व्यापारी बोले- मैरिज हॉल-हलवाई बुक, कार्ड बंट चुके, अब क्या करें

व्यापारी बोले- मैरिज हॉल-हलवाई बुक, कार्ड बंट चुके, अब क्या करें
व्यापारी बोले- मैरिज हॉल-हलवाई बुक, कार्ड बंट चुके, अब क्या करें

कैट के दिल्ली प्रदेश महामंत्री देवराज बवेजा का कहना है कि दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने शादी और अन्य कार्यक्रमों के लिए वर्तमान में 200 लोगों की इजाजत को 50 लोगों तक कर दिया है. लेकिन ऐसा लगता है कि यह सब बिना सोचे-समझे किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2020, 8:34 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) के सीएम अरविन्द केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal ) ने कोविड (Covid-19) के बढ़ते मामलों के मद्देनज़र केंद्र सरकार को दिल्ली के बाजार बंद करने की इजाज़त मांगने के लिए एक प्रस्ताव भेजा है. लेकिन प्रस्ताव भेजने से पहले दिल्ली के व्यापारियों से कोई बातचीत करना मुनासिब नहीं समझा. सरकार के एक तरफा फैसला लिया है. कनफेडेरशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने सीएम केजरीवाल के मनमाने तरीके को बेहद गलत ठहराया है. उनका आरोप है कि हम दिल्ली सरकार को अपना सहयोग देने की पेशकश भी कर चुके हैं. लेकिन सरकार ने एक बार भी बात करना मुनासिब तक नहीं समझा. गौरतलब रहे कि कैट इस मामले में गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) और एलजी अनिल बैजल को एक लैटर भी लिख चुका है.

आपको बता दें कि देश की राजधानी में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच केजरीवाल सरकार कई अहम कदम उठाने जा रही है. कोरोना संक्रमण (Delhi COVID-19 Update) के फैलाव को रोकने के लिए शादी समारोहों में लोगों की संख्‍या कम करने को लेकर केजरीवाल सरकार ने उपराज्‍यपाल अनिल बैजल (LG Anil Baijal) को प्रस्‍ताव भेजा था. LG अनिल बैजल ने प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है. अब दिल्‍ली में होने वाले शादी समारोहों में 200 के बजाय सिर्फ 50 लोग ही शामिल हो पाएंगे. मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने 17 नवंबर को बताया था कि शादी समारोहों में लोगों की संख्‍या को कम करने को लेकर उपराज्‍यपाल को प्रस्‍ताव भेजा गया है.

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार एक बार फिर बढ़ती देख केजरीवाल सरकार ने अपने पुराने फैसले में बदलाव करने का प्रस्ताव उपराज्यपाल को भेजा था. सरकार ने इसके अलावा महामारी की रफ्तार पर लगाम लगाने के लिए कई और प्रस्ताव भी भेजे हैं. इस प्रस्ताव के बाद ही एलजी ने इस फैसले को मंजूरी दी है. दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने न्यूज एजेंसी पीटीआई-भाषा के साथ बातचीत में यह जानकारी दी.



16 दिन के सहलग को सब हो चुका है बुक, अब क्या करें हम-कैट के दिल्ली प्रदेश महामंत्री देवराज बवेजा का कहना है कि सीएम केजरीवाल ने शादी और अन्य कार्यक्रमों के लिए वर्तमान में 200 लोगों की इजाजत को 50 लोगों तक कर दिया है. लेकिन ऐसा लगता है कि यह सब बिना सोचे-समझे किया गया है. सरकार को यह सोचना चाहिए था कि सरकार द्वारा स्वीकृत पैमाने के आधार पर ही लोगों ने शादी-ब्याह समेत दूसरे समारोह के लिए बड़ी संख्यां में मैरिज हॉल आदि बुक कर दिए हैं.
ये भी पढ़ें- अब बढ़ने वाले है तिल और गजक के दाम, आपको चुकाने होंगे अब तक के सबसे ज्यादा दाम

लोगों को बुलाने के लिए निमंत्रण कार्ड भी दिल्ली सहित देशभर में भेजे जा चुके हैं. इस बार शादी का सीजन 26 नवम्बर से 11 दिसंबर तक का ही है. ऐसे में अब जब केवल एक सप्ताह ही रह गया है तो संख्या कम करने से अनेक सामजिक, आर्थिक एवं वित्तीय अव्यवस्था हो जायेगी.

ऐसे निकल सकता है समस्या का समाधान-कैट के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष विपिन आहूजा का कहना है कि बाजार बंद करना समस्या का हल नहीं है. बाजारों में सरकार के कोविड सुरक्षा नियमों का सख्ती से पालन किया जाए, यह ज्यादा जरूरी है. जहाँ तक व्यापारियों का सवाल है, प्रत्येक व्यापारी अपनी दुकान में सुरक्षा नियमों का पूरी तरह पालन कर रहा है. लेकिन जो लोग बाज़ारों में आ रहे हैं, वो सुरक्षा नियमों के पालन के प्रति लापरवाह हैं. सरकार को स्थानीय व्यापारिक एसोसिएशनों के साथ बातचीत कर बाजार में आने वाले लोगों के लिए पुख्ता सुरक्षा नीति बनानी चाहिए जिससे कोविड को बढ़ने से रोका जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज