म्‍यूचुअल फंड में SIP के जरिए पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर! लॉकडाउन में BSE ने शुरू की नई सुविधा

म्‍यूचुअल फंड में SIP के जरिए पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर! लॉकडाउन में BSE ने शुरू की नई सुविधा
म्‍यूचुअल फंड SIP

अगर आप म्‍यूचुअल फंड में SIP (Systematic Investment Plan) के जरिए हर महीने पैसा लगाते है तो ये खबर आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है. क्योंकि BSE ने इससे जुड़ी एक नई सर्विस की शुरुआत की है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश के सबसे पुराने स्टॉक एक्सचेंज बीएसई (BSE-Bombay Stock Exchange) ने अपने म्‍यूचुअल फंड डिस्‍ट्रीब्‍यूशन प्‍लेटफॉर्म (Mutual Funds) पर एक नई सुविधा की शुरुआत की है. अब इसके जरिए आप कुछ महीने तक अपने एसआईपी को पॉज यानी रोक सकते हो. कोरोना की महामारी को देखते हुए यह सुविधा शुरू की गई है.

एसआईपी के जरिए छोटे निवेश को करोड़ो में बदलने का मौका मिलता है- सिप (SIP) या सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान आपको हर महीने एक निश्चित रकम को आपकी पसंदीदा Mutual Fund स्कीम में डालने का अवसर देता है. यह आमतौर पर इक्विटी म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में शुरू किया जाता है.

Mutual Fund निवेश में अनुशासन का बहुत महत्व है. सिप आपके इसी अनुशासन को कायम रखता है. इसके अलावा सिप (SIP) नियमित रूप से Mutual Fund में निवेश जारी रखता है भले ही शेयर बाजार में तेजी हो या मंदी. अगर आपने किसी म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) स्कीम में एक निश्चित रकम हर महीने डालने का फैसला किया तो आपको इसके लिए समय निकलना पड़ेगा.




दूसरी बात यह कि आप समय निकालकर Mutual Fund में निवेश करने बैठें और शेयर बाजार कमजोर हो या तेज हो तो आपको लगता है कि कहीं आपका निवेश डूब ना जाय और इस वजह से आप फैसले को टाल देते हैं.

सिप (SIP) इन सभी परेशानियों से आपको बचाता है और निर्धारित दिन आपकी पसंदीदा Mutual Fund स्कीम में पहले से तय राशि आपके बैंक अकाउंट से लेकर निवेश कर देता है.सबसे बड़ी बात इसमें कम्पाउंडिंग का फायदा है.

अगर आप लंबी अवधि तक Mutual Fund में निवेश करते हैं और रिटर्न कमाते हैं तो आपके इस रिटर्न पर भी आपको रिटर्न मिलता रहता है जब तक कि आप उस रकम को निकाल ना लें. इससे अंत में आपको एक बड़ा फंड जुटाने में मदद मिलती है.



क्या होती है SIP पॉज सर्विस-एक्‍सचेंज ने इस सुविधा के बारे में जानकारी दी है. इसके अनुसार, यह विकल्‍प एसेट मैनेजमेंट कंपनियों को अपने ग्राहकों को कुछ समय के लिए सिप रोकने की सहूलियत देगा. फिर निवेशक दोबारा अपने सिस्‍टेमैटिक इनवेस्‍टमेंट प्‍लान यानी सिप को शुरू कर सकते हैं.

बीएसई ने कहा है कि लॉकडाउन के कारण लोग निवेश से जुड़े फैसलों के बारे में दोबारा सोच रहे हैं. कई को अपने नियमित निवेश को जारी रखने में तकलीफ हो रही है. इसके चलते तमाम निवेशकों ने अपनी निवेश को भुनाया है. कई ने सिप को बंद कर दिया है या रोका है.

बीएसई ने कहा है कि इस सुविधा के अंतर्गत पॉज रजिस्‍ट्रेशन अलग-अलग एसेट मैनेजमेंट कंपनियों (एएमसी) की शर्तों के अनुसार होगा. उसने कहा कि निवेशक और मेंबर इसे लेकर मांग करते रहे हैं. एक्‍सचेंज को यह बताने में खुशी हो रही है कि उसने बीएसई स्‍टार एमएफ प्‍लेटफॉर्म पर सिप पॉज की सुविधा शुरू कर दी है.

मौजूदा समय में नौ एएमसी की स्‍कीमों में पॉज की सुविधा उपलब्‍ध है. इनमें निप्‍पॉन इंडिया म्‍यूचुअल फंड, एलएंडटी म्‍यूचुअल फंड, एडलवाइज म्‍यूचुअल फंड, बीओआई अक्‍सा म्‍यूचुअल फंड, एस्‍सेल म्‍यूचुअल फंड, डीएसपी म्‍यूचुअल फंड, आदित्‍य बिड़ला सन लाइफ म्‍यूचुअल फंड, एचडीएफसी म्‍यूचुअल फंड और महिंद्रा म्‍यूचुअल फंड शामिल हैं.



सिप पॉज के तहत आपको कुछ समय के लिए अपने सिप को रोकने का विकल्‍प दिया जाता है. इससे सिप बंद करने की जरूरत नहीं पड़ती है. कैश फ्लो दोबारा ठीक हो जाने पर सिप को दोबारा शुरू किया जा सकता है. सिप की पूरी अवधि के दौरान इस सुविधा का केवल एक बार इस्‍तेमाल किया जा सकता है.

फिजिकल मोड के जरिये सिप में रजिस्‍टर कराने वाले निवेशक फंड हाउस की वेबसाइट में लॉग-इन करके अपने सिप को 3-6 महीने के लिए 'पॉज' कर सकते हैं. फंड हाउस को ई-मेल भेजकर भी यह काम किया जा सकता है. इसके लिए रजिस्‍टर्ड ई-मेल आईडी से अनुरोध करना होगा. इसमें फोलियो नंबर के साथ पॉज की स्‍टार्ट और एंड डेट बतानी होगी.

ये भी पढ़ें-चीन से भारत आ सकती हैं 600 कंपनियां! सरकार के साथ बातचीत जारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading