बड़ी खबर! चार बैंक यूनियन ने कहा-25 सितंबर से 27 सितंबर तक करेंगे हड़ताल

News18Hindi
Updated: September 12, 2019, 3:44 PM IST
बड़ी खबर! चार बैंक यूनियन ने कहा-25 सितंबर से 27 सितंबर तक करेंगे हड़ताल
चार बैंक यूनियन ने कहा-25 सितंबर से 27 सितंबर तक करेंगे हड़ताल (फाइल फोटो)

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Government) की ओर से बैंकों के विलय (Bank Merger) के विरोध को लेकर बैंक की 4 कर्मचारी यूनियन (Bank Union) ने 25 सितंबर से 27 सितंबर तक हड़ताल पर जाने का फैसला किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 12, 2019, 3:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Government) की ओर से बैंकों के विलय (Bank Merger) के विरोध को लेकर बैंक की 4 कर्मचारी यूनियन (Bank Union) ने 25 सितंबर से 27 सितंबर तक हड़ताल पर जाने का फैसला किया है. यूनियन का कहना है कि अगर मांगे नहीं मानी जाती है तो नवंबर के दूसरे हफ्ते से अनिश्चितकालीन हड़ताल (Bank Strike) होगी. आपको बता दें कि हाल में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 10 सरकारी बैंकों के महाविलय प्लान (Bank Merger Plan) की घोषणा की थी. इस फैसले के बाद देश में सरकारी बैंकों की संख्या मौजूदा 27 से घटकर 12 रह जाएगी. बैंकों के विलय का असर हर उस शख्स पर पड़ सकता है, जिसका इन बैंकों में खाता है. 6 छोटे सरकारी बैंकों का भारतीय स्टेट बैंक में और विजया बैंक, देना बैंक का बैंक ऑफ बड़ौदा में पहले ही विलय हो चुका है. इस तरह, एसबीआई और बैंक ऑफ बड़ौदा विलय के बाद 10 सरकारी बैंकों में पहले ही शीर्ष दो बड़े बैंकों में तब्दील हो चुके हैं.

काम-काज हो सकता है असर- माना जा रहा है कि अगर कर्मचारी हड़ताल पर जाते है तो बैंकों के काम-काज पर असर होगा. लिहाजा ऐसे में ग्राहकों को इस हड़ताल के हिसाब से ही अपने काम-काम को निपटना चाहिए.

ये भी पढ़ें-मारुति सुजुकी ने खारिज की सीतारमण की दलील, कहा- मंदी की वजह ओला-उबर ही नहीं

बैंक कर्मचारियों करेंगे हड़ताल- वित्त मंत्री के फैसले के बाद से देश भर में बैंक कर्मचारी शांतिपूर्वक विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं. अब मजबूती के साथ इस फैसले का विरोध करने के लिए 4 कर्मचारी यूनियन ने हड़ताल का ऐलान किया है. साथ ही, उन्होंने मांगे नहीं माने जाने पर नवंबर के दूसरे हफ्ते से अनिश्चितकालीन हड़ताल की धमकी दी है.

>> इससे पहले बैंक कर्मचारी यूनियन अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ के सदस्यों ने  31 अगस्त को अपने-अपने बैंकों में काली पट्टी बांध कर काम करते हुए प्रदर्शन किया था.



ये भी पढ़ें-MDH के सांभर मसाले को लेकर बड़ा खुलासा, मिले खतरनाक बैक्टीरिया
Loading...

>> यूनियन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने यह फैसला गलत समय पर लिया है और इसकी समीक्षा की जरूरत है.

>> उन्होंने कहा कि इस विलय का मतलब छह बैंकों का बंद होना है, जिन्हें बनने में कई साल लगे हैं. उन्होंने कहा कि हड़ताल पर जाने को लेकर दिल्ली में संघ की बैठक होगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2019, 2:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...