Home /News /business /

Budget 2021: बजट से आम आदमी को हैं कई उम्मीदें, टैक्स स्लैब को लेकर ये एक्सपर्ट की राय

Budget 2021: बजट से आम आदमी को हैं कई उम्मीदें, टैक्स स्लैब को लेकर ये एक्सपर्ट की राय

देश में कोरोना संक्रमण के मामले एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगे हैं.

देश में कोरोना संक्रमण के मामले एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगे हैं.

Budget 2021: काफी समय से टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है, जबकि मंहगाई ने लिविंग ऑफ कॉस्ट को काफी बड़ा दिया है. टैक्स स्लैब में बदलावों से सैलरी क्लास को राहत मिलेगी साथ ही इससे कंज्प्शन भी बढ़ेगा.

    नई दिल्ली. कोरोना काल में बजट को लेकर सबसे ज्यादा उत्सुकता आम आदमी को है. विशेषज्ञों का कहना है कि महामारी से धीरे-धीरे उबर रही अर्थव्यवस्था को सरकारी सहायता की जरुरत समय की मांग है. हर वित्त वर्ष का बजट (Budget 2021) पेश करने से पहले इनकम टैक्स में छूट की मांग तेज हो जाती है. जानकारों की मानें तो सरकार नई और पुरानी रिजीम दोनों में बड़े बदलाव कर सकती है. बजट में न्‍यू रिजीम को ज्यादा आकर्षक बनाने का ऐलान किया जा सकता है. साथ ही ज्यादा छूट देने के लिए न्‍यू रिजीम स्लैब में बदलाव किया जा सकता है.

    कैपिटल फ्लोट के सह-संस्थापक और एमडी शशांक ऋषिश्रिंग का कहना है कि वर्क फ्रॉम होम से हुए खर्चों के चलते यदि टैक्स में कुछ राहत मिलती है तो इसका पूरा देश खुले हाथ से स्वागत करेगा. उन्होंने कहा कि खासकर मध्यवर्ग इनकम टैक्स एक्ट के सेक्‍शन 80C के तहत मिलने वाली छूट में बढ़ोत्तरी की उम्मीद कर रहे हैं. वर्तमान में 80C, 80CCC और 80CCD(1) के तहत एक साल में कुल 1.50 लाख रुपये की आमदनी पर आयकर से छूट मिलती है. बता दें कि कई टैक्‍स सेविंग्‍स निवेश इस सेक्‍शन के तहत आते हैं. इसे बढ़ाकर 3 लाख रुपये करने की उम्मीद लोग वित्त मंत्री से लगाए हुए हैं.

    टैक्‍स स्‍लैब में लंबे समय से प्रभावी राहत के उपाय नहीं हुए
    स्क्रिप्प बॉक्स के सह-संस्थापक और मुख्य व्यवसाय अधिकारी प्रतीक मेहता कहते हैं, “टैक्स स्लैब लंबे समय से एक ही है, जबकि मुद्रास्फीति ने जीवन की लागत को ऊपर की ओर धकेल दिया है. वेतनभोगी वर्ग और स्पर उपभोग को राहत देने के लिए टैक्स स्लैब को ऊपर की ओर संशोधित करना समझ में आता है. स्क्रिप्प बॉक्स के कॉ-फाउंडर एवं चीफ बिजनेस ऑफिसर का कहना है कि टैक्स स्लैब लंबे समय से एक जैसा ही है, जबकि मंहगाई काफी बढ़ी है. टैक्स स्लैब में बदलाव से आम आदमी को काफी राहत मिलेगी. टैक्सेशन के पॉइंट से एक्सपर्ट का कहना है कि उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए कुछ कर सुधारों की आवश्यकता है. जिससे इनकम टैक्स देनदारी में टैक्सपेयर्स को 50,000-80,000 तक की बचत हो सकती है.

    ये भी पढ़ें : Budget 2021: बेहद सरल भाषा में खुद ही समझ सकते हैं बजट, ये रही इससे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी

    न्‍यू रिजीम के टैक्‍स स्‍लैब में हो सकता है बदलाव 
    बजट के दौरान दो ऐलान देखने को मिल सकते हैं जिसमें से पहला है इनकम टैक्स की पुरानी व्यवस्था के तहत जिसको ओल्ड रिजीम कहते हैं दूसरा नई व्यवस्था के तहत. पिछले साल सरकार ने नई रिजीम व्यवस्था को लॉन्च किया था. इस रिजीम में स्लैब की दरों में कुछ फेरबदल संभव है जिससे इसे और अधिक आकर्षक बनाया जा सकता है. इसमें स्लैब की दरों को कुछ इस तरह रखने की उम्मीद है जिससे लोग पुरानी व्यवस्था को छोड़कर नई व्यवस्था को अपनाएं. इससे इनकम टैक्स में छूट मिलेगी.

    ये भी पढ़ें : पीएम आवास, जीएसटी और जनधन जैसे बड़े फैसलों का नहीं हुआ बजट में ऐलान, जानें कैसे थे मोदी सरकार के पिछले 8 बजट

    न्‍यू रिजीम में रखे गए हैं 7 टैक्‍स स्‍लैब 
    पिछले साल के केंद्रीय बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक नई आयकर व्यवस्था पेश की थी जिसमें सात टैक्स स्लैब को शामिल किया गया था. शून्य, 5%, 10%, 15%, 20%, 25% और 30%. जबकि पुराने टैक्स नियम में चार स्लैब शून्य, 5%, 20% और 30% शामिल थे. ये दोनों ही टैक्स नियम करदाता के लिए चालू थे. हालांकि, नई आयकर व्यवस्था में 5 लाख से 15 लाख रुपये के बीच आय पर कर की दरें कम हैं, लेकिन कर में कोई छूट और कटौती नहीं मिलेगी.

    Tags: Budget 2021, Business news in hindi, Union Budget 2021

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर