देश के बड़े उद्योगपति अनिल अग्रवाल ने इस कंपनी में अपनी हिस्सेदारी बेची, जानिए क्यों

ये बांड अगले साल मार्च में परिपक्व होने वाले थे लेकिन अग्रवाल ने उससे पहले ही इसे बेचने तथा मुनाफा कमाने का निर्णय लिया. ऐसा माना जा रहा है इससे उन्हें करीब 50 करोड़ डॉलर की कमाई हुई है.

News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 1:35 PM IST
देश के बड़े उद्योगपति अनिल अग्रवाल ने इस कंपनी में अपनी हिस्सेदारी बेची, जानिए क्यों
उद्योगपति अनिल अग्रवाल
News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 1:35 PM IST
उद्योगपति अनिल अग्रवाल ने एंग्लो अमेरिकन कंपनी में अपनी करीब 20 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने की घोषणा की है. एंग्लो अमेरिकन हीरो के ब्रांड डी बीयर्स को नियंत्रित करती है. अग्रवाल दो साल पहले ही इस कंपनी के सबसे बड़े शेयरधारक बने थे. वेदांता लिमिटेड ने अलग से जारी एक बयान में कहा कि उसकी विदेशी अनुषंगी केयर्न इंडिया होल्डिंग्स लिमिटेड एंग्लो अमेरिकन में अपने निवेश की बिक्री करेगी.

उन्होंने मार्च 2017 में जेपी मॉर्गन के बाध्यकारी परिवर्तनीय बांड के जरिये एंग्लो अमेरिकन के शेयरों की खरीदारी की शुरुआत की थी. उन्होंने सितंबर 2017 में दूसरी खेप की खरीदारी की. इससे उनकी कुल हिस्सेदारी 19.30 प्रतिशत पर पहुंच गयी.

ये भी पढ़ें: बिजनेस करने के लिए अब बिना गारंटी 20 लाख तक लोन देगी सरकार

ये बांड अगले साल मार्च में परिपक्व होने वाले थे लेकिन अग्रवाल ने उससे पहले ही इसे बेचने तथा मुनाफा कमाने का निर्णय लिया. ऐसा माना जा रहा है इससे उन्हें करीब 50 करोड़ डॉलर (करीब 3450 करोड़ रुपये) की कमाई हुई है.

अग्रवाल ने एक बयान में कहा कि एंग्लो अमेरिकन मजबूत निदेशक मंडल और प्रबंधन की टीम के साथ ही शानदार संपत्तियों वाली कंपनी है.

इसमें अग्रवाल परिवार के न्यास वोल्कन्स का शुरुआती निवेश एक आकर्षक वित्तीय निवेश है. हालांकि इस मामले में हमारा लक्ष्य अनुमानित समय से पहले ही हासिल हो गया. वोल्कन के निवेश के बाद से एंग्लो अमेरिकन के शेयर का भाव करीब दोगुना हो चुका है. इससे सभी निवेशकों को शानदार कमाई हुई है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 26, 2019, 1:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...