• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • बिल गेट्स ने कहा- स्पेस ट्रैवल पर नहीं करूंगा खर्च, रॉकेट ही सभी समस्याओं का समाधान नहीं

बिल गेट्स ने कहा- स्पेस ट्रैवल पर नहीं करूंगा खर्च, रॉकेट ही सभी समस्याओं का समाधान नहीं

बिल गेट्स ने जलवायु परिवर्तन पर एक ​किताब पब्लिश की है.

दिग्गज बिज़नेसमैन और माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स (Bill Gates) ने हाल ही में एक किताब पब्लिश की है. इस किताब में उन्होंने जलवायु आपदा (Climate Disaster) से निपटने के तरीकों के बारे में बताया है. उन्होंने यह भी बताया कि कैसे टेक्नोलॉजी की दुनिया से उनका रूझान साइंस और पर्यावरण के क्षेत्र में बढ़ा है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. बिल गेट्स ने एक वैश्विक महामारी का अनुमान लगाया था और अब वो जलवायु आपदा (Climate Disaster) का अनुमान लगा रहे हैं. लेकिन इस बार वो यह भी बता रहे हैं कि इस जलवायु आपदा से कैसे निपटा जा सकता है. माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक, बिजनेस मैगनेट गेट्स (Bill Gates) की नई किताब पब्लिश हुई है. इस किताब का नाम “How to Avoid a Climate Disaster” है. इसी किताब के लॉन्च के बाद एक इंटरव्यू में गेट्स ने कहा कि कहा कि टेस्ला और SpaceX के बॉस एलन मस्क (Elon Musk) की तरह वो मंगल ग्रह की समस्याओं पर अपना ध्यान केंद्रित नहीं करना चाहते हैं. उनकी नज़र धरती पर आने वाली समस्याओं पर है.

    कारा स्विशर के साथ अपने इंटरव्यू में गेट्स ने कहा, ‘यह कहना महत्वपूर्ण है ​कि एलन ने टेस्ला के माध्यम से जो किया वो जलवायु परिवर्तन को लेकर किसी व्यक्ति द्वारा किया गया सबसे बड़ा योगदान है. और आप भी आनते है कि एलन मस्क कमतर आंकना एक अच्छा आइडिया नहीं है.’

    हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि मस्क के सॉल्युशन को वो वास्तिविक सॉल्युशन के रूप में नहीं देखते हैं. उन्होंने कि वो मंगल के बारे में सोचने वाले व्यक्ति नहीं है. गेट्स यह नहीं मानते हैं कि रॉकेट ही हमारी सभी समस्याओं का समाधान है. इस इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि टेस्ला जैसी कंपनियां पैसेंजर्स कारों जैसे क्षेत्र में बहुत अच्छा काम कर रही हैं. लेकिन हमें जलवायु परिवर्तन को लेकर बड़े बदलाव के लिए अन्य इंडस्ट्रीज की समस्याओं पर भी ध्यान देना होगा.

    यह भी पढ़ें: रिकॉर्ड स्‍तर पर Bitcoin! पहली बार 50,000 डॉलर के पार पहुंचा दाम, जानें क्‍यों तेजी से बढ़ रही इसकी कीमत

    स्पेस में ट्रैवल करने से बेहर खसरे का टीका खरीदेंगे गेट्स
    गेट्स बताते हैं कि वो स्पेस में किसी रॉकेट में ट्रैवल करने की जगह खसरे के टीके (Measles Vaccines) पर अपना पैसा खर्च करना पंसद करेंगे. उन्होंने कहा, ‘मैं बहुत ज्यादा पैसे नहीं खर्च करूंगा क्योंकि मेरी संस्था 1,000 डॉलर में खसरे का टीका खरीदकर जिंदगियां बचा सकेगी. मैं कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में सोचता हूं. मैं उस 1,000 डॉलर को खसरे के टीके के लिए इस्तेमाल करना पसंद करूंगा.

    एक दूसरे इंटरव्यू में बिल गेट्स ने बताया कि उन्होंने कैसे जलवायु परिवर्तन को लेकर काम किया है. दो प्रमुख कारणों की वजह से उनका ध्यान इस ओर गया. पहला तो यह कि साइंस की तरफ उनका झुकाव हमेशा से ही रहा है और दूसरा यह कि वैश्विक विकास को लेकर दुनिया के सामने क्या चुनौतियों को समझना रहा. बीते कुछ दशक में गेट्स का ध्यान दुनिया के कुछ रिमोट एरिया में इलेक्ट्रिसिटी की उपलब्धता कराना रहा है.

    यह भी पढ़ें: सरकारी बैंकों के निजीकरण से पहले दो कानूनों में संशोधन करेगी मोदी सरकार

    ट्विटर पर भी अपनी किताब के बारे में बताते हुए उन्होंने लिखा, ‘जलवायु आपदा से निपटने के लिए हमें बिजली उत्पादन, भोजन बनाने, वस्तुएं बनाने, ट्रैवल करने और बिल्डिंगों को गर्म या ठंडा करते समय होने वाले उत्सर्जन को कम करना होगा. यह आसान नहीं होगा लेकिन मेरा मानना है कि हम ऐसा कर सकते हैं. यह किताब उसी बारे में है.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज