'रुपए में गिरावट, कच्चा तेल चढ़ने से राज्यों को होगा 22,700 करोड़ का फायदा'

एसबीआई रिसर्च के एक नोट में कहा गया है कि पेट्रोल और डीजल कीमतों में वृद्धि से राज्यों को चालू वित्त वर्ष में बजट अनुमान के ऊपर 22,700 करोड़ रुपये का अप्रत्याशित कर राजस्व मिलेगा.

भाषा
Updated: September 12, 2018, 11:28 AM IST
'रुपए में गिरावट, कच्चा तेल चढ़ने से राज्यों को होगा 22,700 करोड़ का फायदा'
Image for representation only
भाषा
Updated: September 12, 2018, 11:28 AM IST
रुपए में लगातार जारी गिरावट और कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी से राज्यों को चालू वित्त वर्ष में बजट अनुमान के ऊपर 22,700 करोड़ रुपए का अप्रत्याशित कर राजस्व मिलेगा. एक रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया गया है.

अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में मंगलवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 28 पैसे टूटकर 72.73 प्रति डॉलर के अपने नए सर्वकालिक निचले स्तर पर आ गया. वहीं कच्चा तेल 78 डॉलर प्रति बैरल के पार निकल गया. इससे बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 509 अंक या 1.34 प्रतिशत टूटकर 37,413.13 अंक पर आ गया.

एसबीआई रिसर्च के एक नोट में कहा गया है कि पेट्रोल और डीजल कीमतों में वृद्धि से राज्यों को चालू वित्त वर्ष में बजट अनुमान के ऊपर 22,700 करोड़ रुपये का अप्रत्याशित कर राजस्व मिलेगा.

रिपोर्ट में कहा गया है कि कच्चे तेल की कीमत में एक डॉलर प्रति बैरल की वृद्धि से सभी प्रमुख 19 राज्यों को औसतन 1,513 करोड़ रुपये का राजस्व लाभ होता है. इसमें कहा गया है कि सबसे अधिक 3,389 करोड़ का लाभ महाराष्ट्र को मिलेगा. उसके बाद गुजरात को 2,842 करोड़ रुपये का लाभ मिलेगा.

राजधानी दिल्ली में मार्च से पेट्रोल 5.60 रुपये और डीजल 6.31 रुपये प्रति लीटर महंगा हुआ है. महाराष्ट्र में पेट्रोल 89 रुपये प्रति लीटर को पार कर गया है. महाराष्ट्र में पेट्रोल पर सबसे ऊंचा 39.12 प्रतिशत का वैट लगता है. गोवा में सबसे कम 16.66 रुपये प्रति लीटर का वैट लिया जाता है. रिपोर्ट कहती है कि यदि अन्य चीजों में बदलाव नहीं होता है तो इस अप्रत्याशित लाभ से राज्यों के वित्तीय घाटा 0.15 से 0.20 प्रतिशत नीचे आएगा.

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘हमारा अनुमान है, चूंकि राज्यों को उनके बजट अनुमानों से ज्यादा राजस्व मिलने की उम्मीद है ऐसे में वे पेट्रोल के दाम औसत 3.20 रुपये प्रति लीटर तथा डीजल के 2.30 रुपये प्रति लीटर घटा सकते हैं. इससे उनका राजस्व का गणित भी नहीं गड़बड़ाएगा.

रिपोर्ट में कहा गया है कि महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पंजाब, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, राजस्थान तथा कर्नाटक के पास पेट्रोल का दाम तीन रुपये तथा डीजल का दाम ढाई रुपये लीटर घटाने की गुंजाइश है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर