होम /न्यूज /व्यवसाय /काम की बात: लोन गारंटर बनने से पहले जान लीजिए, आपको चुकाना पड़ सकता है पूरा कर्ज!

काम की बात: लोन गारंटर बनने से पहले जान लीजिए, आपको चुकाना पड़ सकता है पूरा कर्ज!

अगर आप किसी दूसरे के लिए लोन के गारंटर बनते हैं तो इसके कई वित्तीय मतलब भी होते हैं.

अगर आप किसी दूसरे के लिए लोन के गारंटर बनते हैं तो इसके कई वित्तीय मतलब भी होते हैं.

गारंटर को भी बैंक एक तरह से कर्ज लेने वाला मानता है. आप यह गारंटी देते हैं यदि कर्ज लेने वाला कर्ज नहीं चुकाता तो उसके ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

गारंटर बनने पर आपकी कुछ जिम्मेदारी निश्चित हो जाती हैं. गारंटर ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जिसकी खुद की साख अच्छी हो.
आप किसी के लिए लोन गारंटर बनते हैं तो आप भी उस कर्ज के लिए उतने ही उत्तरदायी होंगी, जितना कि लेने वाला है.
शर्तों के मुताबिक, यदि लोन लेने वाला शख्स लोन नहीं चुका पाता है तो गारंटर को लोन चुकाना होता है.

नई दिल्ली. जब भी किसी व्यक्ति को पैसे की जरूरत होती है तो वह बैंक से लोन के लिए अप्लाई करता है. इसके बाद लोन लेने वाले व्यक्ति को लोन गारंटर की आवश्यकता होती है. अक्सर लोग दोस्तों या रिश्तेदारों की मुसीबत में काम आते हुए लोन गारंटर बन जाते हैं. लेकिन गारंटर बनना सिर्फ एक औपचारिकता नहीं है.

बैंक आपको ही एक तरह से कर्जदाता मानता है. आप यह गारंटी देते हैं यदि कर्ज लेने वाला कर्ज नहीं चुकाता तो उसके बदले बैंक आपसे लोन वापस लेगा. गारंटर बनने पर आपकी कुछ जिम्मेदारी निश्चित हो जाती हैं. अगर आप किसी के लिए लोन के गारंटर बनते हैं तो इसके कई वित्तीय मतलब भी होते हैं. बैंक या कोई भी वित्तीय संस्थान बगैर गारंटर के लोन नहीं देते हैं. आइए, आज हम इस बारे में विस्तार से जानें लेते हैं.

कौन होते हैं लोन गारंटर

लोन का गारंटर उस शख्स को कहा जाता है जिस पर यह जिम्मेदारी होती है कि यदि लोन लेने वाला शख्स लोन नहीं चुका पाता है तो गारंटर को लोन चुकाना होगा. लोन गारंटर बनने के लिए कई डॉक्यूमेंट्स में हस्ताक्षर करना होता है. इसका मतलब यह है कि आप गारंटर बनने का नियम और अर्थ जानते हैं और सोच-समझ कर ही अपने निर्णय से गारंटर बन रहे हैं.

ये भी पढ़ें – आपकी आर्थिक सेहत के लिए क्‍यों ठीक नहीं हैं पेंशन-कम-इंश्‍योरेंस जैसे मिक्‍स्‍ड प्‍लान?

हो सकती है लीगल कार्रवाई

नियमों के मुताबिक, किसी लोन की गारंटी देने वाला व्यक्ति भी लोन लेने वाले व्यक्ति के बराबर कर्जदार होता है. अगर लोन लेने वाला व्यक्ति डिफॉल्टर साबित होता है तो गारंटर पर भी कानूनी कार्रवाई की जा सकती है. जवाब नहीं आने पर कर्जदार के साथ ही गारंटर को भी नोटिस भेजा जाता है.

कब जरूरी होता है गारंटर?

बैंक सभी लोन के लिए गारंटर पर जोर नहीं देते हैं. लेकिन, जब गारंटी पर्याप्त नहीं होती है और उन्हें कर्ज के चुकाए जाने पर संदेह होता है तो ऐसी स्थिति में वो गारंटर लाने के लिए कहते हैं. बड़ी राशि के लोन के लिए गारंटर का होना जरूरी है.

करवा लें इंश्योरेंस

आप जिसके लिए लोन के गारंटर बन रहे हैं. उससे अपने लोन का इंश्योरेंस कराने के लिए कहें. किसी भी कारण से लोन लेने वाले की मृत्यु या अन्य किसी घटना होने पर लोन वापस करने की जिम्मेदारी बीमा कंपनी की होती है. ऐसे में आपकी मुश्किल नहीं बढ़ती है.

Tags: Bad loan, Bank, Business news, Insurance, Loan

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें