केंद्र ने कारोबारियों को दी बड़ी राहत! सालाना जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अवधि बढ़ी, देखें नई डेडलाइन

केंद्र सरकार ने जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अवधि दो महीने के लिए बढ़ा दी है.
केंद्र सरकार ने जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अवधि दो महीने के लिए बढ़ा दी है.

सेंट्ल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्‍ट टैक्‍स एंड कस्‍टम्‍स (CBIC) ने वित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए सालाना जीएसटी रिटर्न (GSTR-9) और समाधान विवरण (GSTR-9C) दाखिल करने की अवधि 31 दिसंबर 2020 तक बढ़ा दी है. दरअसल, अभी भी कई राज्‍यों में कोविड-19 (COVID-19) के कारण कारोबारी गतिविधियां (Business Operations) सामान्‍य नहीं हो पाई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 25, 2020, 7:18 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार (Central Government) ने देश के लाखों कारोबारियों को बड़ी राहत देते हुए वित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए सालाना जीएसटी रिटर्न (GSTR-9) और समाधान विवरण (GSTR-9C) दाखिल करने की अवधि बढ़ा दी है. सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्‍ट टैक्‍स एंड कस्‍टम्‍स (CBIC) ने बताया कि जीएसटी रिटर्न (GST Return) दाखिल करने की अवधि 31 अक्‍टूबर 2020 से बढ़ाकर 31 दिसंबर 2020 कर दी गई है. दरअसल, कोरोना संकट (Coronavirus in India) के कारण अभी तक देश के कई हिस्‍सों में कारोबारी गतिविधियां (Business Activities) सामान्‍य नहीं हो पाई हैं.

किसके लिए जरूरी है जीएसटी रिटर्न दाखिल करना
जीएसटीआर-9 वस्‍तु व सेवा कर के तहत रजिस्‍टर्ड करदाताओं की ओर से दाखिल किया जाने वाला सालाना रिटर्न है, जबकि जीएसटीआर-9C जीएसटीआर-9 और ऑडिटेड एनुअल फाइनेंशियल स्‍टेटमेंट के बीच का समाधान विवरण (Statement of Reconciliation) है. नियमों के तहत 2 करोड़ रुपये सालाना तक कारोबार करने वाले सभी व्‍यापारियों के लिए सालाना जीएसटी रिटर्न दाखिल करना अनिवार्य है. वहीं, 5 करोड़ रुपये तक का सालाना कारोबार करने वाले व्‍यापारियों के लिए सामाधान विवरण पेश करना जरूरी है.
ये भी पढ़ें - निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने दो कंपनियों में बढ़ाई हिस्‍सेदारी, टाटा मोटर्स के खरीदे 1.29% शेयर्स

सितंबर में एक महीना बढ़ाई गई थी जीएसटीआर दाखिल करने की अवधि


केंद्र सरकार ने सितंबर 2020 में सालाना जीएसटी रिटर्न और ऑडिट रिपोर्ट दाखिल करने की अवधि एक महीना बढ़ाते हुए 31 अक्‍टूबर 2020 कर दी थी. इसके बाद कई जगहों पर कोरोना वायरस के कारण हालात सामान्‍य नहीं होने के कारण अब फिर अगले दो महीने तक सालाना जीएसटी रिटर्न और ऑडिट रिपोर्ट दाखिल करने की छूट दे दी गई है. इसके अलावा व्‍यक्तिगत करदाताओं को आईटीआर दाखिल करने की अवधि में भी छूट दी गई है.

से भी पढ़ें- बाज़ार में जल्द 30 रुपये किलो के दाम पर बिकने लगेगी प्याज़! NAFED ने बताया प्लान

व्‍यक्तिगत करदाताओं के लिए भी ITR दाखिल करने की अवधि बढ़ी
सरकार ने इसके अलावा व्‍यक्तिगत करदाताओं (Taxpayers) को भी बड़ी राहत दी है. सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) दाखिल करने की डेडलाइन एक महीने और बढ़ा दी है. अब इनकम टैक्स रिटर्न फाइल​ करने की नई तारीख 31 दिसंबर 2020 हो गई है. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने कहा कि टैक्सपेयर्स के लिए आईटीआर दाखिल करने की अंतिम तारीख को 31 दिसंबर 2020 तक के लिए बढ़ा दिया गया है. सीबीडीटी ने कहा कि डेडलाइन को इसलिए बढ़ाया जा रहा है, ताकि टैक्सपेयर्स के पास इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने के लिए अतिरिक्त समय मिल सके.

यह भी पढ़ें- अगर बाज़ार में हल्दी-मिर्च, मसाले सस्ते हो जाएं तो चौंकिएगा मत! यह है बड़ी वजह

ये टैक्‍सपेयर्स 31 जनवरी 2021 तक दाखिल कर सकते हैं आईटीआर
जिन टैक्सपेयर्स के अकाउंट ऑडिट किए जाने हैं, उनके लिए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की डेडलाइन दो महीने के लिए बढ़ाकर 31 जनवरी 2021 कर दी गई है. सीबीडीटी ने कहा कि टैक्सपेयर्स के लिए आईटीआर दाखिल करने की अंतिम तारीख, जिनके खातों की ऑडिट करवाना आवश्यक है (जिनके लिए आईटी अधिनियम के अनुसार नियत तारीख 31 अक्टूबर, 2020 है) को बढ़ाकर 31 जनवरी, 2021 कर दिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज