Home /News /business /

हवाई दावा करने वाले विज्ञापनों पर चला कोर्ट का डंडा, बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने सामान की बिक्री पर ही लगा दी रोक

हवाई दावा करने वाले विज्ञापनों पर चला कोर्ट का डंडा, बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने सामान की बिक्री पर ही लगा दी रोक

हिंदू देवी-देवताओं के लिए अपमानजनक पोस्‍ट हटवाने के लिए रोहिणी कोर्ट में याचिका दायर की गई है.

हिंदू देवी-देवताओं के लिए अपमानजनक पोस्‍ट हटवाने के लिए रोहिणी कोर्ट में याचिका दायर की गई है.

बॉम्‍बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra) को निर्देश दिया है कि चमत्‍कारी शक्तियों का दावे करने वाले टीवी विज्ञापन (TV Advertisements) बनाने वाले लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए. आइए जानते हैं पूरा मामला...

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्‍ली. बॉम्बे हाईकोर्ट ( Bombay High Court) की औरंगाबाद बेंच ने एक अहम फैसले में उन धार्मिक वस्तुओं (Religious Items) की बिक्री पर रोक लगा दी, जो टेलीविजन विज्ञापनों (TV Advertisements) के जरिये चमत्कारी या अलौकिक शक्तियां होने का दावा करती हैं. लाइव लॉ (Live Law) के मुताबिक, जस्टिस तानाजी नलावडे और मुकुंद सेवलिकर की बेंच ने कहा कि इस तरह के विज्ञापन का प्रसारण करने वाला टीवी चैनल 'महाराष्ट्र प्रतिबंध, मानव बलि, अन्य अमानवीय, अघोरी प्रथा की रोकथाम और काला जादू कानून, 2013 के प्रावधानों के तहत उत्तरदायी होगा.

    महाराष्‍ट्र सरकार को विज्ञापन बनाने वालों पर मामला दर्ज करने का दिया निर्देश
    हाईकोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) को निर्देश दिया है कि इस तरह के विज्ञापन बनाने वाले लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए. दरअसल, याचिकाकर्ता ने कहा था कि वह टीवी चैनलों पर विज्ञापनों के जरिये आए थे. विज्ञापन में प्रचारित किया जा रहा था कि हनुमान चालीसा यंत्र में विशेष, चमत्कारी और अलौकिक गुण थे. याचिकाकर्ता ने झूठा प्रचार करने वाले टीवी विज्ञापनों के प्रसारण को रोकने की मांग की थी. याचिका में कहा गया कि विज्ञापन का उद्देश्य सिर्फ यंत्र की बिक्री को बढ़ावा देना है.

    ये भी पढ़ें- पढ़ें जैक मा के वो आखिरी शब्‍द, जिनके बाद 2 महीने से ज्‍यादा समय से लापता हैं चीन के सबसे अमीर शख्‍स

    'ऐसे विज्ञापन अंधविश्‍वास करने वालों का शोषण करने के लिए बनाए जाते हैं'
    याचिका में तर्क दिया गया कि यह गलत प्रचार है. ऐसे विज्ञापनों को उन लोगों का शोषण करने के लिए बनाया जाता है, जो स्वभाव से अंधविश्वासी हैं. याचिकाकर्ता के मुताबिक, विज्ञापन में यह गलत प्रचार किया गया है कि यंत्र एक बाबा मंगलनाथ ने तैयार किया था, जिन्होंने सिद्धि हासिल कर ली थी. इसमें यह भी दावा किया जाता है कि बाबा के पास भगवान हनुमान का आशीर्वाद है. साथ ही इस विज्ञापन में कहा गया है कि यंत्र को घर पर लाना भगवान हनुमान को घर लाने जैसा है.

    ये भी पढ़ें- रतन टाटा की कार का कटा चालान! जांच हुई तो खुली पोल, ज्‍योतिषी के चक्‍कर में फंसी महिला

    'विक्रेता विज्ञापन में किए गए यंत्र के चमत्‍कारी गुणों को साबित नहीं कर सकता'
    लाइव लॉ के मुताबिक, हाई कोर्ट ने काले जादू अधिनियम की धारा-3 का जिक्र किया और टिप्पणी की है कि हनुमान चालीसा यंत्र को बेचकर लोगों से पैसे कमाना आसान है. बेंच ने कहा कि विज्ञापन में बताए गए गुण विशेष, चमत्कारी और अलौकिक हैं. वहीं, विक्रेता यह साबित नहीं कर सकता है कि वास्तव में यंत्र में वे सभी गुण हैं, जो विज्ञापन में बताए गए हैं. लिहाजा, विज्ञापन ही नहीं ऐसी सभी वस्‍तुओं की बिक्री पर भी रोक लगा दी गई.

    Tags: Advertisement, Bombay high court, Business news in hindi, Religious propaganda

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर