चीन की कंपनी से छीना एक और प्रोजेक्ट, अब कानपुर और आगरा मेट्रो प्रोजेक्ट को ये कंपनी करेगी पूरा

चीन की कंपनी से छीना एक और प्रोजेक्ट, अब कानपुर और आगरा मेट्रो प्रोजेक्ट को ये कंपनी करेगी पूरा
जल्द ही दौड़ेगी आगरा, कानपुर मेट्रो

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (UPMRC) ने कानपुर और आगरा के लिए मेट्रो ट्रेन (रोलिंग स्टॉक्स) की सप्लाई, टेस्टिंग और कमिशनिंग, कंट्रोल तथा सिग्नलिंग का काम चीन की कंपनी से छीनकर बॉम्बार्डियर ट्रांसपोर्ट इंडिया (Bombardier Transport India Private Limited) को दिया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में का कर रही एक और चीन कंपनी से प्रोजक्ट छीन लिया गया है. उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (UPMRC) ने कानपुर और आगरा के लिए मेट्रो ट्रेन (रोलिंग स्टॉक्स) की सप्लाई, टेस्टिंग और कमिशनिंग, कंट्रोल तथा सिग्नलिंग का काम चीन की कंपनी से छीनकर बॉम्बार्डियर ट्रांसपोर्ट इंडिया (Bombardier Transport India Private Limited) को दिया है. UPMRC ने कानपुर और आगरा के लिए मेट्रो ट्रेनों (रोलिंग स्टॉक्स) की सप्लाई, टेस्टिंग और कमिशनिंग, कंट्रोल तथा सिग्नलिंग का काम बॉम्बार्डियर ट्रांसपोर्ट इंडिया को दिया. बता दें कि 18 फरवरी, 2020 को चार इंटरनेशनल कम्पनियों ने इस प्रोजेक्ट के लिए नोडल एजेंसी, यूपी मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड में टेंडर डाले थे, जिनमें एक चाइनीज कंपनी भी शामिल थी. जिसे तकनीकी मूल्यांकन के बाद पहले ही डिस्क्वालिफाई कर दिया गया था.

बिजनेस स्टेंडर्ड में छपी एक खबर के अनुसार, UPMRC ने शुक्रवार को बॉम्बार्डियर ट्रांसपोर्ट इंडिया को यह प्रोजेक्ट देने का निर्णय लिया. मेट्रो ट्रेनों की सप्लाई, मेसर्स बॉम्बार्डियर के गुजरात स्थित प्लान्ट से होगी. कंपनी से कानपुर और आगरा दोनों शहरों के लिए कुल 67 ट्रेनें ली जाएंगी. जिनमें से प्रत्येक ट्रेन में 3 कोच होंगे. इनमें से 39 ट्रेनें कानपुर और 28 ट्रेनें आगरा के लिए होंगी.

चीनी कंपनी हुई डिस्क्वालिफाई- इस प्रोजेक्ट के लिए चार अंतरराष्ट्रीय फर्मों ने UPMRC में बोली लगाई थी. उनमें से एक चीन की कंपनी भी शामिल थी. टेक्नीकल इवेल्यूशन के चलते चीनी कंपनी को प्रतिस्पर्धा से बाहर कर दिया गया था.



कानपुर मेट्रो का काम हुआ शुरू- मार्डन स्टेनलेस स्टील की ट्रेनों का निर्माण बॉम्बार्डियर द्वारा गुजरात के सावली में अपने संयंत्र में किया जाएगा. कानपुर मेट्रो पर काम शुरू हो चुका है. UPMRC ने लखनऊ मेट्रो फेज -1 ए प्रोजेक्ट को केवल 64 हफ्ते के रिकॉर्ड समय में पूरा कर पहली मेट्रो ट्रेन प्राप्त की थी. कानपुर और आगरा में पहली मेट्रो ट्रेन सेट की सप्लाई के लिए 65 हफ़्तों का समय दिय गया है.
ये भी पढ़ें : बिजली कंपनियों के लिए राहत पैकेज बढ़ाकर 1.25 लाख करोड़ रुपये कर सकती है सरकार: सूत्र

UPMRC के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने कहा कि कानपुर और आगरा दोनों ही जगहों पर दो स्टेशनों के बीच की दूरी लगभग एक किमी है. यहां जो मेट्रो ट्रेनें चलेंगी उनकी स्पीड 80 किमी./घंटा निर्धारित की गई है. जबकि मेट्रो ट्रेनों की अधिकतकम क्षमता 90 किमी./घंटा होती है. ट्रेनों के ऑपरेशन कंट्रोल के लिए लखनऊ की ही तरह कम्युनिकेशन आधारित ट्रेन कंट्रोल सिस्टम (CBTC) और कॉन्टीन्युअस ऑटोमेटिक कंट्रोल सिस्टम (CATS) होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading