Home /News /business /

पाकिस्तान की हुई हार, इस देश के प्रिंस ने भी निभाई PM मोदी से दोस्ती

पाकिस्तान की हुई हार, इस देश के प्रिंस ने भी निभाई PM मोदी से दोस्ती

फाइल फोटो, pm narendra modi

फाइल फोटो, pm narendra modi

भारत के लिए खुशखबरी सऊदी अरब करने वाला है मुंबई में 44 अरब डॉलर का इन्वेस्टमेंट.

    सऊदी अरब कच्चे तेल की आपूर्ति के लिए भारत को क्षेत्रीय केंद्र बनाने पर विचार कर रहा है. सऊदी अरब के विदेश मंत्री अदेल बिन अहमद अल-जुबेर ने कहा है कि भंडारण सुविधाओं के निर्माण और रिफाइनरी को बेहतर करने में लिए उनका देश अरबों डॉलर निवेश करेगा. दुनिया का सबसे बड़ा तेल निर्यातक सऊदी अरब भारत में पेट्रोलियम प्रॉडक्ट्स के डिस्ट्रीब्यूशन और मार्केटिंग क्षेत्र में भी निवेश करेगा. आपको बता दें कि सऊदी ने पाकिस्तान में सिर्फ 1.42 लाख करोड़ रुपए के निवेश की बात कही है.

    इसके साथ ही सऊदी भारत को पेट्रो केमिकल सेक्टर में बुनियादी ढांचे को मजबूत करने में मदद करेगा. सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के प्रतिनिधिमंडल में शामिल विदेश मंत्री ने कहा कि उनका देश भारत को बढ़ती आर्थिक शक्ति के रूप में देखता है और उसकी आगे की वृद्धि को लेकर आशावान है.

    ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना: इन लोगों के खाते में नहीं आएंगे 6000 रुपये! फटाफट जानें इससे जुड़े सभी नियम

    अल जुबेर ने कहा कि हम भारत को क्षेत्र में कच्चे तेल की आपूर्ति का केंद्र बनाने पर गौर कर रहे हैं. हम यहां भंडारण सुविधाएं बनाने पर विचार कर रहे हैं. हम रिफाइनरी और डिस्ट्रीब्यूशन और मार्केटिंग क्षेत्र पर भी गौर कर रहे हैं.' उन्होंने कहा, 'हम ऐसी ढांचागत सुविधा में निवेश कर रहे हैं जो भारत को पेट्रोलियम उत्पादों के आयात और निर्यात के काबिल बनाएगा.'

    सऊदी अरब ने हाल ही में यह घोषणा की कि दुनिया की सबसे बड़ी तेल निर्यातक कंपनी सऊदी अरामको महाराष्ट्र में 44 अरब डॉलर की लागत से संयुक्त उद्यम के तहत स्थापित होने वाली रिफाइनरी परियोजना में भागीदार होगी. यह दुनिया की सबसे बड़ी रिफाइनरी होगी जिसका निर्माण एक बार में किया जाएगा.

    ये भी पढ़ें: LIC की बेस्ट पॉलिसी: सिर्फ 1302 रुपए खर्च मिलेंगे इतने लाख रुपये, जानिए पूरा प्रोसेस

    अल-जुबेर ने कहा कि हम भारत की भागीदारी के साथ 44 अरब डॉलर की लागत सबसे बड़ा रिफाइनरी परिसर बना रहे हैं. उन्होंने कहा, 'हम भारत को एक बढ़ती आर्थिक शक्ति और एक स्थिर व अवसरों वाले देश के रूप में देख रहे हैं. इसीलिए हम भारत के साथ बेहतर और मजबूत संबंध चाहते हैं.' सऊदी अरब के विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि उनका देश भारत की तेल मांग को पूरा करने को प्रतिबद्ध है और अधिक कच्चा तेल बेचने को तैयार है.

    Tags: Bharat Petroleum Corporation, Crude oil, Crude oil prices, Oil marketing companies, Oil markets

    अगली ख़बर