बच्चों के लिए इन स्कीम्स में लगाए पैसा, सुरक्षित भविष्य के साथ मिलेगा लाखों रुपये का फंड

बच्चों के लिए इन स्कीम्स में लगाए पैसा, सुरक्षित भविष्य के साथ मिलेगा लाखों रुपये का फंड
बच्चों के लिए निवेश करने में बड़ी सावधानी बरतनी चाहिए.

यहां हम आपको बच्चे के भविष्य की खातिर बचत के लिए तीन निवेश विकल्पों के बारे में बता रहे हैं. लॉन्ग टर्म में इनमें मिलाजुला कर निवेश किया जा सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए बेहतर फाइनेंशियल प्लानिंग (Best Planning for Child Future) बहुत जरूरी है. बाजार में निवेश के कई ऐसे विकल्प हैं, जिन्हें बच्चों के नाम पर शुरू किया जा सकता है. इसमें पोस्ट ऑफिस स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स (Small Saving Scheme), म्यूचुअल फंड्स (Mutual Funds) और फिक्स्ड डिपॉजिट जैसे कई विकल्प हैं. बच्चों के लिए निवेश करने में बड़ी सावधानी बरतनी चाहिए. हड़बड़ी में निवेश करने की बजाय ठंडे दिमाग से प्लानिंग करनी चाहिए. ऐसा करते समय आपको ध्यान देना होगा कि बच्चे को उम्र के किस पड़ाव में किस चीज की जरूरत होगी. उसके लक्ष्यों के अनुसार ही प्लान बनाना चाहिए.


यहां हम आपको बच्चे के भविष्य की खातिर बचत के लिए तीन निवेश विकल्पों के बारे में बता रहे हैं. लॉन्ग टर्म में इनमें मिलाजुला कर निवेश किया जा सकता है.





(1) सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)-  सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) के तहत, 10 साल तक की उम्र तक किसी भी लड़की के माता-पिता या कानूनी अभिभावक यह खाता खोल सकते हैं. सुकन्या समृद्धि योजना खाता किसी भी सरकारी बैंक और पोस्ट ऑफिस ब्रांच में खोला जा सकते है. अभी इस पर ब्याज दर 7.6 फीसदी है. सुकन्या समृद्धि योजना में सालाना कम से कम 250 रुपए जमा किया जा सकता है. योजना के तहत सालाना अधिकतम 1.50 लाख रुपए जमा किया जाता है. सुकन्या समृद्धि योजना के तहत निवेश इनकम टैक्स एक्ट की धारा 80C के तहत टैक्स छूट का लाभ भी लिया जा सकता है.


सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलने के दिन से 15 साल पूरा होने तक निवेश करना होता है लेकिन यह खाता 21 साल पूरा होने पर मैच्योर होता है. खाते के 15 साल पूरा होने के बाद से 21 साल तक खाते में उस समय के तय ब्याज दर के हिसाब से पैसा जुड़ता रहेगा.




(2) पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF)- पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) के जरिए भी आप बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए निवेश कर सकते हैं. PPF भी पारंपरिक और लोकप्रिय निवेश के माध्यम हैं. बच्चों के नाम पर पीपीएफ खाता उनके माता, पिता ही खुलवा सकते हैं. 18 साल से कम उम्र के बच्चों के पीपीएफ अकाउंट खोली जा सकती है. पीपीएफ पर वर्तमान में ब्याज दर 7.1 फीसदी है.


पीपीएफ खाते का मैच्योरिटी पीरियड 15 साल है. साल भर में इसमें 1.50 लाख रुपए का निवेश किया जा सकता है. अगर आप 1.50 लाख रुपए से अधिक का निवेश करते हैं तो उस रकम पर आपको ब्याज नहीं मिलता है. अगर आपके दो बच्चे हैं तो अलग-अलग पीपीएफ खाता खोलकर 3 लाख रुपए तक का निवेश किया जा सकता है. 15 साल के बाद आप खाते से पूरी रकम एक साथ निकाल सकते हैं. इसके बाद 5-5 साल के लिए इसे बढ़ाया जा सकता है.


(3) इक्विटी म्यूचुअल फंड- इक्विटी म्यूचुअल फंड किसी भी अन्य निवेश विकल्प के मुकाबले लॉन्ट टर्म में  ज्यादा रिटर्न दे सकता है. म्यूचुअल फंड में आप सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) के जरिए किस्तों में निवेश कर सकते हैं. अगर आप प्रोफेशनल वित्तीय सलाहकार की मदद लें तो म्यूचुअल फंड में लंबी अवधि में निवेश से बेहतर मुनाफा की संभावना बढ़ जाती है. बच्चे की जरूरत के लिए अगर 10 साल बाद पैसों की जरूरत है तो बेहतर है कि निवेश लार्जकैप फंडों में किया जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading