डिजिटल पेमेंट्स को लेकर RBI का बड़ा फैसला! ग्राहकों को होगा सीधा फायदा

डिजिटल पेमेंट्स को लेकर RBI का बड़ा फैसला! ग्राहकों को होगा सीधा फायदा
रिजर्व बैंक ने डिजिटल पेमेंट्स को लेकर बड़ा फैसला लिया है. इससे ग्राहकों को कई फायदे होंगे.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने डिजिटल पेमेंट्स सेगमेंट (Digital Payments) में प्राइवेट कंपनियों (Private Companies) को हरी झंडी दिखा दी है. इसके लिए केंद्रीय बैंक ने नई अंब्रेला एंटिटी (NUE) का अंतिम प्रारूप (Final Framework) जारी कर दिया है. आइए जानते हैं कि इससे ग्राहकों (Customers) को क्‍या फायदा होगा...

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2020, 3:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने रिटेल पेमेंट्स के लिए एक नई अंब्रेला एंटिटी (NUE) का अंतिम प्रारूप (Final Framework) जारी कर दिया है. इससे पहले फरवरी में केंद्रीय बैंक ने इस प्रारूप का मसौदा (Draft) जारी किया था. दिशानिर्देशों के मुताबिक, पेमेंट स्‍पेस में कम से कम तीन साल काम कर चुकी 300 करोड़ रुपये मूल्‍य (Net Worth) वाली कोई भी निजी कंपनी (Private Company) विभिन्‍न भुगतान सेवाओं के लिए अंब्रेला एंटिटी के तौर पर आवेदन कर सकती है. आइए समझते हैं कि इस नई व्‍यवस्‍था के उपभोक्‍ताओं के लिए क्‍या मायने हैं.

ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं और ऑफर्स मिलेंगे!
मौजूदा समय में सिर्फ नेशनल पेमेंट्स काउंसिल ऑफ इंडिया (NPCI) विभिन्‍न पेमेंट सिस्‍टम को एकसाथ सपोर्ट कर रही है. इनमें RuPay, UPI और नेशनल ऑटोमेटेड क्‍लीयरिंग हाउस इंटर-बैंक ट्रांसफर्स का प्रबंधन कर रही हैं. आरबीआई के निजी कंपनियों को भी रिटेल पेमेंट्स (Retail Payments) में मौका देने के फैसले से एनपीसीआई जैसे दूसरे नेटवर्क भी तैयार हो जाएंगे. इससे ग्राहकों को रिटेल पेमेंट्स के लिए एनपीसीआई के अलावा दूसरे विकल्‍प भी मिलेंगे. साथ ही रिटेल पेमेंट्स सेगमेंट में प्रतिस्‍पर्धा भी बढ़ेगी और ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं व ऑफर्स मिलेंगे.

ये भी पढ़ें- गोल्ड जूलरी को लेकर आ गया नया नियम, जानिए इससे जुड़ी सभी काम की बातें
डिजिटल पेमेंट्स करने वालों की संख्‍या बढ़ेगी


आरबीआई के इस कदम से डिजिटल रिटेल पेमेंट्स सुविधा का लाभ लेने वालों की संख्‍या में भी इजाफा होगा. फिनटेक कंवर्जेंस काउंसिल के चेयरमैन नवीन सूर्या का कहना है कि नई रिटेल पेमेंट्स अंब्रेला एंटिटीज शुरू होने के बाद भारत में डिजिटल पेमेंट्स का इस्‍तेमाल करने वालों की संख्‍या 60 करोड़ तक पहुंच जाएगी. साथ ही उम्‍मीद है कि 55 फीसदी रिटेल पेमेंट्स डिजिटल हो जाएंगे. इससे भारत डिजिटल पेमेंट के मामले में दुनिया के विकसित देशों के साथ खड़ा हो जाएगा. PayNearby के एमडी व सीईओ आनंद कुमार बजाज के मुताबिक, इस क्षेत्र में सिर्फ एनपीसीआई के होने के कारण दूसरी कंपनियों के लिए काफी मौके हैं.

ये भी पढ़ें- 'ड्रैगन' को लगेगा एक और झटका! चीन छोड़कर भारत आने वाली कंपनियों को जापान देगा सब्सिडी

कोरोना संकट के बीच आया रिटेल पेमेंट्स में उछाल
एनपीसीआई का मुख्‍य उद्देश्‍य भारत को कम से कम नकदी इस्‍तेमाल करने वाले समाज (Less Cash Society) में तब्‍दील करना है. कोविड-19 महामारी (Coronavirus) के कारण डिजिटल पेमेंट्स सर्विसेस में बहुत तेजी से उछाल आया है. इससे रिटेल पेमेंट्स सेगमेंट में नई कंपनियों के लिए बड़ी संभावनाओं के दरवाजे खुल गए हैं. अब आरबीआई के रिटेल पेंट्स सेगमेंट में निजी कंपनियों को नई अंब्रेला एंटिटीज के लिए आवेदन करने को हरी झंडी मिलने के बाद ग्राहकों को जल्‍द ही यूपीआई जैसे नई-नई सेवाएं देखने को मिल सकती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज