लाइव टीवी

नौकरी करने वाले टैक्सपेयर्स को Budget 2020 में मिल सकती है खुशखबरी, इस शर्त पर Income Tax में मिलेगी राहत

hindi.moneycontrol.com
Updated: January 15, 2020, 11:51 AM IST
नौकरी करने वाले टैक्सपेयर्स को Budget 2020 में मिल सकती है खुशखबरी, इस शर्त पर Income Tax में मिलेगी राहत
टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत दे सकती है सरकार

इस साल बजट (Budget 2020) में सरकार नौकरी करने वाले टैक्सपेयर्स (Taxpayers) को बड़ी राहत दे सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. इस साल बजट (Budget 2020) में सरकार नौकरी करने वाले टैक्सपेयर्स (Taxpayers) को बड़ी राहत दे सकती है. फाइनेंस मिनिस्ट्री (Finance Ministry) बजट में ऐसी स्कीम का ऐलान कर सकती है कि अगर आप छूट का मोह छोड़ देते हैं तो आपको लोअर फ्लैट रेट पर टैक्स चुकाना पड़ेगा. इनकम टैक्स का यह स्ट्रक्चर ठीक वैसा ही हो सकता है जैसा सितंबर 2019 में कॉरपोरेट टैक्स रेट पेश किया गया था. तब निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया था कि जो कंपनियां किसी तरह के छूट का इंसेंटिव्स का फायदा नहीं लेती हैं उनके लिए कॉरपोरेट टैक्स 30 फीसदी से घटाकर 22 फीसदी कर दिया गया. नई मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के लिए कॉरपोरेट टैक्स 15 फीसदी तक रखा गया है.

लाइव मिंट के मुताबिक, इस मामले की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने बताया कि पिछले साल कॉरपोरेट टैक्स में छूट देने के बाद सरकार अब इंडिविजुअल टैक्सपेयर्स को राहत देने की तैयारी में है. टैक्स स्लैब में किसी बड़े बदलाव के लिए तो अभी इंतजार करना होगा लेकिन कॉरपोरेट सेक्टर जैसा ही इंडिविजुअल टैक्सपेयर्स के लिए कोई स्कीम इस बार बजट में आ सकता है.

ये भी पढ़ें: Railway ने शुरू की नई सर्विस! चार्ट बनने के बाद भी मिल सकती है कन्फर्म सीट

मौजूदा टैक्स स्लैब?

फिलहाल 2.5 लाख रुपए की टैक्सेबल इनकम पर कोई टैक्स नहीं देना पड़ता है. 2.5 लाख रुपए से लेकर 5 लाख रुपए तक के टैक्सेबल इनकम पर 5 फीसदी के हिसाब से टैक्स लगता है. 5 लाख रुपए से लेकर 10 लाख रुपए तक की टैक्सेबल आमदनी पर 20 फीसदी टैक्स लगता है. जबकि 10 लाख रुपए से ज्यादा टैक्सेबल इनकम पर 30 फीसदी का टैक्स देना पड़ता है. इसके अलावा 50 लाख रुपए से ज्यादा की टैक्सेबल आमदनी वाले सुपर रिच टैक्सपेयर्स पर सरचार्ज भी लगाती है.

सूत्रों का कहना है कि सरकार इनकम टैक्स का फ्लैट रेट 5 फीसदी से लेकर 30 फीसदी के बीच में रख सकती है. मुमकिन है कि यह रेट 15-18 फीसदी के बीच रह सकता है. साथ ही यह भी हो सकता है कि फ्लैट रेट सिर्फ 50 लाख रुपए से ज्यादा सालाना आमदनी वाले टैक्सपेयर्स के लिए लागू हो.

ये भी पढ़ें: 2000 रुपये तक की शॉपिंग के लिए RBI का नया फैसला, ग्राहकों पर होगा सीधा फायदा छूट का हिसाब?
फिलहाल इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक की छूट है. इसके अलावा सेक्शन 80CCD (1B) के तहत NPS में निवेश करने पर 50,000 रुपए की अतिरिक्त टैक्स छूट का फायदा मिलता है. इसके साथ ही हेल्थ इंश्योरेंस का प्रीमियम देने पर भी 25,000 रुपए तक टैक्स छूट का लाभ मिलता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 11:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर