Company Result : कोरोना काल में इस सरकारी कंपनी ने किया उम्दा प्रदर्शन, टर्नओवर 13,500 करोड़ रुपए पर पहुंचा

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) ने पिछले साल से 7% ज्यादा कारोबार किया

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) ने पिछले साल से 7% ज्यादा कारोबार किया

कोविड-19 महामारी के दौर में भी सरकारी कंपनी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) को करीब 15 हजार करोड़ रुपए के नए ऑर्डर मिले.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोनाकाल में भी सरकारी कंपनी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) ने वित्त वर्ष 2020-21 में कंपनी का कुल टर्नओवर 13,500 करोड़ रुपए रहा. यह वित्त वर्ष 2019-20 के 12,608 करोड़ रुपए से करीब 7.07% ज्यादा है.

कंपनी द्वारा गुरुवार को जारी बयान में कहा गया है कि 1 अप्रैल 2021 को कंपनी के पास करीब 53 हजार करोड़ रुपए के ऑर्डर थे. पिछले साल यानी वित्त वर्ष 2020-21 में कंपनी को करीब 15 हजार करोड़ रुपए के नए ऑर्डर मिले थे. यह ऑर्डर ICU वेंटीलेटर, सॉफ्टवेयर-डिफाइंड रेडियो एंड कम्युनिकेशन उपकरण, विभिन्न प्रकार के राडार, सोनार, तारपीडो डिकॉय सिस्टम, इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सिस्टम, नेटवर्किंग एंड एनक्रिप्शन आदि उत्पादों से जुड़े थे. वित्त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही यानी दिसंबर 2020 तिमाही में भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड का कुल टर्नओवर 2296.24 करोड़ रुपए रहा था. वहीं, नेट प्रॉफिट 261.86 करोड़ रुपए रहा था. वित्त वर्ष 2019-20 में कंपनी का नेट प्रॉफिट 1793.82 करोड़ रुपए रहा था.

यह भी पढें : Investment Strategy : नए साल की शुरुआत में निवेश का यह तरीका अपनाएंगे तो होंगे मालामाल, जानें सबकुछ

50 मिलियन डॉलर के लक्ष्य को पूरा किया
कंपनी ने 50 मिलियन डॉलर के लक्ष्य को भी पूरा कर लिया है. इस अवधि में कंपनी ने कोस्टल सर्विलांस सिस्टम, ट्रांस-रिसीव मॉड्यूल, भारती रेडियो, आइडेंटिफिकेशन ऑफ फ्रेंड ऑर फियो-इंटेरोगेटर (IFFI), इलेक्ट्रो-मैकेनिकल पार्ट, राडार फिंगरप्रिंटिंग सिस्टम (RFPS), लो बैंड रिसीवर, राडार के पार्ट आदि सामान का निर्यात किया गया है.

यह भी पढ़ें :  1.3 लाख करोड़ रुपए का बैड लोन बढ़ेगा, फिर भी उछल रहे बैंकों के शेयर, जानिए वजह





आयात पर निर्भरता में कमी लाने पर फोकस रहेगा

BEL के CMD MV गोवात्मा का कहना है कि कंपनी का स्वदेशीकरण, घरेलू इंडस्ट्री के लिए आउटसोर्सिंग और आयात पर निर्भरता में कमी लाने पर फोकस रहेगा. कंपनी आत्मनिर्भर बनने के प्रयास लगातार जारी रखेगी. उन्होंने कहा कि कंपनी लगातार ग्रोथ के नए क्षेत्रों की खोज कर रही है और नए-नए कारोबारों में कदम रख रही है. वहीं, सार्वजनिक क्षेत्र की एक अन्य कंपनी पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन यानी पीएफसी ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए सरकार को 1182.63 करोड़ रुपए का डिविडेंड दिया है. सरकार के पास पीएफसी के 1,47,82,91,778 इक्विटी शेयर या 56% हिस्सेदारी है. कंपनी ने 12 मार्च को 8 रुपए प्रति शेयर की दर से डिविडेंड देने की घोषणा की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज