यूनिलिवर का बड़ा दावा! इस माउथवॉश के इस्‍तेमाल से खत्‍म हो जाएगा कोरोना वायरस, लगेंगे सिर्फ 30 सेकेंड

ग्‍लोबल एफएमसीजी कंपनी यूनिलिवर ने दावा किया है कि नए फार्मूले पर आधारित उसका नया माउथवॉश कोरोना वायरस के खिलाफ कारगर है.
ग्‍लोबल एफएमसीजी कंपनी यूनिलिवर ने दावा किया है कि नए फार्मूले पर आधारित उसका नया माउथवॉश कोरोना वायरस के खिलाफ कारगर है.

फास्‍ट मूविंग कंज्‍यूमर गुड्स (FMCG) कंपनी यूनिलिवर (Unilever) का कहना है कि उसके माउथवॉश (Mouthwash) से 99.9 फीसदी कोरोना वायरस (Coronavirus) का खात्‍मा हो जाएगा. हालांकि, ये भी कहा है कि ये ना तो कोई इलाज (Cure) है और न ही इससे कोविड-19 के फैलने (Transmission) पर रोक लगेगी, लेकिन मुंह में मौजूद वायरस के खिलाफ इस्‍तेमाल से अभी तक के नतीजे उत्‍साहवर्धक हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. ग्‍लोबल फास्‍ट मूविंग कंज्‍यूमर गुड्स (Global FMCG Major) कंपनी यूनिलिवर (Unilever) ने कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में बड़ा दावा किया है. कंपनी का कहना है कि नए फॉर्मूले पर आधारित उसका नया माउथवॉश (Mouthwash) इस्‍तेमाल करने के 30 सेकेंड के भीतर कोरोना वायरस (Coronavirus) को 99.9 फीसदी खत्‍म कर देगा. आसान शब्‍दों में समझें तो आप कंपनी का नया माउथवॉश इस्‍तेमाल कर कोविड-19 (Covid-19) से सुरक्षित रह सकते हैं. कंपनी अपने इस नए माउथवॉश को अगले महीने भारत में लॉन्‍च (India Launching) कर रही है. हालांकि, कंपनी ने ये भी साफ कर दिया है कि ये फॉर्मूलेशन कोविड-19 का ना तो इलाज (Cure) है और ना ही फैलने से रोकने में (Transmission) मदद करेगा.

शुरुआती लैब टेस्‍ट में कारगर साबित हुआ है माउथवॉश
यूनिलिवर ने बताया कि अमेरिका में यूनिलिवर रिसर्च लैब की ओर से माइक्रोबैक लैबोरेटरीज के शुरुआती लैब टेस्‍ट (Lab Test) में माउथवॉश का नया फॉर्मूला मुंह और गले में मौजूद कोरोना वायरस को 99.9 फीसदी तक खत्‍म कर रहा है. कोरोना वायरस सलाइवा के ड्रॉपलेट (Saliva Droplets) या छींकने पर फैलता है. इसके बाद कुछ मामलों में गंभीर लक्षण नजर आते हैं और कुछ में कोई लक्षण नजर नहीं आता (Asymptomatic) है, लेकिन व्‍यक्ति संक्रमित हो चुका होता है, जो कोरोना टेस्‍ट (Corona Test) से ही पता चल पाता है. कंपनी ने कहा कि अगर मुंह में वायरस की तादाद कम (Virus Load) हो तो इसका प्रसार भी कम होगा. अभी तक के शोध से पता चला है कि बार-बार हाथ धोने, सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल करने, मास्‍क लगाने के साथ ही माउथवॉश से भी कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सकता है.

ये भी पढ़ें- दिल्‍ली से कानपुर के बीच नए ट्रैक पर दौडेंगी ट्रेन, पुराने ट्रैक पर भी बढ़ेगी रफ्तार
भारत में माउथवॉश लॉन्‍च करेगी हिंदुस्‍तान यूनिलिवर


यूनिलिवर के ओरल केयर रिसर्च एंड डेवलपमेंट प्रमुख जी. रॉबर्ट्स ने साफ किया कि ये माउथवॉश कोविड-19 का ना तो इलाज है और ना ही फैलने से रोकने में मदद करेगा. फिर भी अभी तक के परीक्षणों के नतीजों के आधार पर हम कह सकते हैं कि हमारा नया माउथवॉश मुंह में मौजूद कोरोना वायरस के खिलाफ कारगर है. उन्‍होंने कहा कि वैश्विक महामारी के मौजूदा स्‍तर पर कंपनी को अपने नए फॉर्मूला पर आधारित माउथवॉश का टेस्‍ट रिजल्‍ट दुनिया के साथ साझा करना अहम लगा. इसलिए फिलहाल हम सिर्फ परीक्षणों के नतीजे साझा कर रहे हैं. उन्‍होंने बताया कि कंपनी सीपीसी टेक्‍नोलॉजी (Cetylpyridinium Chloride Technology) पर बने माउथवॉश को हिंदुस्‍तान यूनिलिवर (HUL) के जरिये पेप्‍सोडेंड जर्मीचेक माउथ रिंस लिक्विड के तहत अगले महीने भारत में लॉन्‍च करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज