Home /News /business /

bpcl divestment government scraps bpcl privatisation process arnod

भारत पेट्रोलियम का निजीकरण फिलहाल टला, सरकार अब नए सिरे से लाएगी बिक्री प्रस्ताव

भारत पेट्रोलियम

भारत पेट्रोलियम

मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए विनिवेश की प्रक्रिया रोक दी गई है. भविष्य में जब भी कंपनी का विनिवेश होगा सरकार फूंक-फूंक कर कदम उठाएगी. रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतें बढ़ी हैं और दुनियाभर में एनर्जी की जरूरतों में बदलाव आया है. कई देशों पर इसकी आपूर्ति को लेकर दबाव है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. प्रमुख तेल मार्केटिंग कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचने का प्रस्ताव सरकार ने वापस ले लिया है. कंपनी के निजीकरण पर अब नए सिरे से विचार किया जाएगा और नया प्रस्ताव लाया जाएगा. कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी गई है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिंगल बिडर के चलते भारत पेट्रोलियम की बिक्री पर आगे नहीं बढ़ने का फैसला सरकार ने किया है. कंपनी की बढ़ी वैल्यू पर दोबारा विनिवेश का प्रस्ताव लाया जाएगा. बीपीसीएल में अभी सरकार की हिस्सेदारी 52.98 फीसदी है. सरकार कंपनी में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचना चाहती है.

ये भी पढ़ें- महंगे पेट्रोल से मिलेगी राहत ! अब 2025-26 तक पेट्रोल में 20 फीसदी एथेनॉल मिलाने का लक्ष्य

हिस्सेदारी बेचने पर दोबारा होगा विचार
एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए विनिवेश की प्रक्रिया रोक दी गई है. भविष्य में जब भी कंपनी का विनिवेश होगा सरकार फूंक-फूंक कर कदम उठाएगी. रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतें बढ़ी हैं और दुनियाभर में एनर्जी की जरूरतों में बदलाव आया है. कई देशों पर इसकी आपूर्ति को लेकर दबाव है. साथ ही देशों का आपसी समीकरण भी तेजी से बदल रहा है. इन सभी मसलों पर विचार करने के बाद ही तेल कंपनी के निजीकरण को मंजूरी दी जाएगी.

बिक्री शर्तों में भी बदलाव संभव
बीपीसीएल की बिक्री को लेकर सरकार ने कदम बढ़ा दिए थे और कंपनियों से रुचि पत्र भी मंगाए गए थे. सूत्रों ने बताया कि सरकार बीपीसीएल का आंशिक विनिवेश नहीं चाहती है. गंभीर खरीदार मिलने के बाद ही इसकी बिक्री की जाएगी. विनिवेश के नए प्रस्ताव में बिक्री की शर्तों में भी बदलाव किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- Petrol Price: भारत में श्रीलंका, बांग्लादेश, पाकिस्तान से भी महंगा मिल रहा पेट्रोल, कुछ देशों में कीमत भारत से ज्यादा

बीपीसीएल को खरीदने के लिए सरकार को निजी कंपनियों से तीन रुचि पत्र मिले थे. मार्च 2020 में रुचि पत्र आमंत्रित किए गए थे. नवंबर 2020 तक बीपीसीएल के लिए तीन बोलियां मिली थीं. बोली लगाने वाली कंपनियों में अनिल अग्रवाल की वेदांता ग्रुप के अलावा निजी इक्विटी कंपनियां अपोलो ग्लोबल और आई स्कॉयर्ड की थिंक गैस शामिल थीं.

Tags: Bharat petroleum, Bharat Petroleum Corporation, BPCL, Disinvestment

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर