लाइव टीवी

बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने ग्राहकों को दिया तोहफा, कम हो गई होम-ऑटो लोन की EMI

पीटीआई
Updated: October 10, 2019, 3:18 PM IST
बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने ग्राहकों को दिया तोहफा, कम हो गई होम-ऑटो लोन की EMI
बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने एमसीएलआर में 0.10 प्रतिशत की कटौती की

बैंक ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि एक साल की MCLR दर अब 8.40 फीसदी रहेगी. यह कटौती 8 अक्टूबर से लागू हो गई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ महाराष्ट्र (BOM) ने मार्जिनल कॉस्ट लेंडिंग रेट (MCLR) में 0.10 फीसदी तक की कटौती की है. बैंक ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि एक साल की MCLR दर अब 8.40 फीसदी रहेगी. यह कटौती 8 अक्टूबर से लागू हो गई है.

एक दिन से लेकर छह महीने के लोन पर एमसीएलआर को 0.10 फीसदी घटाकर 8.05 से 8.30 फीसदी किया गया है. बैंक ने रेपो रेट से जुड़ी लोन दर को भी 8 अक्टूबर से 0.25 फीसदी घटाकर 8.45 फीसदी से 8.20 फीसदी कर दिया है. बैंक ने अपनी आधार दर को सालाना 9.50 फीसदी पर कायम रखा है.

OBC और SBI ने भी घटाई दरें- आरबीआई द्वारा रेपो रेट में कटौती के बाद ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने भी ग्राहकों को तोहफा दिया है. ओबीसी और एसबीआई ने एमसीएलआर में कटौती की है. इस कटौती के बाद बैंक के होम लोन, ऑटो लोन आदि सस्ते हो गए हैं.

ये भी पढ़ें: झटका! मूडीज ने भारत का ग्रोथ रेट अनुमान घटाकर 5.8 फीसदी किया

क्‍या होता है MCLR- बैंकों के एमसीएलआर में उसकी फंड की लागत दी होती है, जिसे बैंक हर महीने घोषित करते हैं. बेहतर करंट अकाउंट और सेविंग अकाउंट डिपॉजिट होने की वजह से छोटे बैंकों के मुकाबले बड़े बैंकों का कम एमसीएलआर होता है. एमसीएलआर को इंटरनल बेंचमार्क माना जाता है क्योंकि कम लागत वाले फंड जुटाने के लिए बैंक की अपनी क्षमता एमसीएलआर में एक महत्वपूर्ण फैक्टर है.

कोई भी बैंक एमसीएलआर पर उधार देता है लेकिन इससे कम पर बैंक उधार नहीं दे सकता है. होम लोन की ब्याज दरें या तो एमसीएलआर के बराबर होंगी या उससे ज्यादा होंगी. बैंकों के एमसीएलआर बढ़ने का मतलब है कि कर्ज लेने वाले को ज्यादा ईएमआई और ब्याज देना होगा.

MCLR में कैसे तय होता है लेंडिंग रेट- एमसीएलआर से जुड़े होम लोन में जब होम लोन की अवधि पूरी नहीं हो जाती है तब तक EMI की रकम स्थिर रहेगी. ऐसे लोन्स में प्रिंसिपल रिपेमेंट के मुकाबले शुरुआती वर्षों में इंटरेस्ट का हिस्सा ज्यादा होता है. MCLR लोन में, बैंक एक मार्क-अप, स्प्रेड या मार्जिन चार्ज कर सकते हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें: जेपी के घर खरीदारों के लिए खुशखबरी, सरकार ₹33 हजार करोड़ का टैक्स कर सकती है माफ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 10, 2019, 3:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...