BLS इंटरनेशनल सर्विस ने मिस्र के विदेश मंत्रालय के साथ किया करार

BLS इंटरनेशनल सर्विस ने मिस्र के विदेश मंत्रालय के साथ किया करार
बीएलएस इंटरनेशनल सर्विसेज, वैश्विक स्तर पर सरकारों और कूटनीतिक व्यक्तियों के लिए वीजा, पासपोर्ट, सत्यापन और नागरिक सेवाओं की विशेषज्ञ सेवा कंपनी है.

बीएलएस इंटरनेशनल सर्विसेज, वैश्विक स्तर पर सरकारों और कूटनीतिक व्यक्तियों के लिए वीजा, पासपोर्ट, सत्यापन और नागरिक सेवाओं की विशेषज्ञ सेवा कंपनी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 11, 2020, 11:16 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: शेयर मार्केट की लिस्टेड कंपनी BLS इंटरनेशनल सर्विसेज ने मिस्र के विदेश मंत्रालय की ओर से Al वाफी गवर्नममेंट सर्विस कॉर्पोरेशन के साथ एक रणनीतिक करार किया है, जो प्रावासियों के तौर पर रहने वाले मिस्र के लोगों के वैलिड डॉक्यूमेंट्स का काम संभालती है. विदेश में रहने वाले, मिस्र के किसी भी व्यक्ति को अपने दस्तावेज अलग-अलग प्राधिकरण, स्थानीय दूतावास और एमओएफए से सत्यापित करवाने होते हैं. ऐसे में BLS इंटरनेशनल सर्विसेज लिमिटेड इस करार के तरह लोगों के लिए एक नई तरह की सर्विस शुरू करेगा. इसके लिए कंपनी को हर साल लगभग 12000 एप्लीकेशन मिलने की उम्मीद है. बीएलएस इंटरनेशनल सर्विसेज, वैश्विक स्तर पर सरकारों और कूटनीतिक व्यक्तियों के लिए वीजा, पासपोर्ट, सत्यापन और नागरिक सेवाओं की विशेषज्ञ सेवा कंपनी है और हाल ही में 30 जून 2020 को समाप्त हुई पहली तिमाही कंपनी ने अच्छे नतीजे पेश किए हैं. कंपनी के कुछ प्रतिष्ठित ग्राहकों में भारतीय विदेश मंत्रालय, संयुक्त अरब अमीरात - विदेश मंत्रालय और स्पेन सरकार शामिल है.

कैसे रहे नतीजे?
वित्तीय वर्ष 2021 की पहली तिमाही अप्रैल से जून में कंपनी का ऑपरेशनल रेवेन्यू 52.15 करोड़ रुपए रहा है. हालांकि COVID 19 महामारी के चलते इस दौरान वीजा और काउंसर की सेवाओं को बंद कर दिया गया था. हालांकि, दूतावास संबंधी सेवाओं के सीमित संचालन को जून 2020 के दौरान आंशिक रूप से फिर से शुरू किया गया था. वहीं G2C (पंजाब बिजनेस) को मई 2020 के बाद पंजाब सरकार द्वारा चरणबद्ध तरीके से कर्फ्यू हटाने जाने के बाद शुरू किया गया. 2020 की पहली वित्तीय तिमाही की तुलना में इस बार कॉर्पोरेट बिजनेस कॉरेस्पॉडेंट ऑपरेशंस 3.07 करोड़ से बढ़कर 5.24 करोड़ रुपए हुआ है. कंपनी ने अपने सभी ऑपरेशंस को ऑपरेटिंग कॉस्ट के मुताबिक बनाए रखा, जिससे EBITDA में 11% की बढ़त देखने को मिली है. वहीं कंपनी की PBT इस तिमाही में 3.91 करोड़ रहा है.

कंपनी के संयुक्त प्रबंध निदेशक, शिखर अग्रवाल ने भविष्य की योजनाओं पर बात करते हुए कहा, “लॉकडाउन के चरणबद्ध तरीके से उठाने के साथ, कंपनी ने अपने कार्यालयों को सीमित संख्या में कर्मचारियों के लिए धीरे-धीरे खोलना शुरू कर दिया है. साथ ही सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन कराया जा रहा है. कंपनी को उम्मीद है कि वित्तीय वर्ष 2021 की चौथी तिमाही तक सभी अंतर्ऱाष्ट्रीय ऑपरेशन ठीक उसी तरह शुरू हो सकेंगे, जैसा की कोरोना से पहले थे. हमें उम्मीद है कि कॉस्ट रेशनलाइजेशन के लिए हमारे EDITDA मार्जिन के प्रतिशत में भी सुधार होगा. कंपनी वीजा आउटसोर्सिंग सेवाओं और G2C सेवाओं के लिए सक्रिय रूप से बोली लगा रही है, इससे हमें राजस्व बढ़ाने में मदद मिलेगी.
कंपनी ने पिछले कुछ सालों में अपनी बैलेंस शीट मजबूत करके. कंपनी को कैश ड्रिविन और कर्ज मुक्त बनाया है. कंपनी का कहना है कि मजबूत बैलेंस शीट के दम पर कंपनी भविष्य में EBIDTA बढ़ाने के लिए टेक-सक्षम सेवाओं के उपयोग से इनऑर्गेनिक ग्रोथ बढ़ाना चाहती है. साथ ही मॉर्डन टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से बीएलएस इंटरनेशनल को कारोबार तेजी से बढ़ाने में मदद मिली है. कंपनी अपने सभी साझेदारों को दुनियाभर में बेस्ट इन क्लास सर्विस प्रोवाइड कर रही है, ताकि वहां के नागरिकों को तेजी से सुविधाएं मिल सकें. इसके लिए कंपनी लगातार खुद को तकनीकी रूप से बेहतर बनाने का काम कर रही है, ताकि लोग डिजिटल क्रांति का उपयोग कर सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज