन चार्जेस को खत्म करेगी सरकार, तैयारी पूरी

आर्थिक वृद्धि दर पांच प्रतिशत रहने का अनुमानचालू वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर पांच प्रतिशत रहने का अनुमान है. रिपोर्ट में कहा गया है कि उपभोक्ता मांग में कमी इसकी प्रमुख वजह है. प्रधानमंत्री आर्थिक सलाहकार समिति के चेरयमैन बिबेक देबरॉय ने भी शुक्रवार को कहा कि चालू वित्त वर्ष जीडीपी वृद्धि दर 5 फीसदी और अगले वित्त वर्ष में यह 6-6.5 फीसदी रह सकती है.

व्यय में सुधार करने की जरूरत
वहीं पूर्व वित्त सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा कि बड़े पैमाने पर व्यय सुधार करने की जरूरत है. उन्होंने शुक्रवार को कहा कि इससे करों के रूप में जुटाए गए धन का उत्पादक इस्तेमाल सुनिश्चित हो सकेगा. गर्ग ने कहा कि 27.86 लाख करोड़ रुपये के बजटीय व्यय का एक बड़ा हिस्सा ब्याज भुगतान और प्रतिष्ठान के खर्च में निकल जाता है. गर्ग ने ब्लॉगपोस्ट में कहा, ‘‘केंद्रीय व्यय कार्यक्रम में व्यापक पैमाने पर सुधारों की जरूरत है.’’

यह भी पढ़ें: इस देश में बना दुनिया का सबसे छोटा सोने का सिक्का, जानिए इसकी खासियत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2020, 10:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर