बड़ी कार्रवाई-DCGI ने कोविड-19 एलिसा जांच किट इंपोर्ट करने वाली कंपनी का लाइसेंस रद्द किया

बड़ी कार्रवाई-DCGI ने कोविड-19 एलिसा जांच किट इंपोर्ट करने वाली कंपनी का लाइसेंस रद्द किया
DCGI ने रद्द किया लाइसेंस

डीसीजीआई (DCGI) ने कोविड-19 आईजीजी एलिस जांच किट के मुंबई की फर्म ट्रांसासिआ बायो मेडिकल का इंपोर्ट लाइसेंस रद्द कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 25, 2020, 12:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली.भारत के औषधि नियंत्रक डीसीजीआई  (DCGI) ने कोविड-19 (Covid-19) आईजीजी एलिस जांच किट (IgG ELISA kit) के मुंबई के फर्म ट्रांसासिआ बायो मेडिकल के आयात लाइसेंस को रद्द कर दिया है. नियंत्रक का कहा है कि अमेरिकी सरकार की समकक्ष संस्था एफडीए ने जांच किट बनाने वाली कंपनी को कोरोना वायरस सीरोलॉजी जांच किट सूची से हटा दिया है. मुंबई की कंपनी को 17 जुलाई को नोटिस भेजकर पूछा गया था कि चूंकि एफडीए ने निर्माता कंपनी को अपनी सूची से हटा दिया है, ऐसे में उसका आयात लाइसेंस रद्द क्यों ना किया जाए. मुंबई के फर्म को 20 जुलाई तक जवाब देना था, लेकिन उसने कुछ नहीं कहा. इसलिए ऐसा माना गया कि फर्म के पास कहने को कुछ नहीं है और उसका आयात लाइसेंस रद्द कर दिया गया.

डीसीजीआई ने  रेमडेसिवीर दवा की काला बाजारी पर लिखी चिट्ठी- इससे पहले कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की जानेवाली रेमडेसिवीर दवा की काला बाजारी को लेकर डीसीजीआई ने राज्यों को चिट्ठी लिखी थी.इस दवा को लेकर काला बाजारी की शिकायत मिल रही थी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को शिकयत मिलने के बाद मंत्रालय ने इसे सीडीएससीओ सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन को भेजा.

ये भी पढ़ें-सिप्ला अगस्त में लॉन्च करेगी कोरोना की दवा Ciplenza, 68 रुपये होगी एक टैबलेट की कीमत



जिसके बाद डीसीजीआई ने राज्यों को तुरंत स्थानीय स्तर पर विजिलेंस शुरू कर कालाबाजारी और कीमत पर नजर रखने को कहा था. दरअसल, रेमडेसिवीर दवा भारत में नहीं बनाई जाती है लेकिन कोरोना के चलते हाल ही में डीसीजीआई ने सिपला, हेटेरो और मायलेन लैबोरेटरी कंपनी को इसके मैन्युफैक्चर और ड्रग मार्केटिंग की अनुमति दी है. डीसीजीआई ने दवा को सिर्फ कोरोना संक्रमित गंभीर मरीजों के इलाज में इस्तेमाल की इजाज़त दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading