यहां व्यापारियों में फूटा गुस्सा, इस तरह जलाई चीनी सामान की होली

यहां व्यापारियों में फूटा गुस्सा, इस तरह जलाई चीनी सामान की होली
इस बार रक्षाबंधन और दिवाली रहेगी पूर्णता भारतीय -CAIT

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने चीनी प्रोडक्ट (Chinese Products) का बहिष्कार करने के अभियान के तहत करोल बाग में चीनी वस्तुओं में आग लगा होली जलाई.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय सेना पर चीन (China) के हमले के बाद नाराज व्यापारी वर्ग ने चीनी प्रोडक्ट (Chinese Products) का बहिष्कार करने के अभियान के तहत करोल बाग में चीनी वस्तुओं में आग लगा होली जलाई. यह यह अभियान कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने 10 जून से शुरू किया गया है. कुछ समय पहले CAIT ने फिल्म स्टार्स और क्रिकेटर्स से भी चीन के किसी भी सामान की ब्रांडिंग बंद करने की अपील की थी. इस अभियान में सोशल डिस्टेंस से लगाकर सुरक्षा के सभी नियमों का कैट ने पालन किया.

कैट ने किया ये आह्वाहन
अभियान में व्यापारी संघ के लोगों ने कुछ ही दिन बाद आने वाले त्यौहार राखी और उसके बाद दीपावली में सभी लोगों से भारतीय प्रोडक्ट का उपयोग करने की अपील की. उन्होंने इस साल रक्षा बंधन को भारतीय राखी त्योहार और दिवाली को हिंदुस्तानी दिवाली मनाने की भी घोषणा की है.

चाइनीज सामना का बहिष्कार दिखेगा राखी पर
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया ने कहा कि चीन के सामान का असली बहिष्कार राखी के त्यौहार पर नजर आएगा. CAIT ने देश की जनता से भारतीय सामान के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए कहा है. आने वाले सभी त्यौहारों में सिर्फ भारतीय उत्पाद का ही प्रोग किया जाएगा. उन्होंने कहा कि इस साल दिवाली शहीद हुए भारतीय सैनिकों के सम्मान में पूर्ण रूप से हिन्दुस्तानी दिवाली के रूप में मनाई जायेगी. दिवाली में सबसे ज्यादा चाइनीज आइटम यूज होते हैं ख़ासकर चाइनीज लाइट ने पिछले कुछ वर्षों में काफी बाजार विस्तार किया है. लक्ष्मी जी एवं गणेश जी की मूर्ति भी सिर्फ मिट्टी की ही बनाई जाएंगी.



बायकॉट चाइनीज प्रोडक्ट के लिए सरकार भी है सख्त
लद्दाख में सीमा पर 15 जून को चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के साथ झड़प में 20 भारतीय सैनिकों ने अपनी जान गंवा दी थी. इसके बाद से ही केंद्र सरकार भी चीन के प्रीत काफी सख्त रुख अपना रही है. मोदी सरकार रविवार को हुई एक उच्चस्तरीय बैठक में देश में आत्मनिर्भरता को बढ़ाने के लिए और आयात को कम करने के लिए चीन से आने वाले कम गुणवत्ता वाले सामान की लिस्ट तैयार करने के लिए कहा है.

ये भी पढ़ें : भारत के सख्त रवैये से तिलमिलाया चीन, दिखा रहा अपनी GDP का धौंस

उद्योग और आंतरिक व्यापार को बढ़ावा देने वाला विभाग (DPIIT) और राजस्व विभाग ने केंद्र के साथ कम से कम 300 वस्तुओं पर सीमा शुल्क बढ़ाने पर चर्चा की. गौरतलब है कि DPIIT ने चीन में बनने वाले निम्न-गुणवत्ता वाले आयातों की एक लिस्ट तैयार की है जिसमें सिगरेट, तंबाकू, पेंट और वार्निश, प्रिंटिंग स्याही, मेकअप का सामान, शैम्पू, हेयर डाई, कांच के आइटम, घड़ी, इंजेक्शन की शीशी शामिल है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज