बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने किया कमाल, लोन और डिपॉजिट ग्रोथ के मामले में PSU बैंकों में टॉप पर

बैंक ऑफ महाराष्ट्र

बैंक ऑफ महाराष्ट्र

डिपॉजिट राशि जुटाने के लिहाज से बीओएम (BoM) लगभग 16 फीसदी की वृद्धि के साथ भारतीय स्टेट बैंक (SBI) से भी आगे रहा

  • Share this:

नई दिल्ली. बैंक ऑफ महाराष्ट्र यानी बीओएम (Bank of Maharashtra) ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के दौरान लोन और डिपॉजिट ग्रोथ के लिहाज से सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के बीच सबसे बेहतर प्रदर्शन किया है. बीओएम द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार 2020-21 में उसने ग्रॉस एडवांस (Gross Advances) में 13.45 फीसदी की वृद्धि दर्ज की और इसके तहत राशि 1.07 लाख करोड़ रुपये रही.

इसके बाद पंजाब एंड सिंध बैंक का स्थान रहा, जिसने मार्च 2021 में खत्म हुए वित्त वर्ष के दौरान 67,811 करोड़ रुपये के कुल लोन के साथ 8.39 फीसदी की वृद्धि दर्ज की. डिपॉजिट राशि जुटाने के लिहाज से बीओएम लगभग 16 फीसदी की वृद्धि के साथ देश के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक से भी आगे रहा, जिसने 13.56 फीसदी की वृद्धि दर्ज की.

ये भी पढ़ें- LIC की चेतावनी! भूल कर भी ना करें ये काम वरना अब भुगतना होगा बुरा अंजाम, होगी कानूनी कार्रवाई

हालांकि, कुल मिलाकर एसबीआई का जमा आधार बीओएम के 1.74 लाख करोड़ रुपये के मुकाबले 36.81 लाख करोड़ रुपये या 21 गुना अधिक है. इसी प्रकार चालू खाता बचत खाता में बीओएम ने 24.47 फीसदी वृद्धि हासिल की जो कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सर्वाधिक रही. यह बैंक की कुल देनदारी का 54 फीसदी रहा.
ये भी पढ़ें- Sensex- Nifty फिर नए उच्चतम स्तर पर पहुंचे, जानिए वो पांच महत्वपूर्ण बातें जो मार्केट को गति दे रही

वर्ष के दौरान बीओएम का कुल कारोबार 14.98 फीसदी बढ़कर 2.81 लाख करोड़ रुपये रहा. वित्त वर्ष 2020-21 में बैंक आफ महाराष्ट्र का एकल शुद्ध लाभ 42 फीसदी बढ़कर 550.25 करोड़ रुपये रहा जो कि इससे पिछले वित्त वर्ष में 388.58 करोड़ रुपये रहा था.

संपत्ति गुणवत्ता में भी बैंक ने अच्छी सफलता हासिल की है. मार्च 2021 को समाप्त वर्ष के दौरान बैंक की सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां तेजी से घटकर 7.23 फीसदी रह गई जो कि एक साल पहले 12.81 फीसदी पर थी. निवल एनपीए भी एक साल पहले के 4.77 फीसदी से घटकर मार्च 2021 को समाप्त वित्त वर्ष में 2.48 फीसदी रह गया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज