चीन को तगड़ा झटका! 2020 के दौरान स्‍मार्टफोन शिपमेंट में आई 20 फीसदी से ज्‍यादा की गिरावट

चीन से 2020 के दौरान स्‍मार्टफोन शिपमेंट में कमी दर्ज की गई.

चीन से 2020 के दौरान स्‍मार्टफोन शिपमेंट में कमी दर्ज की गई.

चीन (China) की कम्‍युनिस्‍ट सरकार के आंकड़ों के मुताबिक, 2020 के दौरान देश में 29.6 करोड़ हैंडसेट की बिक्री ही हुई, जो 2019 की इसी अवधि में 37.2 करोड़ स्‍मार्टफोन रही थी. साल की पहली छमाही के दौरान ओप्‍पो (Oppo), वीवो (Vivo) और शियोमी कॉर्प (Xiaomi Corp) के शिपमेंट में कमी दर्ज की गई. हालांकि, हुवावे (Huawei) की बाजार हिस्‍सेदारी में इस दौरान भी वृद्धि हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 11, 2021, 6:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. चीन (China) में बीजिंग में कोरोना वायरस फिर से फैलने लगा है. इस बीच चीन की सरकार ने अपनी स्‍मार्टफोन इंडस्‍ट्री (Smartphone Industry) को तगड़ा झटका देने वाले आंकड़े जारी किए है. आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 के मुकाबले 2020 में घरेलू स्‍मार्टफोन शिपमेंट (Domestic Smartphone Shipment) में 20.4 फीसदी की कमी दर्ज की गई. सरकारी थिंक टैंक चाइना एकेडमी ऑफ इंफॉर्मेशन एंड कम्‍युनिकेशंस (CAICT) के आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना संकट के बीच 2020 में उपभोक्‍ताओं को 29.6 करोड़ मोबाइल हैंडसेट की डिलिवरी (Handset Delivery) की गई, जो 2019 में 37.2 करोड़ स्‍मार्टफोन थी.

2019 में भी दर्ज की गई थी 4 फीसदी गिरावट

सीएआईसीटी के मुताबिक, 2020 की पहली छमाही के के दौरान ओप्‍पो (Oppo), वीवो (Vivo) और शियोमी कॉर्प (Xiaomi Corp) के शिपमेंट में कमी दर्ज की गई. हालांकि, हुवावे (Huawei) की बाजार हिस्‍सेदारी में इस दौरान भी वृद्धि हुई. थिंक टैंक के मुताबिक, कोरोना संकट को देखते हुए लोग अब अपने पुराने हैंडसेट को लंबे समय तक इस्‍तेमाल कर बचत करने पर भरोसा दिखा रहे हैं. वहीं, सप्‍लाई चेन और मांग की दिक्‍कतों के कारण भी शिपमेंट में कमी आई है. सीएआईसीटी ने बताया कि 2019 में भी 2018 के मुकाबले स्‍मार्टफोन शिपमेंट में 4 फीसदी कमी आई थी.

ये भी पढ़ें- अब बाज़ार में बिकेगा गाय के गोबर से बना पेंट, केंद्र सरकार करेगी लांच, जानें क्‍या हैं फायदे
हुवावे का हिस्‍सा कब्‍जाने को बढ़ाया प्रोडक्‍शन

थिंक टैंक ने कहा कि 2020 की शुरुआत में हैंडसेट वेंडर्स (Handset Vendors) को नए स्‍मार्टफोन की बिक्री में बढ़ोतरी की उम्‍मीद थी. दरअसल, 2020 की शुरुआत में देश में 5G नेटवर्क (5G Network) का तेजी से प्रसार हो रहा था. हालांकि, साल की पहली छमाही में ज्‍यादातर बड़े ब्रांड्स के शिपमेंट में गिरावट दर्ज की गई. फिर भी चीन के हाईइंड स्‍मार्टफोन की बाजार हिस्‍सेदारी बढ़ती रही. दूसरी छमाही में अमेरिका ने हुवावे पर प्रतिबंध लगा दिया और उसकी बिक्री की रफ्तार घट गई. इस दौरान ओप्‍पो, वीवो और शियोमी ने हुवावे की बाजार हिस्‍सेदारी पर कब्‍जा करने के लिए प्रोडक्‍शन बढ़ा दिया. वहीं, भारत में चीनी उत्‍‍‍‍‍‍‍‍पादों के खिलाफ लहर का असर भी पड़ा.

ये भी पढ़ें- शेयर बाजार ने रचा इतिहास! Sensex पहली बार 49 हजार के ऊपर हुआ बंद, Nifty भी 14500 के करीब पहुंचा



एप्‍पल ने चीन में पेश किया पहला 5G हैंडसेट

एप्‍पल (Apple) ने अपना पहला 5G हैंडसेट चीन के बाजारों में उतारा. स्‍थानीय विशेषज्ञों ने इस हैंडसेट की जमकर आलोचना की, लेकिन एप्‍पल यूजर्स ने इसे हाथों-हाथ लिया. उन्‍होंने नया फोन खरीदकर खुद को अपडेट किया. एप्‍पल ने दिसंबर 2020 के दौरान चीन के उपभोक्‍ताओं (Chinese Consumers) को 2.52 करोड़ स्‍मार्टफोन बेचे. सीएआईसीटी के मुताबिक, एप्‍पल के स्‍मार्टफोन की बिक्री भी चीन में साल-दर-साल आधार पर घटी है. चीन में 2020 के दौरान एप्‍पल के स्‍मार्टफोन की बिक्री में 12.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज