होम /न्यूज /व्यवसाय /

Credit Card Tips: क्रेडिट कार्ड लिमिट बढ़ाने की है योजना, फैसला लेने से पहले जान लें ये बातें

Credit Card Tips: क्रेडिट कार्ड लिमिट बढ़ाने की है योजना, फैसला लेने से पहले जान लें ये बातें

क्रेडिट कार्ड के कर्ज से निकलने का आसान तरीका जानिए (प्रतीकात्मक तस्वीर)

क्रेडिट कार्ड के कर्ज से निकलने का आसान तरीका जानिए (प्रतीकात्मक तस्वीर)

एक बढ़ी हुई क्रेडिट कार्ड लिमिट के बाद आप अधिक खर्च कर सकते है, लेकिन अगर इसका यूज समझदारी नहीं किया तो कर्ज के जाल में फंस सकते हैं.

    नई दिल्ली. देश के बड़े शहरों के साथ-साथ छोटे शहरों में भी क्रेडिट कार्ड (Credit Card) का चलन बढ़ा है. वहीं, क्रेडिट कार्ड रखने वाले जिन ग्राहकों का सिबिल स्कोर (CIBIL Score) अच्छा होता है तो बैंक की ओर से उसके क्रेडिट लिमिट (Credit Card Limit) को बढ़ाने के लिए कॉल आते हैं. ऐसे में यह जानना जरूरी है कि क्रेडिट लिमिट बढ़ाने के क्या फायदे और नुकसान हैं.

    क्रेडिट स्कोर में हो सकता है सुधार
    क्रेडिट स्कोर पर क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो (Credit Utilization Ratio – CUR) का बहुत प्रभाव पड़ता है. आपका क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपने क्रेडिट कार्ड का कितना इस्तेमाल करते हैं. आम तौर पर क्रेडिट कार्ड कंपनियां क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो को 30 फीसदी से ज्यादा के स्तर पर होने पर कर्ज का संकेत मानते हैं. इसलिए क्रेडिट लिमिट बढ़ाने से आपके क्रेडिट स्कोर में सुधार आ सकता है.

    उदाहरण के लिए, मान लें कि आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट 1 लाख रुपये है और आप आमतौर पर हर महीने लगभग 50 हजार खर्च होता है. तो ऐसे में आपका क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो 50 फीसदी होगा. अब यदि आपका जारीकर्ता आपकी क्रेडिट लिमिट बढ़ाकर 1.7 लाख रुपये कर देता है, तो आपका क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो 29 फीसदी पर आ जाएगा.

    ये भी पढ़ें- सोने के खरीदारों के लिए खुशखबरी, गोल्ड की कीमतें पिछले 6 साल के निचले स्तर पर

    वित्तीय संकट से निपटने में सहूलियत
    क्रेडिट लिमिट बढ़ने पर वित्तीय संकट से निपटने में सहूलियत होती है. यह नौकरी छूटने, बीमारी, दुर्घटना, विकलांगता आदि वित्तीय संकट के कारण इमरजेंसी फंड के रूप में काम कर सकती है.

    ज्यादा लोन मिलने की संभावना
    एक बढ़ी हुई क्रेडिट लिमिट आपको ज्यादा लोन दिला सकती है. यह लिमिट आमतौर पर क्रेडिट कार्डधारक की क्रेडिट लिमिट के बदले स्वीकृत होते हैं. आमतौर पर क्रेडिट कार्ड के बदले लोन (Loan Against a Credit Card) प्री-अप्रूव्ड होते हैं.

    कर्ज के जाल में फंसने का डर
    एक बढ़ी हुई क्रेडिट कार्ड लिमिट के बाद आप अधिक खर्च कर सकते है, लेकिन अगर इसका यूज समझदारी नहीं किया तो कर्ज के जाल में फंस सकते हैं.

    ये भी पढ़ें- RBI का बड़ा फैसला, कार्ड टोकेनाइजेशन की डेडलाइन 30 जून, 2022 तक बढ़ाई

    ज्यादा ब्याज चुकाना पड़ सकता है
    यदि आप हर महीने अपने बिल का पेमेंट नहीं करते हैं, तो आप अपनी बकाया राशि पर ज्यादा ब्याज चुकाना पड़ सकता है.

    Tags: Credit card, Credit card limit

    अगली ख़बर