होम /न्यूज /व्यवसाय /

Taxpayers के लिए बड़ी खबर! आयकर विभाग ने आईटीआर फॉर्म-1, 4 के लिए ऑफलाइन सुविधा भी की शुरू

Taxpayers के लिए बड़ी खबर! आयकर विभाग ने आईटीआर फॉर्म-1, 4 के लिए ऑफलाइन सुविधा भी की शुरू

टैक्सपेयर के लिए नई सुविधा शुरू हुई.

टैक्सपेयर के लिए नई सुविधा शुरू हुई.

आयकर विभाग (Income Tax Department) ने इनकम टैक्‍स रिटर्न दाखिल करने (ITR Filing) के लिए पूरी जानकारी देते हुए कहा है कि ऑफलाइन सुविधा केवल आईटीआर-1 और आईटीआर-4 (ITR Form-1 & 4) के लिए है. इनके अलावा सभी आईटीआर को बाद में ऑफलाइन सुविधा से जोड़ा जाएगा.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. आयकर विभाग (Income Tax Department) ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए करदाताओं के इनकम टैक्‍स रिटर्न फार्म-1 और 4 (ITR Form-1 & 4) भरने के लिए ऑफलाइन सुविधा (Offline Filing Facility) भी शुरू कर दी है. ऑफलाइन सुविधा ई-फाइलिंग पोर्टल पर उपलब्ध है. यह नई प्रौद्योगिकी जावा स्क्रिप्ट आब्जेक्ट नोटेशन (JSON) पर आधारित है. यह आंकड़ों के भंडारण के लिए सरल प्रारूप है. ऑफलाइन सुविधा विंडोज-7 या उसके बाद के संस्करणों के साथ कंप्यूटर पर डाउनलोड की जा सकती है.

    इन दोनों फॉर्म से आईटीआर दाखिल करने वालों को मिलेगी सुविधा
    आयकर विभाग ने फाइलिंग के लिए पूरी जानकारी देते हुए कहा है कि ऑफलाइन सुविधा केवल आईटीआर-1 और आईटीआर-4 के लिए है. इनके अलावा सभी आईटीआर को बाद में जोड़ा जाएगा. आईटीआर फॉर्म-1 (सहज) और आईटीआर फॉर्म-4 (सुगम) सरल प्रारूप हैं, जिसका उपयोग बड़ी संख्या में कम आय वाले करदाता करते हैं. सहज फार्म वे करदाता भर सकते हैं, जिनकी सालाना आय 50 लाख रुपये तक है. साथ ही उनकी यह आय वेतन, एक मकान वाली संपत्ति/अन्य स्रोतों (ब्याज) से हासिल होती है.

    ये भी पढ़ें- LPG Cylinder: अब सिलेंडर बुक कराना हुआ बेहद आसान, WhatsApp की मदद से घर बैठे करें बुक

    FAQ के जरिये करदाताओं को उपलब्‍ध कराई गई है सहायता
    आईटीआर-4 वे व्‍यक्तिगत करदाता, हिंदू अविभाजित परिवार और कंपनियां भर सकती हैं, जिनकी कुल आय 50 लाख रुपये तक है. साथ ही जिनकी आय का स्रोत कारोबार या पेशा है. नांगिया एंडर्सन इंडिया की निदेशक नेहा मल्होत्रा ने कहा कि रिटर्न दाखिल करने के लिहाज से नई सुविधा सरल है. इससे करदाताओं को काफी आसानी होगी. उन्होंने बताया कि इसमें बार-बार पूछे जाने वाले सवालों (FAQ) के जरिये सहायता दी गई है. साथ ही मार्गदर्शन नोट, परिपत्र और कानून के प्रावधानों का भी जिक्र किया गया है ताकि करदाता बिना समस्या के रिटर्न फाइल कर सकें. रिटर्न में सुगमता बढ़ने और दिक्‍कतें खत्‍म होने से अनुपालन का स्तर बढ़ेगा.

    Tags: CBDT, Easy steps to file income tax returns, Filing income tax return, Income tax department, Income tax return, ITR filing

    अगली ख़बर