विजय माल्या को झटका, यूके की इस कंपनी को देने पड़े 580 करोड़

62 साल के माल्या की कंपनी के खिलाफ सिंगापुर की बीओसी एविएशन नाम की कंपनी ने दायर किया था. खबरों के मुताबिक, मामला 2014 का है, तब किंगफिशर ने बीओसी से कुछ प्लेन लीज पर लिए थे.

News18Hindi
Updated: February 13, 2018, 12:05 PM IST
विजय माल्या को झटका, यूके की इस कंपनी को देने पड़े 580 करोड़
62 साल के माल्या की कंपनी के खिलाफ सिंगापुर की बीओसी एविएशन नाम की कंपनी ने दायर किया था. खबरों के मुताबिक, मामला 2014 का है, तब किंगफिशर ने बीओसी से कुछ प्लेन लीज पर लिए थे.
News18Hindi
Updated: February 13, 2018, 12:05 PM IST
भारत के भगोड़ें कारोबारी विजय माल्या को एक और बड़ा झटका लगा है. उनकी किंगफिशर एयरलाइंस ब्रिटेन में एक केस हार गई है. इसमें उन्हें एक कंपनी को 9 करोड़ डॉलर (करीब 580 करोड़ रुपये) क्लेम के तौर पर देने को कहा गया है. यह केस अब बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस से जुड़ा था.

ये था मामला
62 साल के माल्या की कंपनी के खिलाफ सिंगापुर की बीओसी एविएशन नाम की कंपनी ने दायर किया था. खबरों के मुताबिक, मामला 2014 का है, तब किंगफिशर ने बीओसी से कुछ प्लेन लीज पर लिए थे. बीओसी एविएशन और किंगफिशर एयरलाइंस के बीच का यह मामला लीजिंग अग्रीमेंट को लेकर था.

किंगफिशर और बीओसी एविएशन के बीच चार प्लेन को लेकर डील हुई थी, जिसमें से तीन डिलिवर किए जा चुके थे. बता दें कि माल्या पर भारतीय बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपया बकाया है. बीओसी एविएशन सिंगापुर और बीओसी एविएशन (आयरलैंड) ने इस मामले में किंगफिशर एयरलाइंस और यूनाइटेड ब्रुवरीज का नाम लिया था. यूनाइटेड ब्रुवरीज में भी माल्या की बड़ी हिस्सेदारी है.

बीओसी एविएशन के एक प्रवक्ता ने सिंगापुर में कहा, हम फैसले से खुश हैं लेकिन इस स्तर पर आगे कोई टिप्पणी नहीं करेंगे. यह कानूनी दावा किंगफिशर एयरलाइंस व विमान लीजिंग कंपनी बीओसी एविएशन के बीच चार विमानों के लीजिंग समझौते से जुड़ा है. इनमें से तीन विमानों की आपूर्ति की गई.

चौथे विमान की आपूर्ति रोक दी गई क्योंकि लीज समझौते के तहत अग्रिम में ही राशि बकाया थी. बीओसी एविएशन ने दावा किया कि जमानत राशि से उस भुगतान की वसूली भी संभव नहीं है जो कि किंगफिशर एयरलाइंस को समझौते के तहत उसे करनी होगी.
News18 Hindi पर Bihar Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Business News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर