अपना शहर चुनें

States

Budget 2021: PMFAI की कीटनाशकों पर जीएसटी को 18 फीसदी से घटाकर 5% करने की मांग

केंद्रीय बजट 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा.
केंद्रीय बजट 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा.

पीएमएफएआई (PMFAI) ने मांग की है कि आगामी बजट में सरकार को कीटनाशकों पर जीएसटी (GST) को मौजूदा 18 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी करना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2021, 10:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पेस्टिसाइड मैनुफैक्चरर्स एंड फार्मुलेटर्स एसोसएिशन ऑफ इंडिया (Pesticides Manufacturers and Formulators Association of India) ने मांग की है कि आगामी बजट (Budget 2021) में सरकार को खेती के कामकाज में उपयोग किए जाने वाले बीज और उर्वरकों की तरह ही कीटनाशकों पर जीएसटी (GST) को मौजूदा 18 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी करना चाहिए.

आयात शुल्क बढ़ाने की मांग
एक बयान में कहा गया है कि इसके अलावा, सरकार को घरेलू कृषि रसायन उद्योग की सुरक्षा के लिए टेक्नीकल और तैयार कीटनाशकों पर आयात शुल्क (Import Duty) 20-30 फीसदी तक बढ़ाने के अलावा कीटनाशकों के ड्यूटी ड्राबैक (Export Benefits) को वर्तमान दो फीसदी से बढ़ाकर 13 फीसदी करना चाहिए.

ये भी पढ़ें- अवैध गतिविधियों के चलते एप्पल और अमेजन ने 'Parler' को अपने प्लेटफॉर्म से हटाया
पीएमएफएआई ने की वित्तीय सहायता की मांग


पीएमएफएआई ने सरकार से मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत स्वदेशी मध्यवर्ती और तकनीकी ग्रेड कीटनाशकों के लिए प्रौद्योगिकियों के विकास के लिए वित्तीय सहायता और अन्य विकास सहायता दिए जाने का आग्रह किया. इसमें कहा गया है कि देश में लगभग 200 से अधिक छोटे, मध्यम और बड़े पैमाने पर भारतीय कीटनाशक निर्माताओं, फॉर्मूलेटरों, और व्यापारियों का प्रतिनिधित्व करने वाली- पीएमएफएआई की चार प्रमुख मांगें थीं, जो उर्वरक और रसायन मंत्रालय को दिये गए ज्ञापन में शामिल किया गया है.

ये भी पढ़ें- Gas Booking: Pockets वॉलेट से सिलेंडर बुक करने पर मिलेगा 50 रुपये का कैशबैक, जानिए पूरा प्रोसेस

पीएमएफएआई के अध्यक्ष प्रदीप दवे ने कहा, ''जीएसटी कटौती से भारत में कुल किसानों में से तीन-चौथाई किसानों को अपने दायरे में लाने में मदद मिलेगी, जो फिलहाल बाहर हैं. इससे इन किसानों को, राजकोष को कोई खास नुकसान पहुंचाए बिना अपनी फसलों की रक्षा करने में मदद मिलेगी. इससे किसानों को कम से कम नुकसान और फसलों की कटाई का बेहतर लाभ लेने में मदद मिलेगी.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज