Bitcoin ने एक बार फिर लगाई छलांग, 55000 डॉलर का आंकड़ा किया पार

सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन में आया उछाल

सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन में आया उछाल

बिटक्वाइन (Bitcoin) की कीमत में बुधवार को एक बार फिर इजाफा हुआ और ये 55000 डॉलर का आंकड़ा पार कर गया. जिससे ये कयास लगाया जा रहा है कि दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी पिछले महीने बनाए अपने रिकॉर्ड को तोड़ सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 10, 2021, 3:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन (Bitcoin) की कीमतों में एक बार फिर इजाफा देखने को मिल रहा है. जिससे ये कयास लगाया जा रहा है कि दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी पिछले महीने बनाए अपने रिकॉर्ड को तोड़ सकता है. बुधवार को बिटक्वाइन 2.8 फीसदी की बढ़ोत्तरी के साथ 55000 डॉलर का आंकड़ा पार कर गया. हांगकांग में आज सुबह 9 बजकर 23 मिनट पर यह 55,600 डॉलर पर ट्रेड कर रहा था. बता दें कि एक महीने पहले इसका भाव करीब 60 हजार डॉलर के पास पहुंच गया था.

यू.एस. के शेयरों में मंगलवार को उछाल आने के बाद ब्लूमबर्ग गैलेक्सी क्रिप्टो इंडेक्स पिछले दो सप्ताह के उच्च स्तर पर पहुंच गया. पेप्परस्टोन ग्रुप लिमिटेड के रिसर्च हेड क्रिस वेस्टन ने एक नोट में कहा कि ये आश्चर्यजनक नहीं होगा अगर इसकी कीमत पिछले महीने का आकंडा पार कर जाए. बिटकॉइन में बढ़ती संस्थागत रुचि और संभावना है कि अमेरिकी प्रोत्साहन चेक के चलते फाइनेशियल मार्केट में सुधार से क्रिप्टोकरेंसी में बढ़ोत्तरी हो रही है. डिजिटल टोकन पिछले साल लगभग 600 प्रतिशत का उछाल देखा गया था.

ये भी पढ़ें: इंफोसिस ने दी बड़ी जानकारी, कहा- दुनिया की टॉप 100 ब्रांड्स की वैल्यु पर 22300 करोड़ डॉलर का रिस्क

कई कंपनियों ने किया निवेश
इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली अमेरिकी कंपनी टेस्‍ला समेत कई कंपनियों ने बिटक्‍वाइन को डिजिटल करेंसी (Digital Currency) के तौर पर मंजूरी दी तो इसके दाम हर दिन बढ़त का नया रिकॉर्ड बनाने लगे थे. इसके बाद जब इसके दाम बहुत ज्‍यादा बढ़ गए तो टेस्‍ला के संस्‍थापक एलन मस्‍क ने रोज तेजी से बढ़ती कीमतों पर सवाल उठाया. इसके बाद इसके भाव गिरने शुरू हो गए थे. अब आज इसने फिर 50 हजार डॉलर के आंकड़े को पार कर लिया है.

क्या होती है बिटकॉइन

बिटकॉइन एक वर्चुअल करेंसी यानी आभासी मुद्रा है. जैसे दुनिया में बाकि करेंसी होती है, वेसे ही बिटक्वाइन है. बिटक्वाइन को हम केवल ऑनलाइन वॉलेट में ही रख सकते हैं. बिटक्वाइन का आविष्कार सातोशी नाकामोतो ने 2009 में किया था. इस प्रकार बिटक्वाइन एक डिसेंट्रालाइज करेंसी है. बिटक्वाइन का इस्तेमाल कोई भी कर सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज