Home /News /business /

bank of maharashtra tops psu lenders chart in loan growth in fy22 abhs

FY22 में बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने दिया सबसे ज्यादा लोन, दूसरे नंबर पर रहा SBI

 बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank of Maharashtra)

बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank of Maharashtra)

पब्लिक सेक्टर के बैंकों की कर्ज में बढ़ोतरी मामले में बीते वित्त वर्ष में बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने शानदार प्रदर्शन किया. प्रतिशत में देखें, तो इसने पब्लिक सेक्टर के सबसे बड़े बैंक एसबीआई को भी पछाड़ दिया है. यही नहीं, बैंक ने नेट एनपीए भी कम करने में सफलता पाई है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. पब्लिक सेक्टर के बैंकों की लोन में बढ़ोतरी मामले में बीते वित्त वर्ष में बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank of Maharashtra) का प्रदर्शन सबसे अच्छा रहा है. आंकड़ों के मुताबिक,  वित्त वर्ष 2021-22 में लोन और डिपॉजिट में बढ़ोतरी के मामले में प्रतिशत के लिहाज से बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने सबसे ऊंची वृद्धि हासिल की है. पुणे स्थित हेडक्वार्टर वाले इस बैंक का ग्रॉस कर्ज 31 मार्च, 2022 को खत्म हुए वित्त वर्ष में 26 फीसदी बढ़कर 1,35,240 करोड़ रुपये रहा है.

पब्लिक सेक्टर के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) का नंबर इसके बाद आता है. बीते कारोबारी साल में एसबीआई की लोन ग्रोथ 10.27 फीसदी रही. 9.66 फीसदी की लोन ग्रोथ के साथ यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (UBI) तीसरे स्थान पर रहा. हालांकि मूल्य के लिहाज से एसबीआई पहले स्थान पर रहा है. एसबीआई की ओर से दिया गया कुल कर्ज बैंक ऑफ महाराष्ट्र से 18 गुना ज्यादा यानी 24,06,761 करोड़ रुपये रहा. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का कर्ज भी बैंक ऑफ महाराष्ट्र से पांच गुना अधिक यानी 6,99,269 करोड़ रुपये रहा.

ये भी पढ़ें- क्रेडिट कार्ड के कारोबार को बढ़ाएगा Axis बैंक, 20% की हिस्सेदारी हासिल करने का लक्ष्य

डिपॉजिट मामले में भी आगे
मनीकंट्रोल की रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने डिपॉजिट ग्रोथ मामले में भी प्रतिशत के हिसाब से सबसे आगे रहा है. मार्च, 2022 को खत्म हुए वित्त वर्ष में बैंक ऑफ महाराष्ट्र की डिपॉजिट 16.26 फीसदी बढ़कर 2,02,294 करोड़ रुपये रही. वहीं, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की डिपॉजिट 11.99 फीसदी बढ़कर 10,32,102 करोड़ रुपये जबकि इंडियन बैंक की 10 फीसदी की वृद्धि के साथ 5,84,661 करोड़ रुपये रही.

ये भी पढ़ें- जरा सी गलती से खाली हो सकता है बैंक अकाउंट, डिजिटल बैंकिंग में इन बातों का रखें ध्यान

नेट एनपीए भी हुआ कम
पिछले वित्त वर्ष के दौरान बैंक ऑफ महाराष्ट्र की नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स (NPA) घटकर 3.94 फीसदी रह गईं. मार्च, 2021 के अंत तक यह 7.23 फीसदी थीं. यही नहीं, बैंक का नेट एनपीए भी 2.48 फीसदी से घटकर 0.97 फीसदी रह गया. वहीं, कुल कारोबार वृद्धि के मामले में भी यह बैंक टॉप पर रहा है. वित्त वर्ष के दौरान बैंक का कुल कारोबार 20 फीसदी बढ़कर 3,37,534 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. वहीं, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का कारोबार 11.04 फीसदी बढ़कर 17,31,371 करोड़ रुपये रहा.

Tags: Bank Loan, Business news in hindi, SBI Bank

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर