बार्बेक्यू नेशन: डिस्काउंटेड लिस्टिंग के बाद शेयरों पर लगातार दूसरे दिन अपर सर्किट, क्या बेचने खरीदने का है सही समय

 कोरोना वायरस महामारी के दौरान इस इंडस्ट्री को करारा झटका लगा था.

कोरोना वायरस महामारी के दौरान इस इंडस्ट्री को करारा झटका लगा था.

कंपनी के शेयर दाे फीसदी के डिस्टकाउंट पर लिस्ट हुए, मगर लिस्टिंग के दाे सत्राें में ही शेयराें ने 48 फीसदी का रिटर्न दे दिया. शुक्रवार काे यह शेयर काफी हद तक फिसल गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 6:04 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala)  के महंगे दांव ने बार्बेक्यू नेशन (Barbeque Nation) के शेयराें काे लिस्टिंग के बाद दमदार रिटर्न दिया है. डिस्काउंटेड लिस्टिंग के बाद शेयरों ने लगातार दूसरे दिन अपर सर्किट दिया है, ताे क्या यह सही समय है इसे खरीदने या बेचने का? आपके मन में भी यह सवाल उठ रहा हाेगा. हालांकि रेस्त्रां चेन कंपनी बार्बेक्यू नेशन हॉस्पिटेलिटी काे बुधवार काे घरेलू शेयर बाजार (Share market) पर सुस्त लिस्टिंग मिली. कंपनी के शेयर दाे फीसदी के डिस्टकाउंट पर लिस्ट हुए, मगर लिस्टिंग के दाे सत्राें में ही शेयराें ने 48 फीसदी का रिटर्न दे दिया. शुक्रवार काे यह शेयर काफी हद तक फिसल गया. गुरूवार काे बार्बेक्यू नेशन कंपनी के शेयराें में 20 फीसदी का अपर सर्किट लगा और इसका भाव 708.45 रुपये हाे गया, बुधवार काे लिस्टिंग के बाद भी कंपनी के शेयराें में 20 फीसदी का अपर सर्किट लगा था. 500 रुपये के इश्यू प्राइज की तुलना में बीएसई पर कंपनी के शेयर 492 रुपये के भाव पर लिस्ट हुए थे. दिग्गज निवेशक राकेश झुनझनवाला के पास भी बार्बेक्यू नेशन हॉस्पिटेलिटी की बड़ी हिस्सेदारी है. उनकी फर्म अल्केमी इंडिया के पास कंपनी की 1.69 फीसदी हिस्सेदारी है. उन्होंने मार्च 2018 में 827 रुपये प्रति शेयर के भाव पर शेयर खरीदे थे.



सकारात्मक धारणा बनना वाजिब है: बलभद्रुनी



कैपिटलवाया ग्लोबल रिसर्च के वरिष्ठ रिसर्च विश्लेषक विशाल बलभद्रुनी ने ईकाेनॉमिक टाइम्स से बात करते हुए कहा कि डिस्काउंटेड लिस्टिंग के बाद शेयरों ने लगातार दूसरे दिन अपर सर्किट दर्ज किया. इस वापसी ने हर किसी को हैरान कर दिया. उन्होंने कहा, "बुनियादी रूप से कंपनी ठीकठाक नजर आती है और इसका रेवेन्यू नियमित बना हुआ है, जबकि मुनाफे पर दबाव है. आने वाले समय में भी कंपनी के मुनाफे पर दबाव रहने वाला है. कंपनी इश्यू से होने वाली आय का इस्तेमाल विस्तार योजनाओं के लिए करेगी. ऐसे में सकारात्मक धारणा बनना वाजिब है."



ये भी पढ़ें-  Lockdown Impact: महाराष्ट्र में काेराेना की स्थिति के चलते नई फिल्माें की रिलीज रुकी






इस शेयर से निकलने पर विचार करना चाहिए: सौरभ





हालांकि मारवाड़ी शेयर्स एंड फाइनेंस के रिसर्च विश्लेषक सौरभ जोशी की राय थाेड़ी अलग नजर आती है वे कहते हैं कि "कंपनी सालों से घाटा ही दर्ज कर रही है और मौजूदा कोरोना हालातों को मद्देनजर रखते हुए निवेशकों को हर तेजी पर इस शेयर से निकलने पर विचार करना चाहिए."



कंपनी ने अपने इश्यू से 453 करोड़ रुपए जुटाए



एनएसई के डेटा के मुताबिक, 49,99,609 शेयरों के बदले 2,99,01,510 बोलियां लगाई गई थी. कंपनी ने अपने इश्यू से 453 करोड़ रुपए जुटाए हैं. कंपनी फ्रेश इश्यू से जुटाए गए फंड का इस्तेमाल लोन चुकाने और रेस्टोरेंस के विस्तार पर करेगी. जबकि ऑफर फॉर सेल का पैसा प्रमोटर्स को मिला है. कंपनी ने अपना पहला Barbeque Nation रेस्तरां 2008 में खोला था. कंपनी देशभर के 77 शहरों में अब तक 147 रेस्तरां खोल चुकी है. दिसंबर 2020 तक तीन देशों में 6 आउटलेट्स थे



ये भी पढ़ें - FY21 में देश की Fuel खपत 9.1 फीसदी घटी, 1998-99 के बाद पहली बार घटी खपत







कोरोना महामारी ने इस इंडस्ट्री को दिया करारा झटका 



बेंगलुरु की कंपनी बार्बेक्यू नेशन हॉस्पिटेलिटी के पास देश-विदेश में फाइन डाइनिंग रेस्त्रां बार्बेक्यू नेशन रेस्त्रां चेन का अधिकार है. कंपनी के पोर्टफोलियो में टॉस्कानो रेस्त्रां और बार्बेक्यू एंड यू रेस्त्रां भी शामिल हैं. हालांकि, कोरोना वायरस महामारी के दौरान इस इंडस्ट्री को करारा झटका लगा था.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज