• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • बीपीसीएल नुमालीगढ़ रिफाइनरी में बेचेगी 61.65 फीसदी हिस्सेदारी, 31 मार्च तक पूरी हो सकती है बिक्री प्रक्रिया

बीपीसीएल नुमालीगढ़ रिफाइनरी में बेचेगी 61.65 फीसदी हिस्सेदारी, 31 मार्च तक पूरी हो सकती है बिक्री प्रक्रिया

एनआरएल में हिस्‍सेदारी बिक्री को बीपीसीएल बोर्ड ने मंजूरी दी.

एनआरएल में हिस्‍सेदारी बिक्री को बीपीसीएल बोर्ड ने मंजूरी दी.

भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) के निदेशक विजयगोपाल ने कहा कि नुमालीगढ़ रिफाइनरी लिमिटेड (NRL) में हिस्सेदारी की बिक्री प्रक्रिया तेज गति से चल रही है. एनआरएल की बिक्री को बीपीसीएल के विनिवेश की दिशा में पहला कदम माना जा रहा है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) मार्च 2021 के अंत तक नुमालीगढ़ रिफाइनरी लिमिटेड (NRL) में 61.65 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी. बीपीसीएल के निजीकरण के तहत नुमालीगढ़ रिफाइनरी काे ऑयल इंडिया (OIL) और असम सरकार काे मार्च 2021 अंत तक हिस्सेदारी साैंप दी जाएगी. साथ ही अगले 10 दिन में बीना रिफाइनरी प्रोजेक्ट में ओमान ऑयल कंपनी के शेयर (Oman Oil Company) खरीदेगी.

    बीपीसीएल के निदेशक विजयगोपाल ने बताया कि योजना के अनुसार ओआईएल एंड इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड का कंसोर्टियम 49 फीसदी हिस्‍सेदारी का अधिग्रहण करेगा और बाकी 13.65 फीसदी हिस्‍सा असम सरकार को बेचा जाएगा. उन्हाेंने कहा कि एनआरएल हिस्सेदारी बिक्री तेज गति से हो रही है. वैल्यूएशन हो रहा है और अगर चीजें तय समय पर होती हैं तो 31 मार्च तक ट्रांजैक्शन पूरा हो जाएगा. 

    ये भी पढ़े – इंडियन रेलवे ने तोड़ा मार्च 2019 का रिकॉर्ड, हासिल कर ली एक और बड़ी उपलब्धि

    एनआरएल की बिक्री को बीपीसीएल के विनिवेश की दिशा में पहला कदम माना जाता है. देश के अब तक के सबसे बड़े निजीकरण में केंद्र सरकार BPCL में अपनी पूरी 52.98% हिस्सेदारी बेचेगी. सरकार ने पहले संकेत दिया था कि वह अप्रैल (2021-22) की शुरुआत के पहले छमाही तक बीपीसीएल के निजीकरण को पूरा करने की उम्मीद करती है. यह बिक्री 2021-22 के लिए निर्धारित 1.75 लाख करोड़ के विनिवेश लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण है. अनिल अग्रवाल के नेतृत्व वाले वेदांता समूह और अपोलो ग्लोबल जैसे निजी इक्विटी प्‍लेयर्स तथा आई स्क्वेयर कैपिटल पहले ही BPCL में अपनी रुचि जता चुके है. BPCL भारत की तेल शोधन क्षमता का लगभग 15.33% और ईंधन विपणन हिस्सेदारी का 22% खरीदार को स्वामित्व देगी. 

    ये भी पढ़ेसरकारी बैंकों के निजीकरण के खिलाफ हैं कर्मचारीअधिकारी संगठन, 15 मार्च से करेंगे हड़ताल

    नुमालीगढ़ रिफाइनरी  22,594 करोड़ के निवेश पर अपनी शोधन क्षमता को प्रति वर्ष 3 मिलियन टन से बढ़ाकर 9 मिलियन टन करने की सोच रही है. इस परियोजना के 2024 तक पूरा होने की उम्मीद है. बीपीसीएल के अनुसार दिसंबर में समाप्त तिमाही में शुद्ध लाभ में 120% की वृद्धि के साथ .6 2,777.6 करोड़ की वृद्धि दर्ज की. कंपनी ने एक साल पहले इसी अवधि में 1,260.6 करोड़ शुद्ध लाभ अर्जित किया था. बीपीसीएल के निदेशक (वित्त) एन विजयगोपाल ने कहा, “इस वित्त वर्ष में कर के बाद तीसरी तिमाही कर और लाभ से पहले लाभ के मामले में सबसे मजबूत है. हम बिक्री के पूर्व-सीओवीआईडी ​​स्तरों पर हैं.” 

    अगले दस दिनाें ओमान ऑयल कंपनी के शेयर खरीदेगी
    BPCL ने मंगलवार को कहा कि वह अगले 10 दिनों में बीना रिफाइनरी प्रोजेक्ट में ओमान ऑयल कंपनी के शेयर (Oman Oil Company’s shares) खरीदेगी. BPCL की भारत ओमान रिफाइनरीज लिमिटेड (BORL) में 63.68% हिस्सेदारी है, जो मध्य प्रदेश के बीना में 7.8 मिलियन टन तेल रिफाइनरी का निर्माण और संचालन करती है. बीपीसीएल के निदेशक ने हम अगले 10 दिनों में या इसके बाद हिस्सेदारी के अधिग्रहण की घोषणा के साथ आ सकते हैं. OQ S.A.O.C. पहले ओमान ऑयल कंपनी के रूप में जाना जाता था. उन्होंने कहा, “अधिग्रहण की कीमत जैसे सौदे का विवरण अगले 10 दिनों में घोषणा की संभावना का हिस्सा बन जाएगा.”

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज