अपना शहर चुनें

States

बैंक में नौकरी करने वालों के लिए खुशखबरी-15 फीसदी बढ़ेगी सैलरी, नवंबर 2017 से मिलेगा एरियर

बैंक कर्मचारियों को एरियर नवंबर 2017 से मिलेगा
बैंक कर्मचारियों को एरियर नवंबर 2017 से मिलेगा

बैंक यूनियनों और इंडियन IBA के बीच सहमति बन गई. इस बैठक में बैंककर्मियों की सैलरी 15 फीसदी बढ़ाने का फैसला लिया गया. एरियर नवंबर 2017 से मिलेगा. यह राशि करीब 7898 करोड़ रुपये होगी. यह मामला 2017 से ही लंबित था.

  • Share this:
नई दिल्ली. बैंक में नौकरी कर रहे कर्मचारियों (Bank Employee) के लिए बड़ी खुशखबरी आई है. सैलरी को लेकर बुधवार को बैंक यूनियन UFBU (United Forum of Bank Unions) और  IBA (Indian Bank Association) के बीच सहमति बन गई. इस बैठक में बैंककर्मियों की सैलरी 15 फीसदी बढ़ाने का फैसला लिया गया. एरियर नवंबर 2017 से मिलेगा. यह राशि करीब 7898 करोड़ रुपये होगी. यह मामला 2017 से ही पेंडिंग था. बैंक यूनियन लगातार इसकी मांग कर रहे थे, लेकिन अब तक इसपर सहमति नहीं बन पाई थी. लेकिन 22 जुलाई को इस मुद्दे पर सहमति बन गई. मुंबई में भारतीय स्टेट बैंक (SBI-State Bank of India) के मुख्यालय में एक बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया.

NPS पर भी बनी सहमति-  बैंकर्स की सैलरी से अब NPS में योगदान 14 फीसदी होगा. मौजूदा समय में यह 10 फीसदी होता है. आपको बता दें कि यह बेसिक पे और महंगाई भत्ता मिलाकर 10 फीसदी होता है, जिसे 14 फीसदी करने का फैसला किया गया है. हालांकि इसके लिए सरकार से मंजूरी लेनी होगी.

UFBU संयोजक सी एच वेंकटाचलम के नेतृत्व में राज किरण राय और बैंक कर्मचारी यूनियन प्रतिनिधियों की अगुवाई वाले आईबीए प्रतिनिधियों के बीच बैठक हुई. वेंकटचलम ने कहा कि वेतन में संशोधन से 35 बैंकों के कर्मचारी इसका फायदा ले सकेंगे





अब क्या होगा- अब बैंकर्स के लिए नया पे स्केल तैयार किया जाएगा. इसके अलावा बैंकिंग सेक्टर में भी PLI (परफॉर्मेंस लिंक्ड इंसेंटिव) को लागू किया जाएगा. PLI बैंक के ऑपरेटिंग प्रॉफिट के आधार पर मिलेगा. यह सालान पे किया जाएगा और सैलरी से अलग होगा.

ये भी पढ़ें-Air India ने कर्मचारियों की सैलरी में की 40% तक की कटौती, पायलट्स ने कहा-अंतिम कटौती हुई है 85%
IBA और ट्रेड यूनियन के बीच प्रत्येक पांच साल में एक बार सदस्य बैंकों में 8 लाख से अधिक बैंक कर्मचारियों के वेतन पर बातचीत होती है. दोनों के बीच लंबे समय तक देरी के बाद मूल रूप से 2017 के नवंबर में होने वाले संशोधन पर आम सहमति बनी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज