21 हजार रुपए तक की सैलरी वालों को सरकार का तोहफा, अगले महीने से इतनी ज्यादा मिलेगी सैलरी

यदि आप प्राइवेट नौकरी करते हैं और हर महीने 21 हजार रुपये तक की सैलरी मिलती है, तो इस महीने से आपकी सैलरी बढ़ जाएगी.

News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 12:53 PM IST
21 हजार रुपए तक की सैलरी वालों को सरकार का तोहफा, अगले महीने से इतनी ज्यादा मिलेगी सैलरी
21 हजार रुपये तक कमाने वालों को जल्द मिलेगी ज्यादा सैलरी
News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 12:53 PM IST
प्राइवेट नौकरी करने वालों को मोदी सरकार ने दिया बड़ा तोहफा. अगर आपको हर महीने 21 हजार रुपये तक की सैलरी मिलती है तो इस महीने से आपकी सैलरी बढ़ जाएगी. यह फैसला 1 जुलाई 2019 से लागू हो गया है. सरकार ने कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआई) योजना के तहत कर्मचारियों के कॉन्ट्रिब्यूशन में कटौती कर दी है. खास बात ये है कि इस कटौती के बाद कर्मचारियों को अगस्त महीने से ज्यादा सैलरी मिलेगी.

जानिए कितने रुपये तक का होगा फायदा
अभी तक ESI कॉट्रिब्युशन के रूप में 6.5 फीसदी की कटौती होती थी. इस कटौती में 1.75 फीसदी हिस्सा कर्मचारी का और 4.75 फीसदी हिस्सा नियोक्ता का होता था. सरकार ने इस कटौती को घटाकर 4 फीसदी कर दिया है. नए नियम के हिसाब से कर्मचारियों के हिस्से से 0.75 फीसदी अंशदान की कटौती होगी और नियोक्ता को 3.25 फीसदी का अंशदान देना होगा. यानि कर्मचारी की सैलरी में सीधे 1 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो जाएगी. जिसे 21 हजार रुपये प्रतिमाह सैलरी मिल रही है उसे 1 फीसदी के हिसाब से अधिकतम 210 रुपये का लाभ मिलेगा.

यह भी पढ़ें: 2 से 5 करोड़ रुपये की आय पर सरचार्ज की समीक्षा करेगी सरकार

इस बदलाव से कितने कर्मचारियों को मिलेगा फायदा?
सरकार के इस फैसले का फायदा देशभर की प्राइवेट कम्पनियों में काम कर रहे लगभग 3 करोड़ 60 लाख से ज्यादा कर्मचारियों को मिलेगा. फायदा कंपनियों को भी मिलेगा, अब उनको बीमा पर कम पैसा खर्च करना पड़ेगा.

जानें क्या-क्या फायदे हैं इस स्कीम के?
Loading...

>> कोई भी कर्मचारी छह महीने की नौकरी के बाद सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में इलाज करा सकते हैं.

>> कर्मचारी के आश्रित यानी पत्नी, बेटा-बेटी या माता-पिता का भी इलाज होगा. बशर्ते उनकी महीने की आमदनी 9000 रुपए तक ही हो.

>> किसी भी कर्मचारी के इलाज पर अभी ESI 87.5 फीसदी खर्च का भुगतान करता है. बाकी 12.5 फीसदी खर्च राज्य सरकार उठाती है.

>> महिला कर्मचारी को 26 हफ्ते का मैटरनिटी लाभ मिलता है. मतलब ये कि महिला कर्मचारी को बिना ऑफिस गए पूरी तनख्वाह देने का प्रावधान है.

ये  भी पढ़ें: अब आधार से फाइल करेंगे ITR, तो खुद बन जाएगा PAN Card 

>> कर्मचारी के विकलांग होने पर उसके कुल वेतन का 90 फीसदी रकम देने का प्रावधान है.

>> कर्मचारी के बेरोजगार होने पर उसे नई नौकरी मिलने तक भत्ता दिया जाता है. नकद रकम उसके खाते में डाली जाती है.

किन कर्मचारियों को मिलता है ईएसआई का लाभ
ईएसआई योजना का लाभ उन कर्मचारियों को मिलता है, जिनकी मासिक आय 21 हजार रुपए से कम हो और जो कम से कम 10 कर्मचारियों वाली कंपनी में काम करते हों. बता दें कि 2016 तक यह आय 15 हजार रुपये थी जिसे 1 जनवरी, 2017 से बढ़ाकर 21 हजार कर दिया गया था. 31 मार्च 2016 तक ईएसआईसी के 2.1 करोड़ बीमित सदस्य थे और करीब 6 करोड़ लोगों को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ मिल रहा था.
First published: July 9, 2019, 12:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...