लाइव टीवी

पेट्रोल-डीज़ल कीमतों को लेकर बड़ा फैसला लेने की तैयारी में कपंनियां! सीधा होगा आम आदमी पर असर

hindi.moneycontrol.com
Updated: May 20, 2020, 6:16 PM IST
पेट्रोल-डीज़ल कीमतों को लेकर बड़ा फैसला लेने की तैयारी में कपंनियां! सीधा होगा आम आदमी पर असर
पेट्रोल-डीजल में फिर लगेगी आग, फिर से अंतरराष्ट्रीय कीमतों से तय होंगी कीमतें

अगले महीने से पेट्रोल डीजल की कीमतें (Petrol-Diesel Prices) को लेकर जल्द बड़ा फैसला हो सकता है. CNBC आवाज़ को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक घरेलू डिमांड में आई तेजी के बाद ऑयल मार्केटिंग कंपनियां डायनामिक प्राइसिंग फिर से शुरू कर रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. घरेलू डिमांड में आई तेजी के बाद ऑयल मार्केटिंग कंपनियां डायनामिक प्राइसिंग फिर से शुरू करने की तैयारी कर रही हैं. CNBC आवाज़ को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, HPCL, BPCL और IOC इसे जल्द लागू कर सकती है. ऐसे में सस्ते क्रूड का फायदा ग्राहकों को नहीं मिला पाया. लेकिन अब तेजी का भार उठाना पड़ सकता है.

आपको बता दें कि डायनामिक प्राइसिंग फार्मूला 16 मार्च से बंद है. मई के पहले 15 दिन में डिमांड 60 फीसदी के पार चली गई है. लॉकडाउन-4 में छूट से डिमांड का और बढ़ना तय है जिसको ध्यान में रखकर जून से डायनामिक प्राइसिंग शुरू हो सकती है.

ये भी पढ़ें: फ्लाइट में अब नहीं मिलेंगी ये जरूरी सेवाएं!करना होगा इन 7 नियमों का पालन



भारत में कैसे तय होती हैं तेल की कीमतें?



>> तेल की कीमतें दो मुख्य चीजों पर निर्भर करती हैं. एक अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमत और दूसरा सरकारी टैक्स. क्रूड ऑयल के रेट पर सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है, मगर टैक्स सरकार अपने स्तर से घटा-बढ़ा सकती है.

>> यानी जरूरत पड़ने पर सरकार टैक्स कम कर बढ़े दाम से कुछ हद तक जनता को फायदा पहुंचा सकती है. पहले देश में तेल कंपनियां खुद दाम नहीं तय करती थीं, इसका फैसला सरकार के स्तर से होता था. मगर जून 2017 से सरकार ने पेट्रोल के दाम को लेकर अपना नियंत्रण हटा लिया गया. कहा गया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिदिन उतार-चढ़ाव के हिसाब से कीमतें तय होंगी.

ये भी पढ़ें: 5 लाख रुपये वाली इस योजना के बारे में वायरल हो रही हैं फेक जानकारी, बचकर रहें!

>> अमूमन जिस रेट पर हम तेल खरीदते हैं, उसमें करीब 50 फीसदी से ज्यादा टैक्स होता है. इसमें करीब 35 फीसदी एक्साइज ड्यूटी और 15 फीसदी राज्यों का वैट या सेल्स टैक्स. इसके अलावा कस्टम ड्यूटी होती है, वहीं डीलर कमीशन भी जुड़ता है. तेल के बेस प्राइस में कच्चे तेल की कीमत, उसे शोधित करने वाली रिफाइनरीज का खर्च शामिल होता है. इसलिए, क्रूड की कीमतें सीधे खुदरा कीमतों को प्रभावित नहीं करती हैं.
First published: May 20, 2020, 6:03 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading