विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों को देना होगा 2 फीसदी एक्सट्रा टैक्स, जानें आपकी जेब पर कैसे असर डालेगा ये फैसला

सेल के लिए ई-कामर्स कंपनियों के कर्मचारी तैयारी करते हुए (फोटो:एएफपी)

सेल के लिए ई-कामर्स कंपनियों के कर्मचारी तैयारी करते हुए (फोटो:एएफपी)

व्यापारियों के संगठन कैट (CAIT) ने विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों पर 2 फीसदी एक्सट्रा टैक्स लगाने के बजट प्रस्ताव का स्वागत किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 7:30 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने 1 फरवरी 2021 को संसद में बजट 2021-22 (Budget 2021) पेश किया. बजट के प्रावधानों के मुताबिक, विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों को सामान या सेवाओं की बिक्री पर 2 फीसदी अतिरिक्त टैक्स देना होगा. बजट के प्रावधान पर भ्रम की स्थिति हो गई है कि क्या भारत में काम कर रही विदेशी कंपनियां, जो यहां टैक्स देती हैं उन पर भी ये टैक्स लगेगा.

केंद्र सरकार ने साफ किया है कि ऐसी विदेशी ई-काॅमर्स कंपनियों पर यह नियम लागू होंगे, जो यहां किसी भी तरह का टैक्स नहीं चुकाती हैं. उदाहरण के लिए अमेजन अपने अमेरिका वाले पोर्टल के जरिये किसी व्यक्ति को भारत में सामान बेचती है तो उसे यहां 2 फीसदी एक्वालिसशन लेवी देनी होगी. वहीं, Amazon.in के जरिए भारत में कोई बिक्री होती है तो उसे एक्वालिसशन लेवी नहीं देनी होगी.

ये भी पढ़ें- ऑस्ट्रेलियाई PM मॉरिसन बोले- गूगल का गैप भर सकती है माइक्रोसॉफ्ट Bing

पहले से है एक्वालिसशन लेवी का प्रावधान
टैक्स एक्सपर्ट विकास पंजियार ने बताया कि एक्वालिसशन लेवी (Equalisation Levy) का प्रावधान पहले से है. ये लेवी इनकम टैक्स का हिस्सा है, जो कंपनियों को देनी होती है. सरकार ने बजट के जरिये इन चीजों में स्पष्टता लाई है. अलीबाबा जैसी विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों को सामान या सेवाओं की बिक्री पर 2 फीसदी एक्सट्रा टैक्स देना होगा. भारत से संचालित ई-कॉमर्स कंपनियों पर यह नियम लागू नहीं होगा. इसलिए आम ग्राहकों पर कोई खास असर नहीं होगा.

ये भी पढ़ें- Paytm यूजर्स को झटका! अब क्रेडिट कार्ड से वॉलेट में पैसे ऐड करना हुआ और महंगा, जानें कितना लगेगा एक्‍सट्रा चार्ज

CAIT ने किया फैसले का स्वागत



व्यापारियों के संगठन कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (Confederation Of All India Traders) ने विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों पर 2 फीसदी एक्सट्रा टैक्स लगाने के बजट प्रस्ताव का स्वागत किया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज