Bitcoin ने निवेशकों को बनाया मालामाल! 62,575 डॉलर पहुंची एक सिक्के की कीमत

62,575 डॉलर पहुंची एक सिक्के की कीमत

62,575 डॉलर पहुंची एक सिक्के की कीमत

Bitcoin hits record high: बिटकॉइन की कीमत मंगलवार को 62,575 डॉलर पर पहुंच गई है. पिछले कई दिनों से बिटक्वॉइन में बड़ा उछाल देखने को मिल रहा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 3:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: क्रिप्टोकरेंसी ने आज फिर रिकॉर्ड तोड़ दिया है. बिटकॉइन की कीमत मंगलवार को 62,575 डॉलर पर पहुंच गई है. पिछले कई दिनों से बिटक्वॉइन में बड़ा उछाल देखने को मिल रहा था. एक साल पहले एक बिटक्वाइन की कीमत महज 5000 डॉलर थी तो वहीं अब यह बढ़कर 62,000 डॉलर के पार पहुंच गई है. इस समय दुनियाभर में क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) बिटकॉइन (Bitcoin) का क्रेज तेजी से बढ़ रहा है. बड़े निवेशक तुरंत मुनाफे के लिए इसका रुख कर रहे हैं, जिसके चलते इसकी कीमत में तेजी से उछाल आ रहा है.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने 1.9 ट्रिलियन डॉलर की आर्थिक मदद के ऐलान के बाद से ग्लोबल मार्केट में काफी उछाल देखने को मिला था. इसका असर बिटक्वॉइन पर भी दिखाई दिया है. वहीं, मार्केट एक्सपर्ट का मानना है कि यह तेजी कुछ समय के लिए है. बता दें बिटक्वॉइन में काफी जोखिम रहता है. बता दें बीच में क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में अचानक गिरावट भी देखने को मिली थी.

यह भी पढ़ें: Paytm Payments Bank ने हासिल किया ये मुकाम, आप भी करते हैं इस्तेमाल तो जान लें इसकी खासियत

तेजी का क्या है कारण?
आपको बता दें क्रिप्टोकरेंसी में कई बड़ी कंपनियों और दिग्गज निवेशकों ने निवेश किया है, जिसकी वजह से इसमें तेजी देखने को मिल रही है. बीएनवाई मेलन, मास्टरकार्ड और टेस्ला जैसी कई ऐसी बड़ी कंपनियां हैं, जिन्होंने या तो क्रिप्टोकरेंसी को अपनाया है या उसमें निवेश किया है. इसके अलावा हाल ही में एलन मस्क की दिग्गज इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला ने बिटकॉइन में 1.5 बिलियन डॉलर का निवेश किया था. टेस्ला के इस निवेश के बाद से बिटकॉइन में बंपर तेजी देखने को मिली है.

क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी?

बता दें कि क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल करेंसी होती है, जो ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित है. इस करेंसी में कूटलेखन तकनीक का प्रयोग होता है. इस तकनीक के जरिए करेंसी के ट्रांजेक्शन का पूरा लेखा-जोखा होता है, जिससे इसे हैक करना बहुत मुश्किल है. यही कारण है कि क्रिप्टोकरेंसी में धोखाधड़ी की संभावना बहुत कम होती है. क्रिप्टोकरेंसी का परिचालन केंद्रीय बैंक से स्वतंत्र होता है, जो कि इसकी सबसे बड़ी खामी है.



यह भी पढ़ें: PNB महिलाओं को फ्री में दे रहा ट्रेनिंग, हर महीने होगी लाखों की कमाई, कौन कर सकता है अप्लाई?

जानिए कैसे होती है बिटकॉइन में ट्रेडिंग?

बिटकॉइन ट्रेडिंग डिजिटल वॉलेट (Digital wallet) के जरिए होती है. बिटकॉइन की कीमत दुनियाभर में एक समय पर समान रहती है. इसलिए इसकी ट्रेडिंग मशहूर हो गई. दुनियाभर की गतिविधियों के हिसाब से बिटकॉइन की कीमत घटती बढ़ती रहती है. इसे कोई देश निर्धारित नहीं करता बल्कि डिजिटली कंट्रोल (Digitally controlled currency) होने वाली करंसी है. बिटकॉइन ट्रेडिंग का कोई निर्धारित समय नहीं होता है. इसकी कीमतों में उतार-चढ़ाव भी बहुत तेजी से होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज