लाइव टीवी

सरकार ने पिछले बजट की कितनी घोषणाएं नहीं की पूरी, यहां जानें पूरा लेखा-जोखा

hindi.moneycontrol.com
Updated: January 30, 2020, 7:26 PM IST

हर साल बजट (Budget) में कई घोषणाएं होती है, लेकिन सभी पूरी नहीं हो पाती हैं. पिछले बजट में निर्धारित ग्रोथ, विनिवेश, राजस्व वसूली और घाटे का लक्ष्य पूरा नहीं हो पाया है. निवेश बढ़ाने को लेकर जो उम्मीदें थीं वो अधूरी रह गई हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. हर साल बजट (Budget) में कई घोषणाएं होती हैं, लेकिन सभी पूरी नहीं हो पाती हैं. पिछले बजट में निर्धारित ग्रोथ, विनिवेश, राजस्व वसूली और घाटे का लक्ष्य पूरा नहीं हो पाया है. निवेश बढ़ाने को लेकर जो उम्मीदें थीं वो अधूरी रह गई हैं. वित्त मंत्री (Finance Minister) निर्मला सीतारमण ने पिछले साल बजट में ऐसी क्या घोषणाएं कीं जो अभी तक पूरी नहीं हो सकीं.

वित्त वर्ष 2019-20 का नॉमिनल GDP ग्रोथ का लक्ष्य 12 फीसदी रखा गया था. इसमें पहले से अनुमानित आंकड़ों के मुकाबले महज 7.5 फीसदी ग्रोथ देखने को मिली. इसी तरह वित्त वर्ष 2019-20 में राजस्व वसूली का लक्ष्य करीब 24.50 लाख करोड़ रुपये का था. इस वसूली में भी 2.50 लाख करोड़ रुपये की कमी की आशंका है.

ये भी पढ़ें: खाली बर्थ के लिए ट्रेन में अब नहीं काटने होंगे टीटीई के चक्कर, रेलवे ने शुरू की नई सर्विस



वित्त वर्ष 2019-20 में विनिवेश का लक्ष्य 1.05 लाख करोड़ रुपये रखा गया था. जबकि वास्तविकता ये है कि विनिवेश का 20 फीसदी लक्ष्य भी पूरा नहीं हो सका है. चौथी तिमाही में खर्च में 2 लाख करोड़ रुपये कमी की आशंका है. सुपररिच टैक्स लगाने के लिए सरचार्ज बढ़ाया गया. 2.5 करोड़ रुपये और 5 करोड़ रुपये से ज्यादा आय पर क्रमश: 3% व 7% सरचार्ज लगाया गया था. भारी विरोध के बाद सरकार ने इसे वापस ले लिया.

ये भी पढ़ें: लाखों लोगों का PF खाता हुआ ब्लॉक, आप भी ऐसे करें पता

इसके अलावा पिछले बजट में ओवरसीज सॉवरेन बॉन्ड लाने, क्रेडिट गारंटी एनहांसमेंट कॉरपोरेशन बनाने और लिस्टेड कंपनी में पब्लिक हिस्सेदारी बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया था. SEBI को लिस्टेड कंपनी में पब्लिक हिस्सेदारी 25% से 35% बढ़ाने को कहा गया था. सोशल स्टॉक एक्सचेंज के गठन का निर्णय लिया गया था. इसमें सामाजिक, स्वैच्छिक संस्थाओं की लिस्टिंग होनी थी. इसके लिए इलेक्ट्रॉनिक तरीके से फंड इकट्ठा करने का लक्ष्य रखा गया था. लेकिन सच्चाई ये है कि अभी तक इसे लागू करने की संभावनाओं का ही अध्ययन हो रहा है. 5 साल में 1.25 लाख किलोमीटर ग्रामीण सड़क बनाने का लक्ष्य भी पूरा नहीं हो सका है.

(आलोक प्रियदर्शी, संवाददाता- CNBC-आवाज़)

ये भी पढ़ें: सिर्फ 10 साल बन जाएं कंजूस, इस सरकारी स्कीम में बन जाएगा 23 लाख रुपये का फंड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 6:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर