पोस्ट ऑफिस के इन स्कीम्स में निवेश पर होगा मुनाफा, यहां मिलता है सबसे ज्यादा रिटर्न

पोस्ट ऑफिस

पोस्ट ऑफिस

Post Office Saving Schemes : पोस्ट ऑफिस के स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स में निवेश करने के कई फायदे हैं. इन स्कीम्स में बेहतर रिटर्न मिलता है और सरकारी गारंटी मिलने की वजह से कोई जोखिम भी नहीं होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 10, 2020, 5:57 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना काल में किसी भी व्यक्ति के लिए मोटी बचत करना लगभग नामुमकिन लग रहा है. हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि इस दौर में भी बचत नहीं की जाए. अगर आप भी छोटी-छोटी बचत के ​जरिए अपने भविष्य को वित्तीय रूप से मजबूत करना चाहते हैं तो पोस्ट ऑफिस की सेविंग स्कीम्स (Post Office saving Schemes) में जरूर निवेश करें. पोस्ट ऑफिस के इन स्कीम्स में निवेश करने के कई फायदे हैं. इन स्कीम्स में सरकारी गारंटी होने की वजह से कम जोखिम होता है. साथ ही, रिटर्न भी बेहतर मिलता है.

अब पोस्ट ऑफिस में बचत खाता रखने वाले लोग भी नेट बैंकिंग सुविधा का इस्तेमाल कर सकते हैं. सेविंग्स अकाउंट के लिए इंटरनेट बैंकिंग (Internet Banking) की सुविधा होने से करोड़ों डाकघर के ग्राहक घर बैठे कई जरूरी काम निपटा सकते हैं. इससे खाताधारक घर बैठे किसी को भी पैसे भेज सकते, अकाउंट स्टेटमेंट देख सकते हैं. इसके अलावा खाताधारक इंटरनेट बैंकिंग की मदद से आरडी, पीएफ, एनएससी स्कीम से संबंधित सभी काम घर बैठे ही निपटा सकेंगे.

क्या है नेट बैंकिंग की शर्तें?

इंडिया पोस्ट बचत खाता रखने वाले ग्राहकों को नेटबैंकिंग सुविधा का इस्तेमाल करने के लिए कुछ शर्तें हैं. वैलिड सिंगल या ज्वॉइंट अकाउंट चाहिए, KYC संबंधी दस्तावेज, एक्टिव एटीएम कार्ड, अकाउंट से मोबाइल नंबर लिंक होना चाहिए, अकाउंट से ईमेल आईडी रजिस्टर्ड हो, काउंट से पैन नंबर रजिस्टर्ड होना चाहिए.
यह भी पढ़ें:  कोरोना काल के बीच रेलवे की एक बड़ी उपलब्धि! 8 दिनों में की करीब 2500 करोड़ रुपये की बंपर कमाई

हर तीन महीने पर रिवाइज होती हैं ब्याज दरें

इन स्कीम्स पर ब्याज दर को वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) हर तीन महीने में रिवाइज करता है. इसके बाद नोटिफिकेशन जारी कर इस बारे में जानकारी दी जाती है. यह लगातार तीसरी तिमाही है, जब स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स की दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है.
इसके मुताबिक, 5 साल के लिए सीनियर सिटिजंस सेविंग्स स्कीम पर 7.4 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. इस स्कीम पर ब्याज दर तिमाही आधार पर दिया जाता है. सेविंग्स डिपॉजिट पर ब्याज दर 4 फीसदी सालाना के हिसाब से होगा.
सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) पर 7.6 फीसदी की दर से ब्याज मिलता रहेगा. 7.6 फीसदी की दर से यह ब्याज चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही यानी अक्टूबर से दिसंबर के लिए होगा.
किसान विकास पत्र (KVP) पर 6.9 फीसदी की दर से ब्याज मिला रहेगा.
1 से 5 साल के लिए टर्म डिपॉजिट पर 5.5-6.7 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. इसका भुगतान तिमाही आधार पर होता है.
इसके अलावा 5 साल के रिकरिंग डिपॉजिट पर 5.8 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा.
नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट पर 6.8 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा.
वहीं, पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) पर तीसरी तिमाही में 7.1 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज